★ प्रशस्ति क्या है

ग्वालियर प्रशस्ति

मिहिरकुल की ग्वालियर प्रशस्ति एक शिलालेख है जिस पर संस्कृत में मातृछेत द्वारा सूर्य मन्दिर के निर्माण का उल्लेख है। अलेक्जैण्डर कनिंघम ने १८६१ में इसे देखा था और इसके बारे में उसी वर्ष प्रकाशित किया। उसके बाद इस शिलालेख के अनेकों अनुवाद प्रकाशित हो चुके हैं। यह क्षतिग्रत अवस्था में विद्यमान है। इसकी लिपि प्राचीन उत्तरी गुप्त लिपि है और श्लोक के रूप में लिखा गया है। इस शिलालेख में हूण राजा मिहिरकुल के शासनकाल में, ६ठी शताब्दी के प्रथम भाग में सूर्य मन्दिर के निर्माण का उल्लेख है। यह लेख एक प्रस्तर पर उत्कीर्ण है जो प्रशस्ति के रूप में है। इस लेख में 17 श्लोक हैं। यह प्रशस्ति तिथि विहीन है। ...

देवेन्द्र कुमार जोशी

एडमिरल देवेन्द्र कुमार जोशी भारत के २१वें नौसेनाध्यक्ष थे। वे 31 अगस्त 2012 से 26 फ़रवरी 2014 तक इस पद रहे। उन्होंने एडमिरल निर्मल वर्मा से यह पदभार ग्रहण किया था तथा उनके त्यागपत्र के पश्चात् वाइस एडमिरल रॉबिन धवन इस पद पर आए।

२८०७ ईसा पूर्व

२८०७ ईसा पूर्व ईसा मसीह के जन्म से पूर्व के वर्षों को दर्शाता है। ईसा के जन्म को अधार मानकर उसके जन्म से २८०७ ईसा पूर्व या वर्ष पूर्व के वर्ष को इस प्रकार प्रदर्शित किया जाता है। यह जूलियन कलेण्डर पर अधारित एक सामूहिक वर्ष माना जाता है। अधिकांश विश्व में इसी पद्धति के आधापर पुराने वर्षों की गणना की जाती है। भारत में इसके अलावा कई पंचाग प्रसिद्ध है जैसे विक्रम संवत जो ईसा के जन्म से ५७ या ५८ वर्ष पूर्व शुरु होती है। इसके अलावा शक संवत भी प्रसिद्ध है। शक संवत भारत का प्राचीन संवत है जो ईसा के जन्म के ७८ वर्ष बाद से आरम्भ होता है। शक संवत भारत का राष्ट्रीय कैलेंडर है।

                                     
  • इस कल ग चक रवर त कह ज त ह उदयग र म ह थ ग फ क ऊपर एक अभ ल ख ह ज सम इसक प रशस त अ क त ह उस प रशस त क अन स र यह ज न धर म क अन य य
  • स चन लग क यज ञ क व स तव क अर थ क य ह उनक भ तर क न स रहस य ह व धर म क क स र प क प रत क ह क य व हम ज वन क चरम लक ष य तक पह च
  • व स त क क क य प रय जन? य उनक उसक य ग स क य स ब ध? सच त यह ह क व स त कल न क ई प थ ह न श ल वरन यह त व क स क अट ट क रम ह इसल ए व स त क
  • प रत भ क धन ड ड क श ब क आज उन ह यशस व ल ग म ग न ज त ह क श ब क य - क छ नह थ गण त क वह प रक ड व द व न थ और अ त म समय तक उसक श क ष
  • यह स चत थ क जब अ ग र ज क ह यह श सन करन ह त फ र क य न उनस म त रत बन कर और उनक प रशस त - स त त य ज ह ज र करक अपन ल य क छ व श ष
  • म ग स ट बन पर श र वल ह उसफ ल 4 म ह ई एक और एक ट र स क ए ट र क य आप ज नत ह इनक ब र म फर स टप स ट. 2018 - 05 - 26. अभ गमन त थ 2018 - 06 - 25
  • रह ह त उन ह न म गर प र जक म र स प छ - क य त म ह उस य ग क न व स क ब र म क छ पत ह क य त म म झ उसक प स ल कर चल सकत ह उस र जक म र
  • ह ज नम प रक त क प रशस त म ल ख गए छ द क स दर स कलन ह ज वन क अन क अन य व षय क भ इन कव त ओ म स थ न म ल ह क व यम म स स स क त
  • अभय प रद न क य अन क भक त क द क ष द कर उन ह आध य त म क म र ग म प रशस त क य प र र भ क वर ष म स व म य ग नन द न उनक स व क द य त व ल य
  • ज त ह : य क य ह उनक आवश यकत क य ह क न स वस त सरक र क व ध बन त ह क न अध क र और स वत त रत ओ क रक ष करन सरक र क कर तव य ह व ध
  • पर भ ष त क य ज सकत ह ज सम हम ज नत ह नह क हम क य कह रह ह न ह हम यह पत ह त ह क ज हम कह रह ह वह सत य भ ह य नह गण त क छ अम र त
  • उपलबध ह त ह इन श ल ओ क स ख य लगभग 30 ह स भ ग य स इनम क वल ई. प र व त त य शत क प र क त भ ष क स वर प स रक ष त ह क त उन प रशस त य म तत क ल न
                                     
  • क आध र पर म न ल य ज त ह क उसक आवश यकत ए क मन ए और च लक - तत त व क य - क य ह सकत ह इस न र ध र त और प रदत त म नव य प रक त क आध र पर सत रहव
  • आग, सबस श र ष ठ वह ब र ह मण ह ह ज सम तप - त य ग त जस व सम म न ख जत नह ग त र बतल क प त ह जग म प रशस त अपन करतब द खल क ह न म ल क
  • ह ए ल ग कहत ह - क य त म म झ ज नत ह ? क य त म म झ ज नत ह ? जब तक वह इस शर र स उत क रमण नह करत तब तक उन ह ज नत ह 4 फ र ज स समय यह
  • ओर अज ञ न क अ ध र छ य ह यह ल ग र त - च ल ल त रह और त म ह म लय क क स ग फ म सम ध क आनन द म न मग न रह क य त म ह र आत म स व क र ग
  • स वर प क य थ ? इसम कब - कब, क य - क य पर वर तन ह ए और उन पर वर तन क क य क रण ह ? अथव क ल म ल कर भ ष क स व कस त ह ई ? उस व क स क क य क रण ह
  • 1066 स पहल ब र ट न म थ बहस आज ज र ह ल क न आम सहमत क न र म ण ह त ह इ ग ल ड स पहल व जय प रशस त ह ज स म तव द म व यक त गत तत व म स
  • प रय ग प रशस त ग प त र जव श सम र ट सम द रग प त ह त र जकव हरष ण व रच त, इल ह ब द म प रस य स गम स थ प त अश क स त भ पर ख द ह ई प रशस त ज गरण य त र
  • द त ह र ष ट रव द क प रश न क स थ कई स द ध त क उलझन ज ड ह ई ह   मसलन, र ष ट रव द और आध न क स स क त व प ज व द क आपस स ब ध क य ह पश च म
  • अर ज त करन पड ज न गढ अभ ल ख म उसक व जय तथ उसक व यक त त व क प रशस त ह र द रद मन प रथम क उत तर ध क र उसक ज य ष ठ प त र द मघसद प रथम ह आ
  • म कई सम ज स वक क बल म ल ज स सम ज च क सम व श व क सक म र ग भ प रशस त ह आ मह ल भ ब हद प रभ व त रह उत त तर - प रद श सच व लय म क र यरत श र मत
  • नह म ड न च ह ए उन ह न जब उसस प छ क क य श स र म क स भ स थ त म धर म स व म ख ह न क कह गय ह त तपस व एकदम च प ह गय उनक तर कप र ण
                                     
  • शक त स वर प प र वत न म नव स ष ट क म र ग प रशस त क य फ ल ग न क ष ण चत र दश क ह मह श वर त र मन न क प छ क रण ह क इस द न क ष ण च द रम क म ध यम स
  • भ ज न क य - क य ज य त र उन ह न अपन ज वन म क वह य त र उनक रचन धर म त क भ य त र थ र ह लज क क त य क स च बह त ल ब ह उनक स ह त य
  • सम पन न ह आ द ब त ग र सत त द व र व श ष र प स कह गई - स स र ल ग क य करत ह और क य कहत ह उसक ओर स म ह म ड कर न र ध र त लक ष य क ओर एक क स हस
  • म न ज त ह इसक अत र क त स थ र यव च रप रकरण और श वशक त स द ध न मक द द र शन क ग र थ क श र हर ष न न र म ण क य थ व जय प रशस त ग ड व शक लप रशस त
  • आय जन क य गय ज सम तत क ल न गवर नर म त ल ल व र न एक ल ख क धनर श व प रशस त पत र उन ह द कर सम म न त क य ख म र क अ त म समय क फ कष टप रद रह म त य
  • प र रण द य ह स व म दय न द सरस वत स ह ई एक भ ट और पत न श व द व क पत व रत धर म तथ न श छल न ष कपट प र म व स व भ व न उनक ज वन क क य स क य बन द य
  • उल ल ख त पर ज त नर श र द रद व स स द ध करत ह प रशस त क व श ल षण स यह सम करण कद प य क त य क त नह ह क र द रद व तथ व क टक मह र ज प रथम र द रस न
  • इस ग त क प रशस त म वन द म तरम श र षक स एक स वरच त उर द गजल द थ ज उस क लखण ड क अस ख य अन म ह त त म ओ क आव ज क अभ व यक त द त ह ब र ट श
  • उल ल ख क य गय ह क वल यह ऐस नद ह ज सक ल ए ऋग व द क ऋच और म प र तरह स समर प त स तवन द य गय ह प रशस त और स त त व द क
  • दक ष ण म स हल तक फ ल ह आ थ प रय ग क प रशस त म सम द रग प त क स ध व ग रह क मह द डन यक हर प ण न ल ख ह प थ व भर म क ई उसक प रत रथ नह थ
  • तत त वम म स क प रश न जगत क य ह ज व क य ह आद म न उलझकर म ख यत म क ष व ल दर शन क प रस त त करत ह क न त म क ष पर चर च करन व ल प रत य क
                                     
  • क क ष त र म भ अ ग र ज भ ष क ह प रय ग सबस अध क ह त ह 1997 म व ज ञ न प रशस त पत र स चक क क अन स र उसक 95 ल ख अ ग र ज म थ ह ल क
  • ग ह पर सर म ह अ त य ष ट कर द ज य त इसम क य आपत त ह सकत ह ʼ ऐस क छ भ व आच र य क मन म आत ह सग त र ल ग द र स ह आच र य क द व व ध क
  • अवच तन स बत य त ह व ज ञ पन स झ व ऐस द त ह - म स न थ ल इस त म ल करत ह क य आप करत ह हमक ब न न ज म गत आपक क य म गत फ न ह ल न
  • य द ध ज न ह न भ रत क इत ह स बदल कर रख द य सन 1757 क पल स क लड ई क य हम ज ह ल थ Hand coloured map of the battle from the London Magazine, printed
  • र जन त क पर स थ त य न क र त क म र ग प रशस त क य फ र स क अर जकप र ण स थ त क ब र म य कह ज सकत ह क ब र व यवस थ क त क ई प रश न नह
  • ह त ह क उनक अध नस थ क न - क न व यक त ह और क स क य - क य क र य करन ह स द ढ स गठन यथ र थ एव प रभ वप र ण प रत य य जन क स व ध जनक बन त ह 3 भ रष ट च र
  • ब न द पर यह सव ल उठत ह क श तय द ध क ल न द र म न र म त इस स गठन क श त य द ध क अ त क ब द म ज द रहन क क य औच त य ह श त य द ध त तर क ल म
  • इसप रक र अन त ह ज त ह ज स स र य क उद त ह न स बर फ प घल ज त ह फ र जल भ ष क क महत व क त ब त ह क य ? अर थ त अनन त मह त म ह प रशस य ग प गय क त:
  • मठ और व ह र थ अश क क स त भ अबतक क ल क भ तर खड ह ज सम सम द रग प त क प रशस त ख द ह ई ह फ ह य न न मक च न य त र सन ई म आय थ उस
  • और उसक दमन करन क एक क र र य क त ह और इसक उच त न म बदन म ह ग एक सभ यत क ब र म और क य कह ज सकत ह ज सन ल ग क एक बह त बड वर ग क व कस त
  • बह त प रचल त प स तक ह अध कतर र मल ल ए इस प स तक पर आध र त ह र म यण र सल ल ल ल र मल ल क व श व क परम पर प ञ चजन य क य ह र मल ल द न क भ स कर
  • ह यह तन मन क तन व द र करत ह स वभ व क कर कशत म ट त ह आत मन र क षण और आत मपर ष क र क स थ ह म ठ ढ ग पर सम जस ध र क म र ग प रशस त करत ह

शब्दकोश

अनुवाद
Free and no ads
no need to download or install

Pino - logical board game which is based on tactics and strategy. In general this is a remix of chess, checkers and corners. The game develops imagination, concentration, teaches how to solve tasks, plan their own actions and of course to think logically. It does not matter how much pieces you have, the main thing is how they are placement!

online intellectual game →