ⓘ रानीबाग हल्द्वानी नगर का एक आवासीय क्षेत्और वार्ड है, जो नगर के केंद्र से ८ किमी उत्तर में राष्ट्रीय राजमार्ग १०९ पर स्थित है। यह क्षेत्र हल्द्वानी नगर निगम की ..

                                     

ⓘ रानीबाग

रानीबाग हल्द्वानी नगर का एक आवासीय क्षेत्और वार्ड है, जो नगर के केंद्र से ८ किमी उत्तर में राष्ट्रीय राजमार्ग १०९ पर स्थित है। यह क्षेत्र हल्द्वानी नगर निगम की उत्तरी सीमा बनाता है। कहते हैं यहाँ पर मार्कण्डेय ॠषि ने तपस्या की थी। रानीबाग के समीप ही पुष्पभद्रा और गगार्ंचल नामक दो छोटी नदियों का संगम होता है। इस संगम के बाद ही यह नदी गौला के नाम से जानी जाती है। गौला नदी के दाहिने तट पर चित्रेश्वर महादेव का मन्दिर है। यहाँ पर मकर संक्रान्ति के दिन बहुत बड़े मेले का आयोजन होता है, जिसे जिया रानी का मेला के नाम से जाना जाता है।

                                     

1. इतिहास

रानीबाग से पहले इस स्थान का नाम चित्रशिला था। कहते हैं कत्यूरी राजा पृथवीपाल की पत्नी रानी जिया यहाँ चित्रेश्वर महादेव के दर्शन करने आई थी। वह बहुत सुन्दर थी। रुहेला सरदार उसपर आसक्त था। जैसे ही रानी नहाने के लिए गौला नदी में पहुँची, वैसे ही रुहेलों की सेना ने घेरा डाल दिया। रानी जिया शिव भक्त और सती महिला थी। उसने अपने ईष्ट का स्मरण किया और गौला नदी के पत्थरों में ही समा गई। रुहेलों ने उन्हें बहुत ढूँढ़ा परन्तु वे कहीं नहीं मिली। कहते हैं, उन्होंने अपने आपको अपने घाघरे में छिपा लिया था। वे उस घाघरे के आकार में ही शिला बन गई थीं। गौला नदी के किनारे आज भी एक ऐसी शिला है, जिसका आकार कुमाऊँनी घाघरे के समान हैं। उस शिला पर रंग-विरंगे पत्थर ऐसे लगते हैं - मानो किसी ने रंगीन घाघरा बिछा दिया हो। वह रंगीन शिला जिया रानी के स्मृति चिन्ह माना जाता है। रानी जिया को यह स्थान बहुत प्यारा था। यहीं उसने अपना बाग लगाया था और यहीं उसने अपने जीवन की आखिरी सांस भी ली थी। वह सदा के लिए चली गई परन्तु उसने अपने गात पर रुहेलों का हाथ नहीं लगन् दिया था। तब से उस रानी की याद में यह स्थान रानीबाग के नाम से विख्यात है।

१९वीं शताब्दी तक रानीबाग एक स्वतंत्र गाँव था, और 1901 में इसकी जनसंख्या लगभग 624 थी; उसी वर्ष इसे काठगोदाम के साथ जोड़कर नोटिफाइड एरिया घोषित कर दिया गया। काठगोदाम-रानीबाग 1942 तक स्वतंत्र नगर के रूप में उपस्थित रहा, जिसके बाद इसे हल्द्वानी नोटिफाइड एरिया के साथ जोड़कर नगर पालिका परिषद् हल्द्वानी-काठगोदाम का गठन किया गया। तब से ही रानीबाग हल्द्वानी नगर क्षेत्र का हिस्सा है। 80 के दशक में यहां हिन्दुस्तान मशीन टूल्स एच. एम. टी. की एक इकाई स्थापित की गई। 1982 में तत्कालीन उद्योग मंत्री पंडित नारायण दत्त तिवारी ने रानीबाग एचएमटी की नींव रखी, और 1985 में तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने इसका उद्घाटन किया था।

                                     

2. भूगोल

रानीबाग से दो किलोमीटर जाने पर एक दोराहा है। दायीं ओर मुड़ने वाली सड़क भीमताल को जाती है। जब तक मोटर - मार्ग नहीं बना था, रानीबाग से भीमताल होकर अल्मोड़ा के लिए यही पैदल रास्ता था। वायीं ओर का राश्ता ज्योलीकोट की ओर मुड़ जाता है। ये दोनों रास्ते भुवाली में जाकर मिल जाते हैं।

रानीबाग से सात किलोमीटर की दूरी पर दोगाँव नामक एक ऐसा स्थान है जहाँ पर सैलानी ठण्डा पानी पसन्द करते हैं। यहाँ पर पहाड़ी फलों का ढेर लगा रहता है। पर्वतीय अंचल की पहली बयार का आनन्द यहीं से मिलना शुरु हो जाता है।

                                     
  • र न ब ग ब त लघ ट तहस ल म भ रत क उत तर खण ड र ज य क अन तर गत क म ऊ मण डल क न न त ल ज ल क एक ग व ह उत तर खण ड क ज ल उत तर खण ड क नगर क म ऊ
  • र न ब ग क ल ढ ग तहस ल म भ रत क उत तर खण ड र ज य क अन तर गत क म ऊ मण डल क न न त ल ज ल क एक ग व ह उत तर खण ड क ज ल उत तर खण ड क नगर क म ऊ
  • र न ब ग च ह नप ट न न त ल तहस ल म भ रत क उत तर खण ड र ज य क अन तर गत क म ऊ मण डल क न न त ल ज ल क एक ग व ह उत तर खण ड क ज ल उत तर खण ड क
  • र न ब ग N.Z.A., ब त लघ ट तहस ल म भ रत क उत तर खण ड र ज य क अन तर गत क म ऊ मण डल क न न त ल ज ल क एक ग व ह उत तर खण ड क ज ल उत तर खण ड क नगर
  • र न ब ग N.Z.A., क ल ढ ग तहस ल म भ रत क उत तर खण ड र ज य क अन तर गत क म ऊ मण डल क न न त ल ज ल क एक ग व ह उत तर खण ड क ज ल उत तर खण ड क नगर
  • र न ब ग च ह नप ट N.Z.A., न न त ल तहस ल म भ रत क उत तर खण ड र ज य क अन तर गत क म ऊ मण डल क न न त ल ज ल क एक ग व ह उत तर खण ड क ज ल उत तर खण ड
  • नगर न गम हल द व न उत तर खण ड क हल द व न क ठग द म तथ र न ब ग नगर क न य त र त करन व ल न गर क न क य ह इसक स थ पन म तत क ल न हल द व न - क ठग द म
  • भ द श - व द श क पर यटक आत रहत ह हल द व न न न त ल स ज य ल क ट, र न ब ग और क ठग द म ह त ह ए हम हल द व न पह चत ह हल द व न भ बर म बस य
  • व ल एक छ ट स ग व थ तक इस र न ब ग क स थ ज ड कर न ट फ इड एर य घ ष त कर द य गय क ठग द म - र न ब ग तक स वत त र नगर क र प म उपस थ त
                                     
  • ह ए र मनगर, र ष ट र य र जम र ग स र द रप र, हल द व न क ठग द म, र न ब ग भ व ल ख न र और स आलब र ह त ह ए अल म ड र ज य र जम र ग स अल म ड
  • बड सकत ह श तल म त म द र नगर क उत तर पर वत य क ष त र क ठग द म क र न ब ग म स त थ श तल म त म द र बह त प रस द ध ह जह म त श तल द व क म द र
  • यह स ज य ल क ट 18 क ल म टर द र ह सडक म र ग र ष ट र य र जम र ग 87 स र न ब ग ह त ह ए आर म स ज य ल क ट पह च ज सकत ह न न त ल क दर शन य स थल न न त ल
  • बस तप र द न ब गर म म ल ग यह स क ठग द म तक च रगल य र ड, और फ र क ठग द म और र न ब ग क ब च म हन म न म द र क कर ब स बन रह प एमज एसव ई क सड क स ह त ह ए
  • ग ल नद हल द व न - क ठग द म म बहत ग ल नद द श भ रत शहर र न ब ग क ठग द म, हल द व न क च छ श ह स र त स त त ल - स थ न उत तर खण ड, भ रत म ह न
  • उत प द श र नगर घड प ज र मश न ट ल स, ट र क टर म ह ल ट र क टर र न ब ग घड अजम र मश न ट ल स ह दर ब द मश न ट ल स, ट र क टर, ब अर ग स त मक र

शब्दकोश

अनुवाद
Free and no ads
no need to download or install

Pino - logical board game which is based on tactics and strategy. In general this is a remix of chess, checkers and corners. The game develops imagination, concentration, teaches how to solve tasks, plan their own actions and of course to think logically. It does not matter how much pieces you have, the main thing is how they are placement!

online intellectual game →