ⓘ ग्वालियर प्रशस्ति. मिहिरकुल की ग्वालियर प्रशस्ति एक शिलालेख है जिस पर संस्कृत में मातृछेत द्वारा सूर्य मन्दिर के निर्माण का उल्लेख है। अलेक्जैण्डर कनिंघम ने १८६ ..

                                     

ⓘ ग्वालियर प्रशस्ति

मिहिरकुल की ग्वालियर प्रशस्ति एक शिलालेख है जिस पर संस्कृत में मातृछेत द्वारा सूर्य मन्दिर के निर्माण का उल्लेख है। अलेक्जैण्डर कनिंघम ने १८६१ में इसे देखा था और इसके बारे में उसी वर्ष प्रकाशित किया। उसके बाद इस शिलालेख के अनेकों अनुवाद प्रकाशित हो चुके हैं। यह क्षतिग्रत अवस्था में विद्यमान है। इसकी लिपि प्राचीन उत्तरी गुप्त लिपि है और श्लोक के रूप में लिखा गया है।

इस शिलालेख में हूण राजा मिहिरकुल के शासनकाल में, ६ठी शताब्दी के प्रथम भाग में सूर्य मन्दिर के निर्माण का उल्लेख है।

  • यह लेख एक प्रस्तर पर उत्कीर्ण है जो प्रशस्ति के रूप में है। इस लेख में 17 श्लोक हैं।
  • यह प्रशस्ति तिथि विहीन है।
  • यह प्रशस्ति ग्वालियर नगर से १ किलोमीटर पश्चिम में स्थित सागर नामक स्थान से प्राप्त हुई है।
  • इस लेख में राजाओं के नाम के साथ उनकी उपलब्धियों का वर्णन किया गया है।
  • इस लेख का उद्देश्य प्रतिहार राजवंश शासक वर्ग द्वारा विष्णु के मंदिर का निर्माण कराए जाने की जानकारी देना और साथ ही अपनी प्रशस्ति लिखवाना ताकि स्वयं को चिरस्थाई बना सकें।
  • यह प्रशस्ति विशुद्ध संस्कृत में लिखी गई है। इस प्रशस्ति के लेख की लिपि उत्तरी ब्राह्मी लिपि है।
  • इस अभिलेख का राजनीतिक महत्व यह है कि इस अभिलेख की चौथी पंक्ति से प्रतिहार वंश की वंशावली के बारे में सूचना प्रारंभ होती है।
  • यह प्रतिहार वंश के शासकों की राजनीतिक उपलब्धियों और उनकी वंशावलियों को ज्ञात करने का मुख्य साधन है।
  • इस प्रशस्ति का लेखक भट्ट धनिक का पुत्र बालादित्य है।
                                     
  • ग व ल यर द र ग ग व ल यर शहर क प रम खतम स म रक ह ग व ल यर द र ग क न र म ण बघ ल श सक स रजस न न क य बघ ल श सक न ग व ल यर पर लगभग 1000 स ल तक श सन
  • 26.14 N 78.10 E 26.14 78.10 ग व ल यर भ रत क मध य प रद श र ज य क एक प रम ख शहर ह भ ग ल क द ष ट स ग व ल यर म.प र. र ज य क उत तर म स थ त ह
  • पर प रत ह र क भ त स व क इस र जव श क उत पत त प र च न क ल न ग व ल यर प रशस त अभ ल ख स ज ञ त ह त ह अपन स वर णक ल स म र ज य पश च म म सतल ज
  • ग व ल यर नगर न गम GMC क स थ पन सन 1887 म ह ई थ यह भ रत क मध य प रद श म स थ त ग व ल यर शहर क नगर न गम ह और शहर क न गर क ब न य द ढ च और
  • न र म ण कर य थ व असल म न गभट ट द व त य ह थ न गभट ट द व त य क ग व ल यर प रशस त म उसक स न क उपलब ध य क उल ल ख ह उसन आ ध र, व दर भ, कल ग
  • ज न ज त थ अरब ल खक क अन स र ग र जर उनक सबस भय कर शत र थ ग व ल यर प रशस त अभ ल ख स इस व श क ब र म कई महत वप र ण ब त ज ञ त ह त ह न गभट ट
  • ग व ल यर व म न पत तन क व घ त त करण कर कर ग व ल यर म व य म र ग स य त य त क म र ग प रशस त क य ग व ल यर क य त य त व यवस थ क स च र बन न क ल ए
  • जगत स ह क ल ए जगत - व न द ग व ल यर क श सक द लतर व स ध य क सम म न म आल ज प रक श, जयप र नर श ईश वर स ह क प रशस त म ईश वर - पच स ज स स प रस द ध
  • श ल क जन म ग व ल यर म ह आ य मथ र क आस - प स, त आस न स यह न ष कर ष न क ल ज सकत ह क ब रजभ ष श ल क स म ए व स त त थ ग व ल यर और मथ र द न
  • और भ बढ गई द ल ल क ग न धर व स ग त मह व द य लय क स थ पन 1939 म ग व ल यर घर न क स ग तज ञ पद मश र व नयचन द र म द गल द व र क गय पहल यह कन ट
  • इसक श सन क ल 320 ई. स 335 ई. तक थ प र ण तथ हर ष ण ल ख त प रय ग प रशस त स चन द रग प त प रथम क र ज य क व स त र क व षय म ज नक र म लत ह
                                     
  • क उपर यत ट कड क र प म जम गय भ ज क स म र ज य : उदयप र क ग व ल यर प रशस त म ल ख ह क सम र ट भ ज क र ज य उत तर म ह म लय स दक ष ण म
  • आर य वर त क भ व ज त क य तथ न न ग र ज क अपन च कर बत य प रय ग प रशस त म इस व स त र स कह गय ह सम द रग प त तस हर षक ल तक क सम ज म ब र ह मण
  • क छ प श वर ल ग म डल य बन कर ल ल भ नय स अर थ प र जन करत ह भ रत क ग व ल यर जयप र, इल ह ब द आद नगर म इसक म क अभ नय dumbshows ह त ह प र व
  • क ष त र द ल ल क अध न कर द य ज सक स पष टत हम वनर ज र ज क गय प रशस त स म लत ह लखन त श सक ज स वतन त र ह गय थ उन ह न बलबन क अध नत
  • श सन क उत तर र ध म लगभग व शत ब द क मध य क बत त ह उदयप र प रशस त म ब द क परम र श सक द व र ल खव य गए श ल ल ख म ऐस उल ल ख म लत
  • अपभ र श और उसक मध यवर त क ष त र स ह स रजमल न इसक क ष त र द ल ल और ग व ल यर क ब च म न ह इस प रक र प छ र जस थ न स इस शब द क अन व र य लग व नह
  • स पक ष सर व क षण करन क अवसर म ल ज सम ह दर ब द, क च न, त र वणक र, ग व ल यर इ द र और भ प ल श म ल ह उन ह ह य ग व ह स लर स क फ सह यत और समर थन
  • आत मप र प त क सडक ह स व म दय नन द ग यत र क श रद ध ल उप सक थ ग व ल यर क र ज स हब स स व म ज न कह क भ गवत सप त ह क अप क ष ग यत र प रश चरण

शब्दकोश

अनुवाद
Free and no ads
no need to download or install

Pino - logical board game which is based on tactics and strategy. In general this is a remix of chess, checkers and corners. The game develops imagination, concentration, teaches how to solve tasks, plan their own actions and of course to think logically. It does not matter how much pieces you have, the main thing is how they are placement!

online intellectual game →