लेखनाथ पौड्याल

लेखनाथ पौड्याल नेपाली साहित्य के छन्दोबद्ध कवि एवम् परिष्कारवादी धारा के स्थापक थे। उनको आधुनिक युग के जन्मदाता, आध्यात्मिक पुनर्जागरण लानेवाले आध्यात्मिक मानवता वादी कवि के रुपमें नेपाली साहित्यमें माना जाता हैं। १९५१ सालमें पौड्यालको कविशिरोमणि के उपाधि दिया गया। उनके जन्म पोखरा के पासमें अर्घौ अर्चले में खस ब्राह्मण परिवार में हुआ था।

ह आद कव भ न भक त आच र य, मह कव लक ष म प रस द द वक ट कव श र मण ल खन थ प ड य ल र ष ट रकव म धव प रस द घ म र म त र म भट ट, ह स यक र भ रव अर य ल
लक ष म प रस द द वक ट ह इस भ ष क प रम ख ल खक ह : - भ न भक त आच र य ल खन थ प ड य ल म त र म भट ट लक ष म प रस द द वक ट ब लक ष ण सम स द ध चरण श र ष ठ व श व श वरप रस द

स्तीफेन जार्ज

स्तीफेन जार्ज ने उस समय लिखना प्रारंभ किया जब साहित्य में यथार्थवाद का बोलबला था। अपने गुरु नीत्से Nietzsche की भाँति इन्होंने अनुभव किया कि यथार्थवादी प्रवृ...