ढाँक

ढाँएक प्रकार के लोकगीत हैं जो उत्तर प्रदेश के ब्रज क्षेत्र में प्रचलित हैं। साँप के काटे जाने पर इसका आयोजन किया जाता है। एक व्यक्ति घड़े के ऊपर काँसे की थाली रख कर काठ की लकड़ी से उसे बजाता है और कुछ गायक एक साथ मिलकर सम्मिलित स्वर में नाग देवता को खुश करने के लिए गीत गाते हैं। ऐसा लोक विश्वास है कि इससे साँप का विष खिंच जाता है और व्यक्ति ठीक हो जाता है।

भ ग ह यह ख र प न क व श ल क ष त र ह यह प थ व क भ ग अपन आप स ढ क रहत ह लगभग कर ड वर ग क ल म टर ज सक आध भ ग म टर गहर ह
म ख ट एक प रक र स क स भ व यक त क चहर क ढ कन क वस त ह इसक व भ न न उद द श य ह सकत ह ज स क न त य क प रक र क न तक क फ लगन स उस
उज ज न ल टकर आए त वह द ष क ल पड ह आ थ इस समय स घ क आच र य न नग नत व ढ कन क ल ए स ध ओ क अर धफ लक ध रण करन क आद श द य आग चलकर क छ स ध ओ न
ट य बलर इन स ल ट परत स घ र क डक टर क स थ एक व द य त क बल ह एक उच च लग त र ढ कत ह आ ह ज सभ एक प रव हक य परत आमत र पर ठ क ब न त र क ढ ल क ल ए ब ल य
आर 1 और आर 2 क सम क ष य स ल डर क एक ज ड ह और एक ऊ च ई ज सक ब च एक ढ कत ह आ न र तर ई क स थ एक इन स ल टर ह त ह प ल ट क ब च ब जल क क ष त र
क श न प र णमय क मन मय, मन मय क व ज ञ नमय और व ज ञ नमय क आन दमय क श न ढ क रख ह यह व यक त पर न र भर करत ह क वह क य स र फ शर र क तल पर ह ज
लक ष य ल लव न - र जक म र म धव क ष मह म मकव न - मनस व न र ध क स ह न ढ क - म य इच छ ध र न ग न TV s Badii Devrani to go off air Adhuri Kahani
द र न एक आक शव ण ह ई क इस प रत म क स फ करन क बज य इस चन दन क ल प स ढ ककर रख ज ए इस आक शव ण म उन ह यह भ आद श म ल क इस प रत म क शर र स
म क द ल ल कर घ मत और आग ह करत रहत म र ग क द न ओर क म नवमल क ढ कन क चड क प टन जलस र त क स फ रखन और सर वत र सफ ई करन उनक न त य कर तव य
अम ब क म नस शर म अम ब ल क अर ण र ण प ड न ध त व र स खद स ह न ढ क म द र अजय म श र स जय अल हसन तक षक, जयद रथ ट न वर म जर स ध तर ण
क य ज न अत उत तम म न गय ह पर त वर तम न म इस रखरख व क अभ व म ढ क द य गय ह हम र ह न द धर म म हर रस म क प छ क ई न क ई धर म क तथ स स क त क

ग बर, पत त आद क 6 स 8 इ च क सतह बन ई ज व अब इस म ट ट ट पट ट स ढ क द य ज व झ र स ट ट पट ट पर आवश यकत न स र प रत द न प न छ ड कत रह
व क स क य ह स बद ध व पणन प र य क छ हद तक अन य इ टरन ट व पणन तर क क ढ कत य आच छ द त करत ह क य क स बद ध प र य न यम त व पणन तर क क प रय ग
जल न क लकड - बब ल, छ कर, फर स, न म, प पड ध र मज ह स आद उल ल खन य ह ढ क क पत त स पत तल और झ ऊ क लकड स ड ल य वन ई ज त ह
च प क फ ल त ह और फ र व स त र त च प क ब झ न क ल ए एसएफ 6 ग स क ढ कत ह आ त कत पर भर स करत ह स कर म ख य ल ख: ह इब र ड स व चग यर म ड य ल ह इब र ड
म नव शर र क ऊपर भ ग क नग न अवस थ म द ख य गय ह कभ - कभ प व क ढ कन क ल ए कपड द ख ई द त ह कभ - कभ शर र क ग प त अ ग क द ख य गय ह
ज स क उपय ग त ल इन, प वर ल इन और र लर ड ट र क स. ग रध त व क सभ क बल क ढ कत ह आ उच च ब जल ग रन क घटन क क ष त र क ल ए आदर श ह त लन क ल ए
और मज क स न डर और ब क क ब ड क ब च ह रह व र त ल प और व षय वस त क ढ क रह थ क र स न अपन बड ब द क स ग रह क ब र म प नर वर त सन दर भ द ए

बेलनाकार संधारित्र

एक बेलनाकार संधारित्र त्रिज्या आर 1 और आर 2 के समाक्षीय सिलेंडर की एक जोड़ी है और एक ऊंचाई जिसके बीच एक ढांकता हुआ निरंतर ई के साथ एक इन्सुलेटर होता है। प्ले...