ⓘ सामाजिक चक्र. सामाजिक परिवर्तन के के सन्दर्भ में सामाजिक चक्र की मूल मान्यता यह है कि सामाजिक परिवर्तन की गति और दिशा एक चक्र की भाँति है और इसलिए सामाजिक परिवर ..

                                     

ⓘ सामाजिक चक्र

सामाजिक परिवर्तन के के सन्दर्भ में सामाजिक चक्र की मूल मान्यता यह है कि सामाजिक परिवर्तन की गति और दिशा एक चक्र की भाँति है और इसलिए सामाजिक परिवर्तन जहाँ से आरम्भ होता है, अन्त में घूम कर फिर वहीं पहुँच कर समाप्त होता है। यह स्थिति चक्र की तरह पूरी होने के बाद बार-बार इस प्रक्रिया को दोहराती है। इसका उत्तम उदाहरण भारत, चीन व ग्रीस की सभ्यताएँ हैं। चक्रीय सिद्धान्त के कतिपय प्रवर्तकों ने अपने सिद्धान्त के सार-तत्व को इस रूप में प्रस्तुत किया है कि इतिहास अपने को दुहराता है’।

चक्रीय सिद्धान्तों के विचारानुसार परिवर्तन की प्रकृति एक चक्र की भाँति होती है। अर्थात् जिस स्थिति से परिवर्तन शुरू होता है, परिवर्तन की गति गोलाकार में आगे बढ़ते-बढ़ते पुनः उसी स्थान पर लौट आती है जहाँ पर कि वह आरम्भ में थी। विलफ्रेडो परेटो ने सामाजिक परिवर्तन के अपने चक्रीय सिद्धान्त में यह दर्शाने का प्रयत्न किया है कि किस भाँति राजनीतिक, आर्थिक तथा आध्यात्मिक क्षेत्र में चक्रीय गति से परिवर्तन होता रहता है।

                                     

1. परेटों का चक्रीय सिद्धान्त

परेटो Parato के अनुसार प्रत्येक सामाजिक संरचना में जो ऊँच-नीच का संस्तरण होता है, वह मोटे तौपर दो वर्गों द्वारा होता है- उच्च वर्ग तथा निम्न वर्ग। इनमें से कोई भी वर्ग स्थिर नहीं होता, अपितु इनमें ‘चक्रीय गति’ पायी जाती है। चक्रीय गति इस अर्थ में कि समाज में इन दो वर्गों में निरन्तर ऊपर से नीचे या अधोगामी और नीचे से ऊपर या ऊर्ध्वगामी प्रवाह होता रहता है। जो वर्ग सामाजिक संरचना में ऊपरी भाग में होते हैं वह कालान्तर में भ्रष्ट हो जाने के कारण अपने पद और प्रतिष्ठा से गिर जाते हैं, अर्थात। अभिजात-वर्ग अपने गुणों को खोकर या असफल होकर निम्न वर्ग में आ जाते हैं। दूसरी ओर, उन खाली जगहों को भरने के लिए निम्न वर्ग में जो बुद्धिमान, कुशल, चरित्रवान तथा योग्य लोग होते हैं, वे नीचे से ऊपर की ओर जाते रहते हैं। इस प्रकार उच्च वर्ग का निम्न वर्ग में आने या उसका विनाश होने और निम्न वर्ग का उच्च वर्ग में जाने की प्रक्रिया चक्रीय ढंग से चलती रहती है। इस चक्रीय गति के कारण सामाजिक ढाँचा परिवर्तित हो जाता है या सामाजिक परिवर्तन होता है।

परेटो के अनुसार सामाजिक परिवर्तन के चक्र के तीन मुख्य पक्ष हैं- राजनीतिक, आर्थिक तथा आदर्शात्मक। राजनीतिक क्षेत्रमें चक्रीय परिवर्तन तब गतिशील होता है जब शासन-सत्ता उस वर्ग के लोगों के हाथों में आ जाती है जिनमें समूह के स्थायित्व के विशिष्ट-चालक अधिक शक्तिशाली होते हैं। इन्हें ‘शेर’ lions कहा जाता है। समूह के स्थायित्व के विशिष्ट-चालक द्वारा अत्यधिक प्रभावित होने के कारण इन ‘शेर’ लोगों का कुछ आदर्शवादी लक्ष्यों पर दृढ़ विश्वास होता है और उन आदर्शों की प्राप्ति के लिए ये शक्ति का भी सहारा लेने में नहीं झिझकते। शक्ति-प्रयोग की प्रतिक्रिया भयंकर हो सकती है, इसलिए यह तरीका असुविधाजनक होता है। इस कारण वे कूटनीति का सहारा लेते हैं और ‘शेर, से अपने को ‘लोमड़ियों’ foxes में बदल लेते हैं और लोमड़ी की भाँति चालाकी से काम लेते हैं। लेकिन निम्न वर्ग में भी लोमड़ियाँ होती हैं और वे भी सत्ता को अपने हाथ में लेने की फिराक में रहती हैं। अन्त में, एक समय ऐसा भी आता है जबकि वास्तव में उच्च वर्ग की लोमड़ियों के हाथ से सत्ता निकालकर निम्न वर्ग की लोमड़ियों के हाथ में आ जाती है, तभी राजनीतिक क्षेत्र में या राजनीतिक संगठन और व्यवस्था में परिवर्तन होता है।

जहाँ तक आर्थिक क्षेत्रया आर्थिक संगठन और व्यवस्था में परिवर्तन का प्रश्न है, परेटो हमारा ध्यान समाज के दो आर्थिक वर्गों की ओर आकर्षित करते हैं। वे दो वर्ग हैं-

  • 1 सट्टेबाज speculators और
  • 2 निश्चित आय वाला वर्ग rentiers

पहले वर्ग के सदस्यों की आय बिल्कुल अनिश्चित होती है, कभी कम तो कभी ज्यादा; पर जो कुछ भी इस वर्ग के लोग कमाते हैं वह अपनी बुद्धिमत्ता के बल पर ही कमाते हैं। इसके विपरीत, दूसरे वर्ग की आय निश्चित या लगभग निश्चित होती है क्योंकि वह सट्टेबाजों की भाँति अनुमान पर निर्भर नहीं है। सट्टेबाजों में सम्मिलन के विशिष्ट-चालक की प्रधानता तथा निश्चित आय वाले वर्ग के समू ह में स्थायित्व के विशिष्ट-चालक की प्रमुखता पाई जाती है। इसी कारण पहले वर्ग के लोग आविष्कारकर्ता, लोगों के नेता या कुशल व्यवसायी आदि होते हैं। यह वर्ग अपने आर्थिक हित या अन्य प्रकार की शक्ति के मोह से चालाकी और भ्रष्टाचार का स्वयं शिकार हो जाता है जिसके कारण उसका पतन होता है और दूसरा वर्ग उसका स्थान ले लेता है। समाज की समृद्धि या विकास इसी बात पर निर्भर है कि सम्मिलन का विशिष्ट-चालक वाला वर्ग नए-नए सम्मिलन और आविष्कार के द्वारा राष्ट्र को नवप्रवर्तन की ओर ले जाए और समूह के स्थायित्व के विशिष्ट-चालक वाला वर्ग उन नए सम्मिलनों से मिल सकने वाले समस्त लाभों को प्राप्त करने में सहायता दें। आर्थिक प्रगति या परिवर्तन का रहस्य इसी में छिपा हुआ है।

उसी प्रकार आदर्शात्मक क्षेत्रमें अविश्वास और विश्वास का चक्र चलता रहता है। किसी एक समय-विशेष में समाज में विश्वासवादियों का प्रभुत्व रहता है परन्तु वे अपनी दृढ़ता या रूढ़िवादिता के कारण अपने पतन का साधन अपने -आप ही जुटा लेते हैं और उनका स्थान दूसरे वर्ग के लोग ले लेते हैं।

                                     
  • म नवव ज ञ न य और स म ज क इत ह सक र आद क ल य वर ग एक आवश यक वस त ह स म ज क व ज ञ न म स म ज क वर ग क अक सर स म ज क स तर करण क स दर भ म
  • थ और उन ह न व य पक स तर पर स जन क य उनक द व र स ज त स द ध त - स म ज क चक र क स द ध त, प रगत श ल उपय ग स द ध त, म इक र व टम स द ध त, नव - म नवत व द
  • ज समय क व यवस थ त करन क ल य प रय ग क ज त ह क लदर शक क प रय ग स म ज क ध र म क, व ण ज य क, प रश सन क य अन य क र य क ल य क य ज सकत ह
  • व र ष क स व स थ य स रक ष चक र क द र य बकर अन स ध न क न द र, मथ र बकर प लन भ रत व क सद व र बकर प लन : अध क ल भ क ल ए जनन चक र अपन ए ग र म ण स चन
  • झलकत ह 4 स स र चक र अद भ त क त स भ व य घटन चक र पर आध र त ह म य उनक कह न य क एकम त र स ग रह ह य कह न य स म ज क न त क ह उनक स ह त य क
  • घट न पर स वन ह त ह इस ग र थ म वर ण त समय - चक र व लक षण र प स व श द ध थ ह न द ब रह म ण ड य समय चक र स र य स द ध त क पहल अध य य क श ल क 11 23
  • र श चक र म क त त य र श ह इसक उद भव म थ न त र म डल स म न ज त ह र श चक र क त सर र श ह र श क प रत क य व द पत ह यह द र सभ व ल र श ह नक षत र
  • न इज र य म ब द कध र य न 20 छ त र क हत य क 1979 - ह गपन द द - अश क चक र स सम म न त भ रत य स न क ज ब ज स न क थ 1933 - श कर श ष - ह न द क
  • बज रय न सम प रद य क दर शन स सम बन ध त एक शब द ह क लचक र अथव समय क चक र प रक त स स स गत रहत ह ए ज य त षश स त र, स क ष म ऊर ज और आध य त म क
  • व ष ण ह परम त म ह र म न ज क तरह इन ह न श र व ष ण क आय ध श ख, चक र गद और पद म क च न ह स अपन अ ग क अ लक त करन क प रथ क समर थन क य
                                     
  • ल ए आम त र त क य ज त रह ह प र व छ त र म त न परमव र चक र प र प तकर त और 9 अश क चक र प र प तकर त श म ल ह 1941 म द व त य व श व य द ध क द र न
  • क सम ध न क र प म क र य करत ह प ढ दर प ढ आग बढ त रहत ह यह चक र बदलत समय क स थ एक व श ष ट स स क त क र प म बन रहत ह 4 - स स क त
  • न र य क मर य द और सत त व क रक ष क समस य ब र ट श स म र ज य क दमन चक र स उत पन न समस य ए भ रत य सम ज म व य प त ध र म क प खण ड क समस य प नर ज गरण
  • म स व स थ य य आर ग य क न म नल ख त पर भ ष द द ह क, म नस क और स म ज क र प स प र णत स वस थ ह न समस य - व ह न ह न स व स थ य स र फ ब म र य
  • य दव, व र चक र न यक गण श प रस द य दव, व र चक र न यक क शल य दव, व र चक र जगद श प रस द य दव, अश क चक र मरण पर त स र श च द य दव, अश क चक र मरण पर त
  • प रजनन क र य स म ख य र प स सम बन ध त ह ज सम म नव क म क अन क र य चक र श म ल ह क स क य न अभ व न य स स क स अल ओर ए ट शन उस व यक त क द सर
  • प छड पन, द ख - द न य, अभ व, अज ञ न, अन धव श व स क स थ - स थ तरह - तरह क स म ज क श षण - चक र म फ स ह ई जनत क प ड ओ और स घर ष स भ उसक स क ष त क र ह त
  • स ह सन क एक ओर उच त न च त न र ध रण क म न ब ध ह द सर ओर क र य क रण क चक र क ई भ इस कथन म त र ट न क ल सकत ह वस त त: उपय ग त व द य क सबस
  • क ट ल य द व र रच त अर थश स त र ग रन थ क ल य यह द ख अर थश स त र स म ज क व ज ञ न क वह श ख ह ज सक अन तर गत वस त ओ और स व ओ क उत प दन, व तरण
  • पर पर गत भ रत य सम ज म शहर मध यवर ग क मह ल ओ क प रगत उनक क म कत तथ स म ज क पर वर तन क स मन कर रह मह ल ओ क सपन क अभ वयक त कर सक प ण म
  • क ष णत क अवस थ ए ज ङ ह ई ह र टज ल क र ज य क ज व क अवध रण म स म ज क ड र व नव द क पर य प त प रम ण म लत ह उनक अन स र अ तर र ष ट र य र जन त
  • मरण पर त उन ह भ रत सरक र न श न त क ल क अपन सर व च च व रत प रस क र अश क चक र स सम म न त क य और स थ ह प क स त न सरक र और अमर क सरक र न भ उन ह इस
                                     
  • द हर द न स प र प त क उनक बचपन स म ज क एव आर थ क कठ न इय म ब त आर भ क ज वन म उन ह ज आर थ क, स म ज क और म नस क कष ट झ लन पड उसक उनक
  • व षय और श स त र य ध र म क मह क व य क स रचन ओ क प रभ व त करत ह आल ह चक र म बय ल स एप स ड ह त ह ज सम न यक मह ब क द श मन य स भ व त द ल हन
  • अस पत ल चल त ह त उसक यह क र य स म ज क र प स न य य च त नह ह स म ज क उत तरद य त व क अर थ ह क एक व यवस य स म ज क क र य ओ क सम पन न करत समय ऐस
  • श ल और सबस महत वप र ण, स व स थ य पर प रभ व ड लत ह म स क धर म चक र प रजनन चक र क प र क त क ह स स ह ज सम गर भ शय स रक त य न स न कलत ह यह
  • र श चक र क यह द सर र श ह इस र श क च न ह ब ल ह ब ल स वभ व स ह अध क प र श रम और बह त अध क व र यव न ह त ह स ध रणत: वह श त रहत ह क न त
  • ज सकत ह ज क वह प द ह नह ह त ह इस ट वर क च र ओर ह द र श चक र क समर प त 27 नक षत र य त र म डल क ल ए म डप य ग बजद र इम रत थ
  • वर ष तथ उसक आसप स क ह क ष त र क स थ त और प र च न क ल स चल आ रह स म ज क पर पर ए ल कश र त य तथ ग त और इनक प ष ट स खड समक ल न स ह त य दर श त
  • क व क स म उनक य गद न महत त वप र ण ह उन ह न एक तरफ प र मच द क स म ज क पर पर क आग बढ य ह त द सर तरफ ह न द म ऐत ह स क उपन य स क ध र

शब्दकोश

अनुवाद
Free and no ads
no need to download or install

Pino - logical board game which is based on tactics and strategy. In general this is a remix of chess, checkers and corners. The game develops imagination, concentration, teaches how to solve tasks, plan their own actions and of course to think logically. It does not matter how much pieces you have, the main thing is how they are placement!

online intellectual game →