कृषि का इतिहास

क ष क व क स कम स कम 7000 - 13000 ईश वर ष प र व ह च क थ तब स अब तक बह त स महत वप र ण पर वर तन ह च क ह क ष भ म क ख दकर अथव ज तकर और ब ज
फसल उग न तथ पश - प लन और क ष करन क क म श र ह गय थ श घ र यह क म नव न व यवस थ त ज वन ज न श र क य और क ष क ल ए औज र तथ तकन क व कस त
क ष भ रत य अर थव यवस थ क र ढ ह भ रत म क ष स ध घ ट सभ यत क द र स क ज त रह ह क ब द क ष क क ष त र म हर त क र त क स थ नय
क ष ख त और व न क क म ध यम स ख द य और अन य स म न क उत प दन स स ब ध त ह क ष एक म ख य व क स थ ज सभ यत ओ क उदय क क रण बन इसम प लत ज नवर
ग व न द बल लभ पन त क ष एव प र द य ग क व श वव द य लय प तनगर व श वव द य लय य क वल प तनगर भ रत क पहल क ष व श वव द य लय ह इसक उद घ टन जव हरल ल
य ग ह ज सम क ष क आव ष क र गय ऐस व श व प रम ण त इत ह स म वर ण त ह इस य ग म ह मन ष य अग न स भ पर च त ह व इस प रक र क ष अथव ख त ईश वर य
म स प ट म य क स थ सम द र व य प र आरम भ क य भ रत य व ज ञ न एव प र द य ग क क इत ह स भ रत य क ष क इत ह स भ रत क व द श व य प र Indian Ocean Trade Routes
क य गय ह इसम प च स क य ह क ष तथ ग ह व ज ञ न क स क य क नप र म ह तथ क ष अभ य त र क और तकन क क स क य, मत स य स क य, और द ग ध स क य
भ म क ह क ष अर थश स त र म क ष क सम बन ध म स थ न य क ष क ष क नव न व यह रचन तथ हर त क र न त क ष क आध न क करण एव व यवस य करण, क ष म ल य
व ज ञ न क इत ह स स त त पर य व ज ञ न व व ज ञ न क ज ञ न क ऐत ह स क व क स क अध ययन स ह यह व ज ञ न क अन तर गत प र क त क व ज ञ न व स म ज क व ज ञ न

अफ र क क इत ह स क म नव व क स क इत ह स भ कह ज सकत ह म नव सभ यत क न व प र व अफ र क म ह म स प एन स प रज त क व नर द व र रख गय यह
क रल भ रत क एक दक ष ण र ज य ह ज सक प र ग त ह स क म नव क ब र म कम ह पत ह म ख यत च र श सनक ल स ह उनक इत ह स आर भ ह त ह प र ण क कथ ओ
publication, Orissa, 2012, p.no. 61 मदल प ज भ रत क इत ह स ब ह र क इत ह स ब ग ल क इत ह स उड स क इत ह स - पर चय History of Orissa An Article of the history
भ रत एक स झ इत ह स क भ ग द र ह इसल ए भ रत य इत ह स क इस समय र ख म सम प र ण भ रत य उपमह द व प क इत ह स क झलक ह प ष ण य ग इत ह स क वह क ल ह
उत तर प रद श क भ रत य एव ह न द धर म क इत ह स म अहम य गद न रह ह उत तर प रद श आध न क भ रत क इत ह स और र जन त क क न द र ब न द रह ह और यह क
अध क स अध क म न यत प र प त करन क ल ए द न य श क ष इ ज न यर ग, क ष क ष अभ य त र क स चन म भव ष य क प रव त त य और नव च र क ल ए हम र
ब र ट न म औद य ग क क र त क प र व क ष क र त ह ई थ ब र ट न क इस क ष आध र त व यवस थ न उस द न य क पहल द श बन य थ जह अक ल स म त नह
ह त आय र व ज ञ न म ड स न क क रम क व क स क लक ष य म रखत ह ए इसक इत ह स क त न भ ग क ए ज सकत ह : 1 आद म आय र व ज ञ न 2 प र च न आय र व ज ञ न
ह त ह क यह र ज य पव त र ग ग घ ट म स थ त भ रत क उत तर त तर क ष त र थ ज सक प र च न इत ह स अत यन त ग रवमय और व भवश ल थ यह ज ञ न, धर म, अध य त म
रस यन व ज ञ न क इत ह स बह त प र न ह chemistry क जन म chemi न म क म ट ट स पहल ब र म स र म ह आ Chemistry क प त levories क कह ज त ह ज स - ज स
स च History of South Asia भ रत गणतन त र क इत ह स 26 जनवर 1950 क श र ह त ह र ष ट र क ध र म क ह स ज त व द, नक सलव द, आत कव द और व श षकर जम म

ह म चल प रद श क इत ह स उतन ह प र च न ह ज तन क म नव अस त त व क अपन इत ह स ह ह म चल प रद श क इत ह स उस समय म ल ज त ह जब स न ध घ ट सभ यत
शर ब क इत ह स हज र वर ष प र न ह तथ क ष क इत ह स एव पश च म सभ यत स इसक गहर सम बन ध ह वर तम न समय म अ ग र पर आध र त क ण व त प य क सबस
आर थ क इत ह स भ रत य क लगणन प र द य ग क क इत ह स भ रत य गण त भ रत य रस यन क इत ह स भ रत य ध त कर म क इत ह स भ रत य व ज ञ न क क स च भ रत य आव ष क र
एव प र द य ग क क इत ह स भ रत य क ष क इत ह स ब र ट श क ल म भ रत क अर थव यवस थ भ रत म जम द र उन म लन भ रत म ब क ग भ रत क आर थ क स ध र भ रत
बन गय ह अत सरक र क ष प क ज तथ ऋण आश व सन आय ग आद क गठन करक क ष क प नर द ध र क प रय स कर रह ह क रल क क ष क इत ह स नव न प रस तर य ग स
क ष व ह र, द ल ल द ल ल क एक आव स य क ष त र ह
क ष क ज, द ल ल द ल ल क एक आव स य क ष त र ह
व मह न अठ इस ब नकर सहक र : एक स स क र सहक र त आन द लन क स क ष प त इत ह स व श व क र त क प रत क ह सहक र आन द लन ब न सहक र, नह उद ध र Co - Operative
म आईस एआर क र ष ट र य क ष व ज ञ न क द र पर सर म स थ त र ष ट र य क ष व ज ञ न स ग रह लय एनएएसएम द श म अपन तरह क पहल क द र ह 23, 000 वर ग

कुण्डू

उत्तर भारत में प्रमुख कुण्डू टांकने और कृषि के कार्यों से सम्बद्ध हैं। महाभारत में एक कुण्डिला नामक नगर का वर्णन है जिसके वंशज कुण्डू के रूप में जाने जाते है...

चिली का इतिहास

चिली क्षेत्र कम से कम ३००० ईसा पूर्व से जनसंख्या वाला क्षेत्र है। सोलहवीं शताब्दी से स्पेनियों ने वर्तमान चिली क्षेत्र को नियंत्रण में करना प्रारम्भ कर दिया ...

अजयराजपुरा

अजयराजपुरा गाव जयपुर जिले से ३५ किलोमीटर दूर स्थित है अजयराजपुरा गाँव की जनसँख्या १७३५ है। यहां की मुख्य समस्या पानी की है घरेलु व् कृषि जरुरतो के लिए विधुत ...

खुरई

खुरई मध्यप्रदेश के सागर जिले की एक बहुत पुरानी तहसील और एक बहुत बड़ा विधानसभा क्षेत्र भी है। यहां उन्‍न‍त गेहूं की पैदावार होती है तथा कृषि यंत्रो का भी निर्...