अवहट्ठ

कालक्रम से अपभ्रंश साहित्य की भाषा बन चुका था, इसे परिनिष्ठित अपभ्रंश कह सकते हैं। यह परिनिष्ठित अपभ्रंश उत्तर भारत में राजस्थान से असम तक काव्यभाषा का रूप ले चुका था। लेकिन यहाँ यह भूल नहीं जाना चाहिए कि अपभ्रंश के विकास के साथ-साथ विभिन्न क्षेंत्रों की बोलियों का भी विकास हो रहा था और बाद में चलकर उन बोलियों में भी साहित्य की रचना होने लगी। इस प्रकार परवर्ती अपभ्रंश और विभिन्न प्रदेशों की विकसित बोलियों के बीच जो अपभ्रंश का रूप था और जिसका उपयोग साहित्य रचना के लिए किया गया उसे ही अवहट्ठ कहा गया है।
डॉ॰ सुनीतिकुमार चटर्जी ने बतलाया है कि शौरसेनी अपभ्रंश अर्थात् अवहट्ठ मध्यदेश के अलावा बंगाल आदि प्रदेशों में भी काव्यभाषा के रूप में अपना आधिपत्य जमाए हुए था।

अवहट ठ : उद भव ओ व क स म थ ल भ ष क व ख य त स ह त यक र र ज श वर झ द व र रच त एक स ह त य त ह स ह ज सक ल य उन ह सन 1977 म म थ ल भ ष क ल ए
वर णन क र त क र तन क य ह परवर त अपभ र श क ह स भवत: व द य पत न अवहट ठ कह ह व द य पत क प र व अद दहय ण अब द ल रहम न न भ सन द शर सक क
क शब द क प रय ग अध क द खन क म लत ह ब रजब ल क उत पत त अवहट ठ स ह ई अवहट ठ स ब ध थ ड स ज नक र प र प त कर ल न आवश यक ह क लक रम स अपभ र श
क ठत क क रण ह उन ह म थ ल क क ल कह ज त ह व द य पत न स स क त, अवहट ठ एव म थ ल म कव त रच इसक इल व भ पर क रम प र षपर क ष ल खन वल
क य थ स वर ण पदक व ज त ड श वप रस द स ह न एम.ए. म क र त लत और अवहट ठ भ ष पर ज लघ श ध प रब ध प रस त त क य उसक प रश स र ह ल स क त य यन
ब णभट ट क ग रन थ स ल कर प र ण एव मह भ रत तक तथ ह न द म व द य पत क अवहट ठ क व य स ल कर ज यस क अवध भ ष क अमर मह क व य पद म वत तक व श ल एव
ज नक र अपभ र श क अ त म अवस थ अवहट ठ स ह न द क उद भव स व क र करत ह च द रधर शर म ग ल र न इस अवहट ठ क प र न ह न द न म द य अपभ र श

भ न न नह ह अद दहम ण व शत न च र भ ष ओ क प रय ग क य ह - - अवहट ठ स स क त, प र क त और प श च ज य त र श वर ठ क र न छह भ ष और स त उपभ ष ओ
भ ष ए ह ज नक व प ल स ह त य उपलब ध ह त त य स तर क भ ष ओ क अपभ र श एव अवहट ठ न म द ए गए ह द शभ द क द ष ट स मध यक ल न भ ष ओ क भ द क सर वप र च न
प र न म न गय ह ह द भ ष व स ह त य क व द व न अपभ र श क अ त म अवस थ अवहट ठ स ह द क उद भव म नत ह ज स प ड त च द रधर शर म ग ल र न प र न
तथ त लन त मक अध ययन भ बह त श ष ह प र क त प ल अपभ र श अर धम गध श रस न अवहट ठ स स क त स ह त य प ल भ ष क स ह त य ह न द स ह त य भ रत क भ ष ए
स ह त य क रचन भ म ख यत इस म ह ई ह ब ग ल क आ चल क र प क झलक स अवहट ठ झ लम ल रह ह ब ग ल क व ष णव कव य क स त - स द ध क भ ष क पर पर
स स मरण व द यन थ मल ल क व ध स त यन मह क व य र ज श वर झ अवहट ठ उद भव ओ व क स स ह त य त ह स उप न द र ठ क र म हन ब ज उठल म रल

मगही भाषा

मगह य म गध भ ष भ रत क मध य प र व म ब ल ज न व ल एक प रम ख भ ष ह इसक न कट क स ब ध अवध भ जप र और म थ ल भ ष स ह और अक सर य भ ष ए एक मगह स ह त य स त त पर य उस ल ख...

अनुस्वार

अनुस्वार एक उच्चारण की मात्रा है जो अधिकांश भारतीय लिपियों में प्रयुक्त होती है। इससे अक्सर ं जैसी ध्वनि नाक के द्वारा निकाली जाती है, अतः इसे नसिक या अनुनास...

भारतीय लोक भाषा सर्वेक्षण

भारतीय लोक भाषा सर्वेक्षण) सन २०१० में शुरू किया गया एक भाषा सर्वेक्षण है। इसका उद्देश्य भारत में बोले जाने वाली भाषाओं की वर्तमान अवस्था का ज्ञान प्राप्त कर...

मणिप्रवालम

वर णन ह व ष व षव ज ञ न व षव द य ज य त स न क - व षव ज ञ न क मलय लम मण प रव लम ग रन थ JyothsnikaAn Online Journal in Agadatantra ज य त स न क व षव द य ज त ज स ज...

मागधी

मागधी उस प्राकृत का नाम है जो प्राचीन काल में मगध प्रदेश में प्रचलित थी। इस भाषा के उल्लेख महावीऔर बुद्ध के काल से मिलते हैं। जैन आगमों के अनुसार तीर्थकर महा...