व्याख्यान शास्त्र

व श वव द य लय और अन य श क ष स स थ न म व य ख य न श स त र क औपच र क श क ष द ज त थ तर क श स त र Corbett, E. P. J. 1990 Classical rhetoric
द र घटन क पर भ ष म ज न ख न क अर थ पहल स ह न ह त ह व य ख य न श स त र I Wish I Knew That: Cool Stuff You Need to Know, Steve Martin, Mike
कल भ ह त ह ज सम उच च रण इत य द पर बह त ध य न द य ज त ह व य ख य न श स त र Kuipers, Cornelius 1944 Preface Christian dialogs and recitations:
लग आप इतन ओजस व व य ख य न द त थ क क छ ह समय म आप क न म द श क द रस थ भ ग म चल गय तथ सब स थ न स आपक व य ख य न क ल ए आप क म ग ह न
सम प र ण ग र थ क र प म भ रतम न क न ट य श स त र क आज भ बह त सम म न ह उनक म नन ह क न ट य श स त र म क वल न ट य रचन क न यम क आकलन नह
य गद न द य ह व र णस म 1933 म स स क त क भ ष ई क शल पर अपन एक व य ख य न श र खल म उन ह न स स क त भ ष म सम न र थ शब द क प रय ग स एक
1929 म इन ह व य ख य न द न ह त म नच स टर व श वव द य लय द व र आमन त र त क य गय इन ह न म नच स टर एव लन दन म कई व य ख य न द य इनक श क ष
स ह त य और भ रत य ज य त ष क व व ध आय म पर अत थ वक त क बत र ज व य ख य न द ए ह व स म र क ओ प स तक और कई म द र त इल क ट र न क र प म
व य ख य न म एडवर ड ब ल यह प रश न प छ च क थ क कह कल और स दर य क पर भ ष ए कल क र क स जन - क षमत क क षय त नह कर रह ह य व य ख य न
र ज यप ल क पद पर रह द श भर क व श वव द य लय एव स ह त य क स स थ न क व य ख य न म ल ऒ म भ ग द र आच र य र मचन द र श क ल प रस क र र ज य स ह त य क प रस क र
सम म लन म म ख य स वर स ब धन द ए और प रस क र व य ख य न ज स प र आर. प च ध र अक षय न ध व य ख य न ग व ह ट व श वव द य लय म प र एम. एम. चक रवर त
क रण यह पर प द ह त नए - नए भगव न यह अपन क अवत र बत द द त ह व य ख य न यह नए - नए मजल म क ह त ह न र म ण यह इनक ब त म फ स ज त क छ

थ उनक व य ख य न और प रवचन क इतन अध क सर ह गय क म म बई क म धवब ग म एक अन य स स थ आर य स वधर म दय सभ म भ उनक व य ख य न और ग त पर
आच र य ह ज न ह न कई प र क त, स स क त ओर कन नड श स त र क सरल ह न द भ ष म अन व द एवम व य ख य न क य ह उन ह न अपन प र य श ष य श व तप च आच र य
ज य त ष श स त र - आर चज य त षम : इसम पद य ह यज र व द क ज य त ष श स त र य ज षज य त षम : इसम पद य ह अथर वव द ज य त ष श स त र
तथ य क कथन म त र ह अत: ग ण ह उदयव र श स त र न अपन स ख य दर शन क इत ह स न मक ग र थ म स ख य श स त र क कप ल द व र प रण त ह न म भ गवत 3 - 25 - 1
स रक ष त रखन ह न द भ ष और स ह त य स स ब ध त पर चर च ए स ग ष ठ य व य ख य न एव सम र ह आय ज त करन द व गत स ह त यक र क जन मशत य मन न एव उनक
करन क पश च त आप प ण न व य करण श स त र क प रख य त भ ष य च र य ह ए आप च र र जस थ न म स थ प त हरन मदत त श स त र स स क त प ठश ल क प रध न श क षक
ह न च ह ए और इसम तर कश लत क अवलम बन करन च ह ए इस व षय पर व एक व य ख य न म प रक श ड लत ह ए कहत ह रहस य - स प ह म नव - मस त ष क क द र बल कर
पण ड त र जव र श स त र अप र ल - - स स क त क व द व न, अध य पक, स ह त यक र तथ आर यसम ज क क र यकर त थ मन स म त म क ए गय प रक ष प पर अन सन ध न
रह ज ल स र ह ह न क ब द उन ह न अन क व श ववव द य लय म गण त पर व य ख य न द ए क छ ह द न म द श - व द श म उनक ख ज क चर च ह न लग स व म ज
शद ब द क प रम ख गण तज ञ म स एक थ इल ह ब द म गण त एव भ त क श स त र क प रस द ध क न द र म हत र सर च इन सट ट य ट क न म बदलकर अब उनक न म

पर सनल इज ड द व र उन ह न ट य श स त र अव र ड स सम म न त क य गय उन ह न व मन ऑफ क च प ड पर एक व य ख य न प रदर शन द य उसन एक क च प ड ड स
स गठन ह यह स गठन य ट य ब व ड य क र प म स क ष म व य ख य न बन त करत ह स क ष म व य ख य न क अल व स गठन क व बस इट श क षक क ल ए अभ य स प रश न वल
उस प रक र यद क स न तन त र श स त र क अध ययन क य ह क न त वह तन त रय क त क उपय ग करन नह ज नत त वह श स त र क अर थ नह समझ प त ह चरकस ह त
र जध न य गअन म अध ययन कर व य ख य न स न रह थ उस समय इसक स थ च ग - य न व स धर म क उप ध य य च - इ, ल - च ऊ न व स श स त र क उपध य य ह ग - इ और द त न
न क श रहकर मह मह प ध य य प च न न स व म श स त र तथ प पट ट भ र म श स त र ज स म म सक स इस श स त र क गहन अन श लन क य तथ ग र जन क क प प रस द
स स ब ध त थ म उन ह न व यन और ब ड प स ट म भ त क और रस यन श स त र क अध ययन क य म फ ल प ल न र ड र यल स व ड श व ज ञ न एक डम और
व श ष ट रचन य द ह त न ग र थ म प रगट व च र क कई तरह स व य ख य न क य ज सकत ह इस क रण स ब रह म, ज व तथ जगत क स ब ध म अन क मत
अपन नव न ख ज स सम ब ध त व य ख य न द न क ल ए अम र क गए वर ष म प न व द य त पर य ल व श वव द य लय म छह व य ख य न द न क ल ए अम र क गए थ मसन

अनुलाप

अनुलाप तर्क में कथनों की ऐसी शृंखला को कहते हैं जिसमें कथनों में एक ही अर्थ दोहराकर या फिर पूर्णतः विपरीत अर्थ रखकर ऐसे तर्क की कृति की गई हो जिसे झुठलाना अस...

वक्ता

वक्ता ऐसे व्यक्ति को कहते हैं जो सभाओं या अन्य जन-समुदायों के सामने सार्वजनिक रूप से बोले और जानकारी, तर्क या विचार प्रस्तुत करे। कई व्यवसायों में उच्च स्तर ...