रैखिकीकरण

गणित में किसी फलन को किसी बिंदु पर किसी रैखिक फलन द्वारा अभिव्यक्त करने को रैखिकीकरण कहते हैं। इसके बहुत से उपयोग हैं। इसका उपयोग इंजीनियरी, भौतिकी, अर्थशास्त्र एवं नियंत्रण सिद्धांत में होता है।
उदाहरण
f x = x {\displaystyle fx={\sqrt {x}}} का x = a {\displaystyle x=a} पर निम्नलिखित फलन द्वारा रैखिकीकरण कर सकते हैं-
y = a + 1 2 a x − a {\displaystyle y={\sqrt {a}}+{\frac {1}{2{\sqrt {a}}}}x-a}

ह बह त स इ ज न यर य प र क त क तन त र म लत अर ख क ह ह त ह र ख क त त र अर ख क त त र र ख क करण ल न यर इज शन इष टतम न य त रण Optimal control

प्रकाशिक विभेदन

प्रकाशिक विभेदन किसी इमेजिंग प्रणाली द्वारा किसी वस्तु के सूक्ष्मतम चीजों को अलग-अलग करके देखने की क्षमता को अभिव्यक्त करता है जिसकी इमेजिंग की जा रही हो।