गोरक्षा आन्दोलन

वर्ष १८८२ मेंअक्‍तूबर-नवम्बर १९६६ ई० में अखिल भारतीय स्तर पर गोरक्षा आन्दोलन चला। भारत साधु-समाज, सनातन धर्म, जैन धर्म आदि सभी भारतीय धार्मिक समुदायों ने इसमें बढ़-चढ़कर भाग लिया। ७ नवम्बर १९६६ को संसद् पर हुये ऐतिहासिक प्रदर्शन में देशभर के लाखों लोगों ने भाग लिया। इंदिरा गांधी के नेतृत्व वाली तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने निहत्थे हिंदुओं पर गोलियाँ चलवा दी थी जिसमें अनेक गौ भक्तों का बलिदान हुआ था।
इस आन्दोलन में चारों शंकराचार्य तथा स्वामी करपात्री जी भी जुटे थे। जैन मुनि सुशीलकुमार जी तथा सार्वदेशिक सभा के प्रधान लाला रामगोपाल शालवाले और हिन्दू महासभा के प्रधान प्रो॰ रामसिंह जी भी बहुत सक्रिय थे। श्री संत प्रभुदत्त ब्रह्मचारी तथा पुरी के जगद्‍गुरु शंकराचार्य श्री स्वामी निरंजनदेव तीर्थ तथा महात्मा रामचन्द्र वीर के आमरण अनशन ने आन्दोलन में प्राण फूंक दिये थे। श्री संत प्रभुदत्त ब्रह्मचारी तथा पुरी के जगद्‍गुरु शंकराचार्य श्री स्वामी निरंजनदेव तीर्थ तथा महात्मा रामचन्द्र वीर के आमरण अनशन ने आन्दोलन में प्राण फूंक दिये थे। इस आंदोलन को जनसंघ ने भी समर्थन दिया था, गुरु गोलवरकर के भी सक्रिय होने से इंदिरागांधी डर गई थी। यह आंदोलन पूर्ण रूप से शांतिपूर्ण था लेकिन इंदिरा गांधी ने उन निहत्ते और शांत संतों पर पुलिस के द्वारा गोली चलवा दी, जिस से कई साधू मारे गए । इस ह्त्या कांड से क्षुब्ध होकर तत्कालीन गृहमंत्री ” गुलजारी लाल नंदा ” ने अपना त्याग पत्र दे दिया, और इस कांड के लिए खुद को सरकार को जिम्मेदार बताया था, लेकिन संत राम चन्द्र वीर अनशन पर डटे रहे जो 166 दिनों के बाद उनकी मौत के बाद ही समाप्त हुआ था. राम चन्द्र वीर के इस अद्वितीय और इतने लम्बे अनशन ने दुनिया के सभी रिकार्ड तोड़ दिए है । यह दुनिया की पहली ऎसी घटना थी जिसमे एक हिन्दू संत ने गौ माता की रक्षा के लिए 166 दिनों तक भूखे रह कर अपना बलिदान दिया था। मवेशी वध, विशेष रूप से गाय वध, भारत में एक विवादास्पद विषय है क्योंकि इस्लाम में कई लोगों द्वारा मांस के स्वीकार्य स्रोत के रूप में माना जाने वाला मवेशियों के विपरीत हिंदू धर्म, सिख धर्म, जैन धर्म में कई लोगों के लिए एक सम्मानित और सम्मानित जीवन के रूप में मवेशी की पारंपरिक स्थिति के रूप में, ईसाई धर्म के साथ-साथ भारतीय धर्मों के कुछ अनुयायियों। अधिक विशेष रूप से, हिंदू धर्म में भगवान कृष्ण से जुड़े होने के कई कारणों से गाय की हत्या को छोड़ दिया गया है, मवेशियों को ग्रामीण आजीविका का एक अभिन्न हिस्सा और एक आवश्यक आर्थिक आवश्यकता के रूप में सम्मानित किया जा रहा है। अहिंसा अहिंसा के नैतिक सिद्धांत और पूरे जीवन की एकता में विश्वास के कारण विभिन्न भारतीय धर्मों द्वारा मवेशी वध का भी विरोध किया गया है। इसको रोकने के लिये भारत के विभिन्न राज्यों में कानून भी बनाये गये हैं।
भारत के संविधान के अनुच्छेद 48 में राज्यों को गायों और बछड़ों और अन्य दुश्मनों और मसौदे के मवेशियों की हत्या को प्रतिबंधित करने का आदेश दिया गया है। 26 अक्टूबर 2005 को, भारत के सुप्रीम कोर्ट ने एक ऐतिहासिक निर्णय में भारत में विभिन्न राज्य सरकारों द्वारा अधिनियमित विरोधी गाय हत्या कानूनों की संवैधानिक वैधता को बरकरार रखा। भारत में 29 राज्यों में से 20 में वर्तमान में हत्या या बिक्री को प्रतिबंधित करने वाले विभिन्न नियम हैं गायों का केरल, पश्चिम बंगाल, गोवा, कर्नाटक, अरुणाचल प्रदेश, मिजोरम, मेघालय, नागालैंड और त्रिपुरा ऐसे राज्य हैं जहां गाय वध पर कोई प्रतिबंध नहीं है। भारत में मौजूदा मांस निर्यात नीति के अनुसार, गोमांस गाय, बैल का मांस और बछड़ा का निर्यात प्रतिबंधित है। मांस, शव, बफेलो के आधे शव में भी हड्डी निषिद्ध है और इसे निर्यात करने की अनुमति नहीं है। केवल भैंस के बेनालेस मांस, बकरी और भेड़ों और पक्षियों के मांस को निर्यात के लिए अनुमति है।

थ ग रक ष ग ग क पव त रत ह न द भ ष भ रत य स स क त और ह न द धर म क स व उनक ज वन क लक ष य थ उन ह न ग रक ष क म द द पर अनशन, आन द लन तथ
स न क अध यक ष ह यह स गठन दक ष णप थ व च रध र क ह पवन प ड त ग रक ष आन द लन स ज ड ह व ह म ट सम च र पत र क एक र प र ट क अन स र इनक
तथ गऊ प र म भ द न करत ह क छ धन व यक त भ ग श ल चल त ह ग रक ष आन द लन प ज ब ग श ल मह स घ स म ह क ग श ल अख ल व श व ग यत र पर व र महर ष
स व स थ य ज स कई प स तक ल ख भ रत क स वतन त रत आ द लन ग रक ष तथ अन य व व ध आन द लन म कई ब र ज ल गय व र ट नगर क प चख ड प ठ ध श वर आच र य
स बच क द ग धप न करन च ह ए और पश ओ क रक ष करन च ह ए भ रत म ग रक ष आन द लन क प र र भ क समय म इस प स तक क कई ल ग पर गहर प रभ व म न ज त
उद द श य स स धन क ल ए ह म लय क र ह पकड ल 1965 म व व पस ल ट और ग रक ष आ द लन स ज ड गए प र र भ म उन ह न वनव स बह ल फ लब ण कन धम ल ज ल
ज गरण, स व स स क त, पर वर तन, ग रक ष आद अन क नय आय म ज ड इनम सबस महत त वप र ण ह श र र म जन मभ म म द र आन द लन ज सस पर षद क क म ग व - ग व
ज ल ई क ग जर त क ग र स मन थ ज ल क एक बस त क क छ कथ त ल ग न ग रक ष क न म पर दल त सम द य क ल ग क बह त ब र तरह स प ट और फ र उनक कपड
18 स ल तक प रच रक रह ह स थ ह श र र म जन म भ म और ग रक ष व ह न द ह त क ल ए अन क आन द लन क य और इसक ल ए ज ल भ गय फ लप र स भ जप प रत य ष
स म त सम त र ग ण स व प रकल प, म म बई क प र रण उन ह न ह द थ ग रक ष ग - अन स ध न तथ व द क गण त क प रबल आग रह लघ उद य ग भ रत क स थ पन

नवम बर, 1885 भ रत क आज द क सर वप रथम प रण त क क व द र ह असहय ग आन द लन क म ख य स ख क न मध र प थ क स स थ पक, तथ मह न सम ज - स ध रक थ व
पञ च ङ ग ज न ह न व क रम स वत क श र आत प रथम शत ब द स क थ जब क ग र ग रक ष न थ ज र ज भर त हर एव इनक छ ट भ ई र ज व क रम द त य क समय म थ
ल स त रस त द ख य क आ स प छन व ल म लव यज क ऋष क ल हर द व र, ग रक ष और आय र व द सम म लन तथ स व सम त ब व य स क उट तथ अन य कई स स थ ओ क
श र र म जन मभ म आन द लन क समय स ह पर षद स ज ड थ ग र र ज क श र र ष ट र य स वय स वक स घ क वर ष ठ प रच रक रह श र र म जन मभ म आन द लन म उनक प रम ख
श क ष क न म स एक प स तक ल ख ग रक ष आ द लन म भ भ ई ज न भरप र य गद न द य सन क व र ट ग रक ष आन द लन म मह त म र मचन द र व र द व र क य
स मध र और म तभ ष व यक त त व क धन श र अव द यन थ ज न श र र मजन म भ म आन द लन क म त र गत ह नह द य अप त एक स रक षक क भ त हर तरह स रक ष त और
प ज र ग र ग रक ष न थ सम प रद य क न थ र वल ल ग ह त ह ज क य ह म द र क आसप स बस ह य ह क न म क डल ध रण करक स भ जत ग र ग रक ष न थ क द क ष
जनकल य ण प रत ष ठ न, एकल व द य लय अभ य न मह ल स व बल बन ग रक ष सन त सम पर क नगर मह ल सम त
क ष त र म ख यत: र जस थ न म इस दल न दर जन स ट ह स ल क थ ग रक ष आन द लन - इ द र ग ध क ल य उस समय च न व ज तन बह त म श क ल थ क य क
म स व म दय नन द न ग कर ण न ध न मक प स तक प रक श त क ज क ग रक ष आन द लन क स थ प त करन म प रम ख भ म क न भ न क श र य भ ल त ह इस प स तक
त य ग द ग आन द लन क त व र गत स चल न क ल ए स तम बर, क क न द र य म र गदर शक मण डल क लखनऊ ब ठक म परमह स ज क य जन स ह ग रक ष प ठ ध श वर
पहच न क स थ ग म स और मव श वध क ज ड ह स ब स ट य कहत ह ग य ग रक ष आन द लन ग म त र प चगव य भ रत: क न नन कह - कह ह सकत ह ग हत य 10
ह श रद त लकम म षड चक र क श व और शक त र प म वर ण त क य गय ह ग रक ष स ह त और क ल त त र क ग र थ म इस तरह चक र क वर ण त क य गय ह और