ⓘ बाटी उत्तर भारत का एक खाद्य है। यह मालवा, गुजरात और राजस्थान में खाई जाती है। ऐसे हुआ बाटी का आविष्कार बाटी! मालवा का प्रसिद्ध भोजन। कोई भी खास मौका इसके बगैर ख ..

                                     

ⓘ बाटी

बाटी उत्तर भारत का एक खाद्य है। यह मालवा, गुजरात और राजस्थान में खाई जाती है।

ऐसे हुआ बाटी का आविष्कार बाटी! मालवा का प्रसिद्ध भोजन। कोई भी खास मौका इसके बगैर खास नहीं होता। कई घरों में तो छुट्टी के दिन बाटी बनना अनिवार्य है। नई बहुओं को भी पहले दिन ही परिवार के इस स्वादिष्ट नियम के बारे में बता दिया जाता है। हर घर की पसंद बाटी करीब तीन दिन तक खराब भी नहीं होती है। ऐसे में यात्रा के दौरान भी लोग इसे साथ लेकर जाना पसंद करते हैं। गांव में जहां चूल्हे पर भोजन बनता है, वहां रोटी बनने के बाद बचे हुए आटे की दो-तीन बाटी तो चलते-फिरते बन जाती है। स्वाद में यह बाटी जितनी जायकेदार होती है, इसका इतिहास भी उतना ही रोचक है। उज्जैन के कुछ पुराने और कुछ चटोरे लोगों से पूछपाछ के पता चला है कि बाटी का अविष्कार क्यों, कहाँ, कब और कैसे हुआ। बाटी मूलत: राजस्थान का पारंपरिक व्यंजन हैै। इसका इतिहास करीब 1300 साल पुराना है। 8वीं सदी में राजस्थान में बप्पा रावल ने मेवाड़ राजवंश की शुरुआत की। बप्पा रावल को मेवाड़ राजवंश का संस्थापक भी कहा जाता है। इस समय राजपूत सरदार अपने राज्यों का विस्ताकर रहे थे। इसके लिए युद्ध भी होते थे। इस दौरान ही बाटी बनने की शुरुआत हुई। दरअसल युद्ध के समय हजारों सैनिकों के लिए भोजन का प्रबंध करना चुनौतीपूर्ण काम होता था। कई बार सैनिक भूखे ही रह जाते थे। ऐसे ही एक बार एक सैनिक ने सुबह रोटी के लिए आटा गूंथा, लेकिन रोटी बनने से पहले युद्ध की घड़ी आ गई और सैनिक आटे की लोइयां रेगिस्तान की तपती रेत पर छोड़कर रणभूमि में चले गए। शाम को जब वे लौटे तो लोइयां गर्म रेत में दब चुकी थी, जब उन्हें रेत से बाहर से निकाला तो दिनभर सूर्य और रेत की तपन से वे पूरी तरह सिंक चुकी थी। थककर चूर हो चुके सैनिकों ने इसे खाकर देखा तो यह बहुत स्वादिष्ट लगी। इसे पूरी सेना ने आपस में बाटकर खाया। बस यहीं इसका अविष्कार हुआ और नाम मिला बाटी। इसके बाद बाटी युद्ध के दौरान खाया जाने वाला पसंदीदा भोजन बन गया। अब रोज सुबह सैनिक आटे की गोलियां बनाकर रेत में दबाकर चले जाते और शाम को लौटकर उन्हें चटनी, अचाऔर रणभूमि में उपलब्ध ऊंटनी व बकरी के दूध से बने दही के साथ खाते। इस भोजन से उन्हें ऊर्जा भी मिलती और समय भी बचता। इसके बाद धीरे-धीरे यह पकवान पूरे राज्य में प्रसिद्ध हो गया और यह कंडों पर बनने लगा। अकबर की रानी जोधाबाई के साथ बाटी मुगल साम्राज्य तक भी पहुंच गई। मुगल खानसामे बाटी को बाफकर उबालकर बनाने लगे। इसे नाम दिया बाफला। इसके बाद यह पकवान देशभर में प्रसिद्ध हुआ और आज भी है और कई तरीकों से बनाया जाता है।

अब बात करते हैं दाल की। गुप्त साम्राज्य के दौरान कुछ व्यापारी मेवाड़ में रहने आए तो उन्होंने बाटी को दाल के साथ चूरकर खाना शुरू किया। यह जायका प्रसिद्ध हो गया और आज भी दाल बाटी का गठजोड़ बना हुआ है। उस दौरान पंचमेर दाल खाई जाती थी। यह पांच तरह की दाल चना, मूंग, उड़द, तुअर और मसूर से मिलकर बनाई जाती थी। इसमें सरसो के तेल या घी में तेज मसालों का तड़का होता था। अब चूरमा की बारी आती है। यह मीठा पकवान अनजाने में ही बन गया। दरअसल एक बार मेवाड़ के गुहिलोत कबीले के रसोइये के हाथ से छूटकर बाटियां गन्ने के रस में गिरा गई। इससे बाटी नरम हो गई और स्वादिष्ट भी। इसके बाद से इसे गन्ने के रस में डुबोकर बनाया जाना लगा। मिश्री, इलायची और ढेर सारा घी भी इसमें डलने लगी। बाटी को चूरकर बनाने के कारण इसका नाम चूरमा पड़ा।
                                     
  • द ल ब ट च रम एक र जस थ न व य जन ह ब ट म ट ग ह क आट स बन ई ज त ह च रम म ठ आट क म श रण ह त ह यह एक ध र म क अवसर ग ठ, व व ह सम र ह
  • ब न नमक क ब ट स बन य ज त ह च रम क लडड बन न क ल य ब ट क क ड क आग य भ नन क बज य, तल कर भ बन य ज त ह बन ह ई ब ट क फ ड कर ब र क
  • ब ट श ज च क गणर ज य म आर भ ह ई एक ज त क पन ह ब ट श ज स स ब ध त म ड य व क म ड य क मन स पर ब ट इ टरन शनल प र टल ब ट ब ग ल द श ब ट च क गण
  • म लव म म ख य र प स द ल ब ट द ल ब फल द ल प न य मक क क र ट ख न क प रचलन ह यह यह क म ख य व य जन ह प र य हम म लव म अन क उत सव य
  • ह डव द ळ ठ कळ दह वड कह न डव कच ह र स व, म लप आ द ल ब ट च रम व स त द ल ब ट एक र जस थ न व य जन ह क न त आजकल यह स प र ण भ रत म पस द
  • रह ह म ख यत: न म न र जस थ न ख न अध क प रचल त ह भ ज य स न गर द ल ब ट च रम प ट र क सब ज द ल क प र म व म लप आ ब क न र रसग ल ल घ वर हल द
  • न व ज ह तलव र और क श त पहल ह स ख क प स थ ग र ग ब द स ह न ख ड ब ट क प ह ल तय र कर कछ कड और क घ भ द य इस द न ख लस क न म क प छ
  • मस दनप र - म ल क - कहलग व, भ गलप र, ब ह र स थ त एक स न दर हर - भर ग व ह ज अपन स न दर करण क ल य सरक र य जन ओ क ब ट ज ह रह ह
  • फ ण च ल फ ल मठ य स नव ल आल भर त चन द ल पर ठ च रम द ल ब ट घ वर  आल म ग ड भ न क कड गट ट क सब ज जयप र गज क  जयप र
  • स थ ग थ ल य ज त ह Suruaat ballia se hua h pr Bihar me jyda manayy h ब ह र ख न ल ट ट य ब ट च ख बन न क व ध खबर इ ड य ट व 9 May 2015.
                                     
  • ज सम कलह स और ह स भ श म ल ह बतख कई अन य सह प रज त य व पर व र म ब ट ह ई ह पर फ र भ यह म न फ लट क एक आम प त क प रज त य क सभ सन त न क सम ह
  • ब ट क ट ल र न ख त तहस ल म भ रत क उत तर खण ड र ज य क अन तर गत क म ऊ मण डल क अल म ड ज ल क एक ग व ह उत तर खण ड क ज ल उत तर खण ड क नगर क म ऊ
  • भ बह त असम नत ह भ रत क व भ न न क ष त र च र प रक र क जलव य - सम ह क जलव य क अन भव करत ह इनक प न स त जलव यव य प रक र म ब ट ज सकत ह
  • र य सत भ थ भ रत क व भ जन क ब द इसक प र व प ज ब और पश च म प ज ब म ब ट द य गय ज अब म ज द प ज ब, हर य ण ह म चल प रद श और प ज ब प क स त न
  • ब त सव न और न म ब य म ह यह जनज त क ल ह र मर स थल क आस प स क क ष त र म न व स करत ह और यह जनज त ब सम न और ब ट क म श रण स उत पन न ह ई ह
  • ठ उ क म ल ब स क म ल सम द य ह भन न क म बदत छ ख द न ब र क म ल भ ष ब ट ख द क अर थ क द र न क अर थ छ न ह द न क द नफल न ब र भन न ह
  • फ ल महत त ह न पर भ ष त आ ख हर ब शक म न छ त र ब र ब ट र सपन हर अन तर म ख उसल र ज क ब ट पर ख ल भ त र र ब ह र अन द पह ड स ग ब न लघ कथ म ल
  • औपच र क ख न ख न ठ उ कह छ? - ख न ख न क जगह कह ह क ठ म ड ज न ब ट ध र ल म छ - क ठम ड ज न क र स त बह त लम ब ह न प लम बन क - न प ल
  • रतन स ह थ यह नगर स व, स न सट ट म व स ड तथ सम स कच र द ल ब ट क ल य प रस द ध ह रतल म क सबस ज य द प रस द ध रतल म स व ह ज सक प र न
  • प रम ख भ म क न भ य उत तर प रद श क इत ह स क न म नल ख त प च भ ग म ब टकर अध ययन क य ज सकत ह - 1 प र ग त ह स क एव प र वव द क क ल ईस प र व

शब्दकोश

अनुवाद
Free and no ads
no need to download or install

Pino - logical board game which is based on tactics and strategy. In general this is a remix of chess, checkers and corners. The game develops imagination, concentration, teaches how to solve tasks, plan their own actions and of course to think logically. It does not matter how much pieces you have, the main thing is how they are placement!

online intellectual game →