ज्ञान पंचमी

ज्ञान पंचमी ज्येष्ठ शुकल ५ को मनाया जाता है। इस दिन जैन शास्त्र लिख कर उनकी पुजा की गई थी। उससे पहले जैन ज्ञान मोखिक रूप में आचार्य परम्परा से चल रहा था। इस दिन सभी शास्त्र भन्डारो की सफाई व पूजा की जाती है।

व ष ण और क मद व क प ज ह त ह यह वस त प चम क त य ह र कहल त थ श स त र म बस त प चम क ऋष प चम स उल ल ख त क य गय ह त प र ण - श स त र
म घ मह न क श क ल प चम क बसन त प चम क न म स ज न ज त ह बस त क श र आत इस द न स ह त ह इसक ब द ध ज ञ न और कल क द व सरस वत क प ज - आर धन
न ग प चम ह न द ओ क एक प रम ख त य ह र ह ह न द प च ग क अन स र स वन म ह क श क ल पक ष क प चम क न ग प चम क र प म मन य ज त ह इस द न न ग द वत
थ भगव न प ष पदन त ज क जन म क क द नगर म क ष ण पक ष क प चम क म ल नक षत र म ह आ थ ब हद कम आय म ह इन ह ज ञ न क प र प त ह च क थ
ज ञ न म स उन ह न द न म न य क य द ज ञ न स प र ष त क य उन ह न आगम क प चव और ब रहव अ ग क क छ भ ग क भ ज ञ न द य यह स र ज ञ न
द न, ह द मह न क प चव द न प चम क मन य ज त ह म घ जनवर - फरवर स स क त म वस त क अर थ वस त ह त ह प चम श क ल पक ष क प चव द न ह म घ
ऋषभद व क क वल ज ञ न क प र प त ह ई थ ऋषभद व भगव न क समवशरण म न म नल ख त व रत थ : गणधर हज र क वल म न मन: पर ययज ञ न ज ञ न स व भ ष त
द व र ज ज ञ न प र प त ह त ह उसक न म अन म त ह प रत यक ष इ द र य सन न कर ष द व र ज स वस त क अस त त व क ज ञ न नह ह रह ह उसक ज ञ न क स
प रक र ह प चकल य णक मह व र जय त पर य षण ऋष प चम ज न धर म म द प वल ज ञ न प चम दशलक षण धर म णम क र म त र प रव शद व र: ज न धर म तम ल ज न ज न म द र शल क प र ष
रहत ह लग न न स र लग न फल भ म लत ह च द र मन क क रक ह वह ब ध ज ञ न क क रक ह कन य र श म जन म ह न स आप व द व न, पढ - ल ख ह न क स थ - स थ

म स न न करत ह और द व क आश र व द प त ह व य स प र ण म वस त प चम दशहर और नवर त र भ यह प र श रद ध और उल ल स क स थ मन ए ज त ह
ह कर उन ह वरद न द य थ क वस त प चम क द न त म ह र भ आर धन क ज एग इस वरद न क फलस वर प भ रत द श म वस त प चम क द न व द य क अध ष ठ त र द व
क रण इनक ज ञ न अवर द ध ह गय थ और व जड वत ह गए थ ज सस य जड भरत कहल ए जड भरत क कथ व ष ण प र ण क द व त य भ ग म और भ गवत प र ण क प चम क ण ड म
श रद ध सह त पढ ग उन ह हम कष ट नह द ग ज स द न सर पयज ञ बन द ह आ थ उस द न प चम थ अत आज भ भ रत य उक त त थ क न गप चम क र प म मन त ह
क फ चमक ल ह तथ ध त क तरह खनकत ह इस स स क त क ल ग क ल ह क ज ञ न थ त ब क व भ न न वस त ए भ यह स प र प त ह ई ह यह स म र यक ल न
ह स स ह और व द क स ह त ओ पर द य भ ष य क द सर स तर ह इनम दर शन और ज ञ न क ब त ल ख ह ई ह कर मक ण ड क ब र म य च प ह इनक भ ष व द क
त न वर ष क अवस थ म मलय लम क अच छ ज ञ न प र प त कर च क थ इनक प त च हत थ क य स स क त क प र ण ज ञ न प र प त कर पर त प त क अक ल म त य
क म ख य व षय ह प रम न म ह यथ र थ ज ञ न क यथ र थ ज ञ न क ज करण ह अर थ त ज सक द व र यथ र थ ज ञ न ह उस प रम ण कहत ह न य यदर शन म
स व क र करत और ह न द ष ट स द खत ह भ गवत प र ण प चम स क ध भ गवत भ गवत भ गवत व ष ण प र ण भ गवत प चम स क द ब सव अध य य श कद व प य ब र ह मण, व प रव र त
ल गक अन म न स ज ञ न क ग रहण ह त ह इस स प र म ण य क भ ग रहण ह त ह प रभ कर ग र मत म ज ञ न स वय प रक श ह अत: ज ञ न स ह ज ञ नन ष ठ

तपस य क म र ग बतल य थ उनक पहल कर म ह एक म र ग थ और ज ञ न क वल चर च तक स म त थ ज ञ न क स धन क र प द कर कप ल न त य ग, तपस य एव सम ध क भ रत य
र द र ष ट ध य य क भ स ग रह ह आ ह इस ग र थ म ग हस थधर म, र जधर म, ज ञ न - व र ज ञ, श त ईश वरस त त आद अन क सर व त तम व षय क वर णन ह मन ष य
क अव छन य तत व क न र ध ह नह करत थ बल क अपन म द व यवह र और ज ञ न स धर म क मर य द स थ प त करन म श सन क शक त स द ढ करत थ इसस यह
क रम क 16, सन 1915 मह मन प ड त मदन म हन म लव य द व र सन 1916 म बस त प चम क प न त द वस पर क गई थ दस त व ज क अन स र इस व श वव द य लय क स थ पन
व क रम द त य - ईस प र व प रथम शत ब द क उज ज न क बह श र त र ज ज अपन ज ञ न व रत और उद रत क ल ए प रस द ध थ चन द रग प त व क रम द त य - ग प त
ग ह क 22, 5. पर चरण स व व चक ध त क दस इन शब द क प रक त प रत यय ज ञ न क पद क स ख य 279 ह चत र थ अध य य क न गम क ड कह ह इस अध य य
प रक र स ज ञ न जन म र श क ज ञ न त न व ब रह वर ष क ब द प रसव य ग क ज ञ न प रसव क द न र त र क ल क ज ञ न प रसव क लग न द क ज ञ न न त रह न
न व स कर रह ह आप मह ज ञ न क भण ड र ह बल ब ध म प रव ण ह क पय आप म र ग र बनकर म झ स स य र प म स व क र कर क म झ ज ञ न क भ क ष द ज य त हन म न
अल पआय म श स त र म तथ व य वह र क ज ञ न म न प ण ह गय वर ष क अवस थ म समस त श स त र क म थन कर ज ञ न व द ध क न गप र मह र ष ट र क प स
4800 वर ष सत यय ग क अ त तक आध य त म क ज ञ न क समझन क शक त क ख द य 3600 वर ष त र त य ग च म बक य ज ञ न क समझन क शक त क ह र स 2400 वर ष द व पर