उपहार

किसी को प्रसन्न करने के लिए धन, वस्त्र या उसके काम या पसंद की वस्तु, जो बिना किसी अपेक्षा के प्रदान की जाती हे, उपहार कहलाती है। उपहार मन की खुशी को प्रकट करने के लिए या किसी को सम्मानित करने के लिए भी दिए जाते हैं इनके बदले में किसी धन की अपेक्षा नहीं की जाती है। हांलांकि यह अपेक्षा अंतर्निहित हो सकती है कि जिसको उपहार दिया गया है वह अपना प्रेम और कृपा देने वाले पर बनाए रखेगा।

उपह र 1971 म बन ह न द भ ष क फ ल म ह जय बच चन स र श चटव ल नन द त ठ क र - स ध न न प लस कर रत नम ल - श रद बड ज त य अवस थ ल ल म श र क म न
समय न स र उनक न व र ह क य ज सक इस स स क र क सप तम चरण ह परस पर उपह र वर पक ष क ओर स कन य क और कन य पक ष क ओर स वर क वस त र - आभ षण भ ट
करन क आध र पर च न गय ह आध न क क र समस क छ ट ट य म एक द सर क उपह र द न चर च म सम र ह और व भ न न सज वट करन श म ल ह इस सज वट क प रदर शन
व यक त क भ र ख ब ध ज त ह रक ष ब धन क द न ब ज र म कई स र उपह र ब कत ह उपह र और नए कपड खर दन क ल ए ब ज र म ल ग क स बह स श म तक भ ड
स सज ज त यह 150 - प ष ठ क पत र क कम द म क ह ल क न इसक स थ एक उपय क त उपह र प रद न क ए ज त ह ज सम ओश स पर चय तथ म ड ट शन र ज र ट और ध य न
आफ न म न छ क आफ न क ब र न ह र द ग म प जड द न य लहन लड इ उपक र उपह र अजम बर म य अजम बर न त स उद क स न द र रहर डर ज वनद न न त रगतक आग
1997 ग र ग र क ल डर क एक स ध रण वर ष ह 13 ज न द ल ल क उपह र स न म घऱ म आग लगन स 59 ल ग क म त य ह गई तथ 100 स अध क ल ग घ यल ह गए 16
उतन र श ज तन क मत उपह र क ह इनम स ज भ ज य द ह क ज र म न क सज द ज सकत ह ल क न श द क समय वर य वध क ज उपह र द य ज एग और उस न यम न स र
अपन पर व र क ल ए कपड उपह र उपकरण, रस ई क बर तन आद खर दत ह ल ग अपन पर व र क सदस य और द स त क उपह र स वर प आम त र पर म ठ इय व स ख
सम प त ह ज त ह इसम आश त ष क श क व ज त घ ष त क ए ज त ह और उन ह उपह र स वर प 1 कर ड र पय द य ज त ह इसक द सर स थ न म र ज च धर आत
र जक म र नर त तम स ह आल क क ब ड य क र ष ट रपत बन थ 1997 - द ल ल क उपह र स न म घऱ म आग लगन स 59 ल ग क म त य ह गई तथ 100 स अध क ल ग घ यल

क त 1 अप र ल 1957 क ब द द ए गए उपह र पर भ यह अध न यम ल ग ह त थ उपह र कर क प रवर तन क प र व स म न यत: उपह र पर क ई कर नह लगत थ क त आसन न
क न ज म न र न एल ज ब थ द व त य क श द क उपह र क त र पर प रस त त क य थ न ज म क प र उपह र स ट इ ग ल ड क भव ष य क र न एल ज ब थ क ल ए
छत त सगढ प र न त क बस तर ज ल म स थ त ह प रक त न क ग र घ ट क एस उपह र स प ह जह वन द व अपन प र श र ग र म म त रम ग ध कर द न व ल द श य वल य
म खर ज न क य थ आग ज कर इनक स थ वह कई फ ल म म क म क उन ह उपह र 1971 क श श 1972 और क र क गज 1974 सह त अन य फ ल म म उनक अभ नय
पहल ज ञ त त फ न थ 2011 - भ रत य सर व च च न य य लय न ज न म ह ए उपह र थ एटर अग न क ड म मल म द ल ल उच च न य य लय द व र प ड त क ल ए न र ध र त
पर क ष श क र ह त ह श द और उसक ब द वध क द ए ज न व ल गहन एव इत य द उपह र स त र धन कहल त ह पर यद यह उपह र वध पक ष द व र द य गय ह
द र ण च र य क ग र म ग र द र ण च र य क ग र ग र म प ड व और क रव न उपह र स वर प द य थ ज क ऋष भरद व ज क प त र थ मह भ रत म दर श य गय क आ
प स ट ज और क क ज म त र क ल य स म न य उपह र ह क ई भ ऐस नह बन त ज स द हर द न म बनत ह द सर उपह र ज पर यटक यह स ल ज त ह व ख य त क व ल ट
म हनत क स थ स थ प रक त क वरद न और उपह र भ म नत ह उस लगत ह क प रक त न उसक म हनत स प रसन न ह कर फसल क उपह र उस प रद न क य ह प रक त द वत

श षन ग इतन प रसन न ह गए क उन ह न चलत वDत उन ह च र चमत क र रत न उपह र म द ए पहल रत न स म हम ग धन प र प त क य ज सकत थ द सर रत न म गन
प रत भ अब ज ग त ह उठ व व ह क समय उनक श वस र न उनक एक स वर ण कलम उपह र द य थ ब द म उन ह न उस कलम क म न रख प त क उपद श और प र रण न
ज ड कई महत वप र ण व ऐत ह स क वस त ओ क द ख ज सकत ह प रक त क अनम ल उपह र झरन क र च क पर यटन उद य ग क ज न म न ज त ह इन झरन म ह न डर
सव ब न क और ज यज क म करन पर ईश वर क द व र ज हम उपह र म लत ह वह सव ब कहल त ह ज स गर ब क सह यत करन ख द ईश वर, GOD क इब दत करन आद
जब क स व यक त क धन य क ई उपह र इसल य द य ज त ह क क स म मल म धन प र प त करन व ल क व यवह र अपन पक ष म ह ज ए, त इस घ स Bribe कहत
चर त र भ म क ए न भ न लग गई व र स, व श व स, यक न, आदम और इ स न, ग मर ह, उपह र क द, भ वर, त ग व ल और ह र ल ल पन न ल ल म उनक अभ नय क सर ह गय चर त र
ह ल ड आद म उस पर व म बच च क उपह र म लत ह और उन ह व श व स द ल य ज त ह क स त न क लस य उपह र द न आत ह अमर क तथ इ ग ल ड म उस
ज त ह इस सज न क ल ए म मबत त य फ ल, व द य त लड य क झ लर उपह र ग फ ट स घ ट य और कई अन य प रक र क स ज सज ज स सज य ज त ह ShornTree
कर ग अगर वह स ध त म ह क ई च ज उपह र स वर प द ग म आपक द खत ह पहच न गई थ अब स ध क ल टन पर म उसस उपह र म ग ग और आप म र पत न क र प

लक ष य अपन प थ क प रगत एव स फ व द क स व रह ह स फ र ज ओ स द न - उपह र स व क र नह करत थ और स दग भर ज वन ब त न पसन द करत थ इनक कई तर क

फसल पर्व

कृषि आधारित हर समाज या देश में फसल पकने और अनाज घर आने के उपलक्ष्य में कई तरह के पर्व मनाये जाते हैं। विभिन्न फसलों पर विभिन्न तरह के पर्व मनाये जाते हैं। कि...

क्रिस्मस ट्री

क्रिस्मस ट्री एक सजा हुआ सदाबहार शंकुधारी वृक्ष होता है। यह वास्तविक या नकली भी हो सकता है। ये वृक्ष ईसाई धर्म के प्रमुख त्योहार क्रिस्मस के अवसर पर तैयार कि...

जुझारसिंह बुन्देला

जुझारसिंह बुंदेला, ओरछा के राजा वीरसिंह देव के पुत्र थे। जहाँगीर शासन के अंतिम काल में इन्हें राजा की उपाधि मिली और ये चार हजारी मंसबदार बने। सन् १६२७ ईo शाह...