• प्रदीप्त बत्ती

    प्रदीप्त बत्ती या प्रदीप्त नलिका या फ्लोरिसेण्ट लैम्प एक गैस-डिस्चार्ज बत्ती है जिसमें पारे के वाष्प को इक्साइट करने के लिये विद्युत विभव का उपयोग किया जाता ...

  • दीया

    दीया का अर्थ मुख्यतः दीपक होता है। यह एक प्रचलित नाम भी है:- दीया मिर्ज़ा, अभिनेत्री और समाज सेविका दीया कुमारी, जयपुर की राजकुमारी दीया खान, फ़िल्म निर्देशक...

  • दीपक (बहुविकल्पी)

    दीपक एक प्रकार की बत्ती है। यह एक प्रचलित प्रदत्त नाम भी हैं। कुछ इस नाम वाले लोग:- दीपक डोबरियाल, हिन्दी फिल्म अभिनेता दीपक पारेख, पद्म भूषण सम्मानित दीपक श...

दीपक

दीप, दीपक, दीवा या दीया वह पात्र है जिसमें सूत की बाती और तेल या घी रख कर ज्योति प्रज्वलित की जाती है। पारंपरिक दीया मिट्टी का होता है लेकिन धातु के दीये भी प्रचलन में हैं। प्राचीनकाल में इसका प्रयोग प्रकाश के लिए किया जाता था पर बिजली के आविष्कार के बाद अब यह सजावट की वस्तु के रूप में अधिक प्रयोग होता है। धार्मिक व सामाजिक अनुष्ठानों में इसका महत्व अभी भी बना हुआ है। यह पंचतत्वों में से एक, अग्नि का प्रतीक माना जाता है। दीपक जलाने का एक मंत्र भी है जिसका उच्चारण सभी शुभ अवसरों पर किया जाता है। इसमें कहा गया है कि सुन्दर और कल्याणकारी, आरोग्य और संपदा को देने वाले हे दीप, हमारी बुद्धि के विकास के लिए हम तुम्हें नमस्कार करते हैं। विशिष्ट अवसरों पर जब दीपों को पंक्ति में रख कर जलाया जाता है तब इसे दीपमाला कहते हैं। ऐसा विशेष रूप से दीपावली के दिन किया जाता हैं। अन्य खुशी के अवसरों जैसे विवाह आदि पर भी दीपमाला की जाती है।

1. दीपक का इतिहास
ज्योति अग्नि और उजाले का प्रतीक दीपक कितना पुरातन है इसके विषय में निश्चित रूप से कुछ नहीं कहा जा सकता। गुफाओं में भी यह मनुष्य के साथ था। कुछ बड़ी अंधेरी गुफाओं में इतनी सुन्दर चित्रकारी मिलती है जिसे बिना दीपक के बनाना सम्भव नहीं था। भारत में दिये का इतिहास प्रामाणिक रूप से 5000 वर्षों से भी ज्यादा पुराना हैं जब इसे मुअन-जो-दडो में ईंटों के घरों में जलाया जाता था। खुदाइयों में वहाँ मिट्टी के पके दीपक मिले है। कमरों में दियों के लिये आले या ताक़ बनागए हैं, लटकाए जाने वाले दीप मिले हैं और आवागमन की सुविधा के लिए सड़क के दोनों ओर के घरों तथा भवनों के बड़े द्वापर दीप योजना भी मिली है। इन द्वारों में दीपों को रखने के लिए कमानदार नक्काशीवाले आलों का निर्माण किया गया था।
दीपक भारतीय संस्कृति और जीवन में इस प्रकार मिला जुला है कि इसके नाम पर भारतीय शास्त्रीय संगीत में एक राग का नाम दीपक राग - रखा गया है। कहते हैं इसके गाने से दीपक अपने आप जलने लगते हैं।

धुनाची

नृत्य पूजा और आरती करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता एक पात्र है | जो है मिट्टी और पीतल से बनाया जाता है | नारियल का छिलका और सूर्य से नृत्य जलाया जाता है | पूजा में दीपक के पहले या बाद में नृत्य द्वारा आरती है | बंगाल की है कि दुर्गा पूजा में आरती का एक विशेष आचार है |बनारस भी दान आरती प्रचलित है | नृत्य आरती की कुछ राज्य में धूप आरती भी कहते हैं|

दीपक (बहुविकल्पी)

दीपक एक प्रकार की बत्ती है। यह एक प्रचलित प्रदत्त नाम भी हैं। कुछ इस नाम वाले लोग:- दीपक डोबरियाल, हिन्दी फिल्म अभिनेता दीपक पारेख, पद्म भूषण सम्मानित दीपक श...

दीया

दीया का अर्थ मुख्यतः दीपक होता है। यह एक प्रचलित नाम भी है:- दीया मिर्ज़ा, अभिनेत्री और समाज सेविका दीया कुमारी, जयपुर की राजकुमारी दीया खान, फ़िल्म निर्देशक...

प्रदीप्त बत्ती

प्रदीप्त बत्ती या प्रदीप्त नलिका या फ्लोरिसेण्ट लैम्प एक गैस-डिस्चार्ज बत्ती है जिसमें पारे के वाष्प को इक्साइट करने के लिये विद्युत विभव का उपयोग किया जाता ...