ⓘ प्रतिस्पर्धात्मक समझ, व्यापक तौपर किसी संगठन के अधिकारियों और प्रबंधकों द्वारा महत्वपूर्ण निर्णय लेने में सहायता करने के लिए आवश्यक परिवेश के किसी भी पहलू, उत्प ..

                                     

ⓘ प्रतिस्पर्धात्मक समझ

प्रतिस्पर्धात्मक समझ, व्यापक तौपर किसी संगठन के अधिकारियों और प्रबंधकों द्वारा महत्वपूर्ण निर्णय लेने में सहायता करने के लिए आवश्यक परिवेश के किसी भी पहलू, उत्पादों, ग्राहकों और प्रतिस्पर्धियों के बारे में समझ को परिभाषित, एकत्रित, विश्लेषित और वितरित करने की क्रिया है।

इस परिभाषा के मुख्य बिंदु:

  • इसका केन्द्र बिंदु बाह्य व्यावसायिक परिवेश है।
  • जानकारी इकठ्ठा करने, उसे समझ में तब्दील करने और उसके बाद उसका इस्तेमाल व्यावसायिक निर्णय लेने में करने में एक प्रक्रिया शामिल है। सीआई कॉम्पटीटिव इंटेलिजेंस पेशेवर इस बात पर ज्यादा जोर देते हैं कि अगर एकत्रित ख़ुफ़िया जानकारी इस्तेमाल या कार्रवाई के लायक न हो तो उसे ख़ुफ़िया जानकारी नहीं माना जा सकता.
  • प्रतिस्पर्धात्मक समझ एक नैतिक और वैध व्यावसायिक प्रक्रिया है जबकि औद्योगिक जासूसी को इसके विपरीत अवैध माना जाता है।

सीआई की एक अधिक केंद्रित परिभाषा इसे संगठनात्मक कार्यक्षमता मानती है जो बाजार में जोखिमों और अवसरों के स्पष्ट होने से पहले उनकी आरंभिक पहचान करने के लिए जिम्मेदार होती है। विशेषज्ञ इस प्रक्रिया को आरंभिक संकेत विश्लेषण भी कहते हैं। यह परिभाषा पुस्तकालयों और सूचना केन्द्रों जैसे कार्यक्षमताओं द्वारा प्रदर्शित व्यापक रूप से उपलब्ध तथ्यात्मक सूचना के प्रसाऔर एक प्रतिस्पर्धात्मक सीमा के विस्तार के उद्देश्य से विकासों और घटनाओं के एक परिप्रेक्ष्य के रूप में प्रतिस्पर्धात्मक ख़ुफ़िया जानकारी के बीच के अंतर पर ध्यान केंद्रित करती है।

सीआई शब्द को अक्सर प्रतिस्पर्धी विश्लेषण के पर्याय के रूप में देखा जाता है लेकिन प्रतिस्पर्धात्मक ख़ुफ़िया जानकारी प्रतिस्पर्धियों के विश्लेषण से कहीं बढ़कर है - यह संगठन के सम्पूर्ण परिवेश और हितधारकों: ग्राहकों, प्रतिस्पर्धियों, वितरकों, प्रौद्योगिकियों, वृहद-आर्थिक आंकड़ों इत्यादि की तुलना में संगठन को अधिक प्रतिस्पर्धी बनाने के बारे में है।

                                     

1. ऐतिहासिक विकास

प्रतिस्पर्धात्मक ख़ुफ़िया के क्षेत्र से जुड़े साहित्य का सबसे अच्छा उदाहरण विस्तृत ग्रन्थ सूचियों में मिल सकता है जिन्हें सोसाइटी ऑफ कम्पटीटीव इंटेलिजेंस प्रोफेशनल्स द्वारा संदर्भित द जर्नल ऑफ कम्पटीटीव इंटेलिजेंस एण्ड मैनेजमेंट नामक अकादमिक जर्नल में प्रकाशित किया गया था। हालांकि संगठनात्मक ख़ुफ़िया जानकारी संग्रह के तत्व कई सालों से व्यवसाय का एक हिस्सा रहे हैं लेकिन प्रतिस्पर्धात्मक ख़ुफ़िया जानकारी के इतिहास का आरम्भ यक़ीनन 1970 के दशक में यू.एस. में हुआ था हालांकि इस क्षेत्र से संबंधित साहित्य का समय कम से कम कई दशक पुराना है। 1980 में माइकल पोर्टर ने कम्पटीटीव-स्ट्रेटजी: टेक्नीक्स फॉर एनालाइजिंग इंडस्ट्रीज एण्ड कंपटीटर्स नामक अध्ययन को प्रकाशित किया जिसे व्यापक तौपर आधुनिक प्रतिस्पर्धात्मक ख़ुफ़िया जानकारी की नींव के रूप में देखा जाता है। उसके बाद से सबसे उल्लेखनीय रूप से क्रेग फ्लेशर और बाबेट बेन्सूसन की जोड़ी द्वारा इसका विस्तार किया गया है जिन्होंने प्रतिस्पर्धात्मक विश्लेषण पर कई लोकप्रिय किताबों के माध्यम से आम तौपर अभ्यासकर्ता के टूल बॉक्स में 48 कार्यान्वित प्रतिस्पर्धात्मक ख़ुफ़िया विश्लेषण को शामिल किया है। 1985 में, लियोनार्ड फुल्ड ने प्रतिस्पर्धी ख़ुफ़िया को समर्पित अपनी सबसे ज्यादा बिकने वाली किताब को प्रकाशित किया। हालांकि अमेरिकी निगमों में एक औपचारिक गतिविधि के रूप में सीआई के संस्थानीकरण के निशान 1988 में मिल सकते हैं जब बेन और तामार गिलाड ने एक औपचारिक कॉर्पोरेट सीआई फंक्शन के सबसे पहले संगठनात्मक मॉडल को प्रकाशित किया था जिसे तब अमेरिकी कंपनियों द्वारा व्यापक तौपर अपना लिया गया था। प्रथम पेशेवर प्रमाणीकरण कार्यक्रम सीआईपी का निर्माण 1996 में मेसाचुसेट्स के कैम्ब्रिज में द फुल्ड-गिलाड-हेरिंग अकादमी ऑफ कम्पटीटीव इंटेलिजेंस की स्थापना के साथ किया गया था जिसके बाद 2004 में इंस्टिट्यूट फॉर कम्पटीटीव इंटेलिजेंस की स्थापना की गई थी।

1986 में यू.एस. में सोसाइटी ऑफ कम्पटीटीव इंटेलिजेंस प्रोफेशनल्स एससीआईपी की स्थापना की गई और 1990 के दशक के अंतिम दौर में दुनिया भर के लगभग 6000 सदस्यों की भागीदारी से इसका विकास हुआ जिसमें मुख्य रूप से यू.एस. और कनाडा के सदस्य शामिल थे लेकिन खास तौपर यूके और जर्मनी के सदस्य भी बड़े पैमाने पर शामिल थे। 2009 में वित्तीय कठिनाइयों के कारण इस संगठन को फ्रोस्ट एण्ड सुलिवन इंस्टिट्यूट के तहत फ्रोस्ट एण्ड सुलिवन में मिला लिया गया। उसके बाद से एससीआईपी को "स्ट्रेटजिक एण्ड कम्पटीटीव इंटेलिजेंस प्रोफेशनल्स नाम दिया गया है जिससे इस विषय की रणनीतिक प्रकृति पर जोर दिया जा सके और इसके अलावा संगठन के सामान्य दृष्टिकोण पर फिर से ध्यान केंद्रित किया जा सके जबकि मौजूदा एससीआईपी ब्रांडनेम और लोगो को बनाये रखा गया है। उत्तर-माध्यमिक विश्वविद्यालय शिक्षा में क्षेत्र की उन्नति पर विचार-विमर्श करने के लिए कई प्रयास किगए हैं जिन्हें कई लेखकों द्वारा कवर किया गया है जिनमें ब्लेंकहोर्न एण्ड फ्लेशर, फ्लेशर, फुल्ड, पप्रेसकॉट, और मैक गोनेगल शामिल थे। हालांकि सामान्य दृष्टिकोण यह होगा कि प्रतिस्पर्धात्मक ख़ुफ़िया अवधारणाएँ तुरंत तैयार मिल सके और दुनिया भर के कई व्यावसायिक स्कूलों में पढ़ाया जा सके, लेकिन इस क्षेत्र में अभी भी अपेक्षाकृत कुछ ऐसे समर्पित अकादमिक कार्यक्रम, मुख्य विषय या डिग्रियां हैं जो इस क्षेत्र के शिक्षकों के लिए एक चिंता का विषय बना हुआ है जो इसमें और शोध देखना पसंद करेंगे. इस विषय को समर्पित कम्पटीटीव इंटेलिजेंस मैगजीन के एक विशेष संस्करण में एक दर्जन से भी ज्यादा ज्ञानी व्यक्तियों ने इन मुद्दों पर व्यापक रूप से चर्चा की है। दूसरी तरफ अभ्यासकर्ता पेशेवर मान्यीकरण को अधिक महत्वपूर्ण मानते हैं।

प्रतिस्पर्धात्मक ख़ुफ़िया के क्षेत्र में हुए वैश्विक विकास भी काफी असमान रहे हैं। कई अकादमिक जर्नलों, खास तौपर जर्नल ऑफ कम्पटीटीव इंटेलिजेंस एण्ड मैनेजमेंट के तीसरे खंड में इस क्षेत्र के वैश्विक विकास का कवरेज प्रदान किया गया। उदाहरण के लिए 1997 में फ़्रांस के पेरिस में इकोले डे गुएर्रे इकोनॉमिक स्कूल ऑफ इकोनॉमिक वारफेयर की स्थापना की गई। यह एक वैश्वीकरणशील विश्व में आर्थिक युद्ध की रणनीतियों की शिक्षा देने वाली पहली यूरोपीय संस्था है। जर्मनी में प्रतिस्पर्धात्मक ख़ुफ़िया के क्षेत्र में 1990 के दशक के आरंभिक दौर विशेष ध्यान नहीं दिया गया। "प्रतिस्पर्धात्मक ख़ुफ़िया" शब्द सबसे पहले 1997 में जर्मन साहित्य में दिखाई दिया. 1995 में एक जर्मन एससीआईपी अध्याय की स्थापना की गई जो अब यूरोप में सदस्यों की संख्या की दृष्टि से दूसरे स्थान पर है। 2004 की गर्मियों में इंस्टिट्यूट ऑफ कम्पटीटीव इंटेलिजेंस की स्थापना की गई जो कम्पटीटीव इंटेलिजेंस प्रोफेशनल्स के लिए एक स्नातकोत्तर प्रमाणन कार्यक्रम प्रदान करता है। फ़िलहाल जापान ही एक ऐसा एकमात्र देश है जो आधिकारिक तौपर एक आर्थिक ख़ुफ़िया एजेंसी जेट्रो को बनाए रखता है। इसकी स्थापना 1958 में अंतर्राष्ट्रीय व्यापार एवं उद्योग मंत्रालय मिटी द्वारा की गई थी।

प्रतिस्पर्धात्मक ख़ुफ़िया के महत्व को स्वीकार करते हुए प्रमुख बहुराष्ट्रीय कॉर्पोरेशनों जैसे एक्सनमोबिल, प्रोक्टर एण्ड गैम्बल और जॉन्सन एण्ड जॉन्सन ने औपचारिक सीआई इकाइयों का निर्माण किया है। महत्वपूर्ण बात यह है कि संगठन प्रतिस्पर्धात्मक ख़ुफ़िया गतिविधियों का कार्यान्वयन केवल बाजार के खतरों और परिवर्तनों से बचाव करने के लिए एक सुरक्षा कवच के रूप में ही नहीं बल्कि नए अवसरों और प्रवृत्तियों को ढूँढने की एक पद्धति के रूप में भी करते हैं।

                                     

2. सिद्धांत

संगठन अन्य संगठनों के साथ खुद की तुलना "प्रतिस्पर्धात्मक बेंचमार्किंग" करने के लिए, अपने बाजारों में जोखिमों और अवसरों की पहचान करने और बाजार की प्रतिक्रिया वार गेमिंग के खिलाफ अपनी योजनाओं के दबाव-परीक्षण के लिए प्रतिस्पर्धात्मक ख़ुफ़िया का इस्तेमाल करते हैं जो उन्हें सूचित निर्णय लेने में सक्षम बनाता है। ज्यादातर कंपनियां आजकल इस बात को जानने के महत्व को समझती हैं कि उनके प्रतिद्वंद्वी क्या कर रहे हैं और उद्योग कैसे बदल रहा है और एकत्रित जानकारी से संगठनों को अपनी ताकत और कमजोरी को समझने में मदद मिलती है।

किसी संगठन के लिए इस तरह की जानकारी का वास्तविक महत्व उसके बाजारों की प्रतियोगात्मकता, संगठनात्मक संस्कृति और इसके शीर्ष निर्णयकर्ताओं के व्यक्तित्व और झुकाव और कंपनी में प्रतिस्पर्धात्मक ख़ुफ़िया की रिपोर्टिंग संरचना पर निर्भर करता है।

स्ट्रेटजिक इंटेलिजेंस एसआई: इसका मुख्य केन्द्र अपेक्षाकृत लंबी अवधि में दो चार वर्षों में कंपनी की प्रतिस्पर्धात्मकता को प्रभावित करने वाले मुद्दों पर दृष्टि डालना है। एसआई की वास्तविक समय सीमा अंततः उद्योग और इस बात पर निर्भर करती है कि इसमें कितनी तेजी से बदलाव हो रहा है। जिन सामान्य सवालों का एसआई जवाब देते हैं वे इस प्रकार हैं, एक कंपनी के रूप में हमें एक्स वर्षों में कहाँ होना चाहिए? और किन-किन रणनीतिक जोखिमों और अवसरों से हमारा सामना होने वाला है? इस तरह के ख़ुफ़िया कार्य में कार्यपद्धति और प्रक्रिया के कमजोर संकेतों और अनुप्रयोग की पहचान शामिल है जिसे स्ट्रेटजिक अर्ली वार्निंग एसईडब्ल्यू कहा जाता है जिसकी शुरुआत सबसे पहले गिलाड ने की थी और जिसका अनुकरण स्टीवन शेकर और विक्टर रिचर्डसन, एलेसंद्रो कोमाई और जोआकिन टेना तथा अन्य द्वारा भी किया गया। गिलाड के अनुसार प्रतिस्पर्धात्मक ख़ुफ़िया अभ्यासकर्ताओं के 20% कार्य को एक एसईडब्ल्यू ढांचे के भीतर कमजोर संकेतों की रणनीतिक आरंभिक पहचान को समर्पित किया जाना चाहिए.

टैक्टिकल इंटेलिजेंस: इसका मुख्य केन्द्र अक्सर बाजार हिस्सेदारी या राजस्व में विकास की मंशा से संबंधित अपेक्षाकृत अल्पकालीन निर्णयों में सुधार लाने के लिए जानकारी प्रदान करना है। आम तौपर एक संगठन में बिक्री प्रक्रिया को सहारा देने के लिए इस तरह की जानकारी की जरूरत पड़ती है। यह उत्पाद/उत्पाद लाइन विपणन के विभिन्न पहलुओं की जांच करता है: उत्पाद - लोग क्या बेच रहे हैं? कीमत - वे कितनी कीमत वसूल रहे हैं? प्रोत्साहन - इस उत्पाद को बढ़ावा देने के लिए वे किन-किन गतिविधियों का आयोजन कर रहे हैं? स्थान - इस उत्पाद को वे कहाँ बेच रहे हैं? अन्य - बिक्री बल संरचना, नैदानिक परीक्षण डिजाइन, तकनीकी मुद्दे इत्यादि.

सही परिमाण में जानकारी प्राप्त करके संगठन अपने प्रतिद्वंद्वियों की चाल का अंदाजा लगाकर और प्रतिक्रिया समय को कम करके अप्रिय घटनाओं से बच सकते हैं। प्रतिस्पर्धात्मक ख़ुफ़िया अनुसंधान के उदाहरण दैनिक समाचार पत्रों जैसे वॉल स्ट्रीट जर्नल, बिजनेस वीक और फॉर्च्यून में देखने को मिलते हैं। प्रमुख एयरलाइन रोज अपने प्रतिद्वंद्वियों की कार्यनीतियों के प्रतिक्रियास्वरुप सैकड़ों किरायों में परिवर्तन करती हैं। वे अपने खुद के विपणन, मूल्य निर्धारण और उत्पादन रणनीतियों की योजना बनाने के लिए इस जानकारी का इस्तेमाल करते हैं।

इंटरनेट जैसे संसाधनों ने प्रतिद्वंद्वियों से संबंधित जानकारी इकठ्ठा करने के काम को आसान बना दिया है। विश्लेषक बटन दबाकर भावी प्रवृत्तियों और बाजार की जरूरतों का पता लगा सकते हैं। हालांकि प्रतिस्पर्धात्मक ख़ुफ़िया इससे कहीं बढ़कर है क्योंकि इसका अंतिम लक्ष्य प्रतिस्पर्धात्मक लाभ प्राप्त करना है। चूंकि इंटरनेट मुख्यतः सार्वजनिक क्षेत्र में इस्तेमाल किया जाता है इसलिए एकत्रित जानकारी के परिणामस्वरूप केवल अपनी कंपनी के लिए विशिष्ट जानकारी प्राप्त किये जाने की संभावना काफी कम होती है। असल में इसमें एक जोखिम है कि इंटरनेट से एकत्रित जानकारी गलत जानकारी हो सकती है और उपयोगकर्ताओं को गुमराह कर सकती है इसलिए प्रतिस्पर्धात्मक ख़ुफ़िया शोधकर्ता अक्सर इस तरह की जानकारी का इस्तेमाल करने से कतराते हैं।

नतीजतन इंटरनेट को एक महत्वपूर्ण स्रोत के रूप में देखे जाने के बावजूद ज्यादातर सीआई पेशेवरों को प्राथमिक अनुसंधान के इस्तेमाल से उद्योग के विशेषज्ञों साथ नेटवर्किंग, व्यापारिक कार्यक्रमों और सम्मेलनों से, अपने खुद के ग्राहकों और आपूर्तिकर्ताओं से और इसी तरह अन्य साधनों से ख़ुफ़िया जानकारी इकठ्ठा करने पर अपना समय और बजट खर्च करना चाहिए. जहाँ इंटरनेट का इस्तेमाल किया जाता है वहां प्राथमिक अनुसंधान के लिए स्रोतों के साथ-साथ जानकारी इकठ्ठा करना चाहिए जिसके आधापर कंपनी अपने बारे में और अपनी ऑनलाइन मौजूदगी के बारे में बताती है। इसके अलावा ऑनलाइन सदस्यता डेटाबेस और समाचार एकत्रीकरण स्रोत भी महत्वपूर्ण है जिन्होंने माध्यमिक स्रोत संग्रह प्रक्रिया को सरल बना दिया है। सामाजिक मीडिया स्रोत भी महत्वपूर्ण होते जा रहे हैं जो संभावित साक्षात्कार देने वालों के नामों के साथ-साथ विचारों और व्यवहारों और कभी-कभी खास खबर जैसे ट्विटर के माध्यम से प्रदान करते हैं।

संगठनों को किसी नए प्रतिद्वंद्वी के अस्तित्व के बारे में समझे बिना पुराने प्रतिद्वंद्वियों पर बहुत ज्यादा समय और मेहनत खर्च करने के प्रति सावधान रहना चाहिए. अपने प्रतिद्वंद्वियों के बारे में अधिक जानकारी हासिल करने से आपके व्यवसाय के विकास और सफलता में मदद मिलेगी. प्रतिस्पर्धात्मक ख़ुफ़िया का अभ्यास हर साल बढ़ रहा है और ज्यादातर कंपनियां और व्यावसायिक छात्र अब अपने प्रतिद्वंद्वियों के बारे में जानकारी हासिल करने के महत्व को समझते हैं।

कम्पटीटीव इंटेलिजेंस रिव्यू में 2006 के लेख में अर्जन सिंह और एंड्रयू ब्यूर्शेंस के अनुसार किसी कंपनी की प्रतिस्पर्धात्मक ख़ुफ़िया क्षमता के विकास के चार चरण हैं। इसकी शुरुआत स्टिक फेचिंग से होती है जहाँ एक सीआई विभाग वर्ल्ड क्लास के प्रति बहुत प्रतिक्रियाशील है जहाँ निर्णय लेने की प्रक्रिया में इसे पूरी तरह से एकीकृत कर दिया जाता है।

                                     

3. प्रतिस्पर्धात्मक ख़ुफ़िया और इसी तरह के अन्य क्षेत्रों के बीच अंतर

प्रतिस्पर्धात्मक ख़ुफ़िया और संबंधित क्षेत्रों के बीच अक्सर भ्रम उत्पन्न हो जाता है या संबंधित क्षेत्रों की तुलना में उसमें अतिव्यापी तत्वों के होने के रूप में देखा जाता है जैसे बाजार अनुसंधान, पर्यावरणीय स्कैनिंग, व्यावसायिक ख़ुफ़िया और विपणन अनुसंधान जो बस नाम भर है। कुछ ने यह सवाल उठाया है कि क्या "प्रतिस्पर्धात्मक ख़ुफ़िया" का नाम भी एक संतोषजनक नाम है जिसे इस क्षेत्र के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। 2003 की एक किताब के अध्याय में फ्लेशर प्रतिस्पर्धात्मक ख़ुफ़िया की तुलना व्यावसायिक ख़ुफ़िया, प्रतिद्वंद्वी ख़ुफ़िया, ज्ञान प्रबंधन, बाजार ख़ुफ़िया, विपणन अनुसंधान और रणनीतिक ख़ुफ़िया से करते हैं।

पूर्व एससीआईपी प्रेसिडेंट और सीआई लेखक क्रेग फ्लेशर द्वारा दिगए तर्क से पता चलता है कि व्यावसायिक ख़ुफ़िया के दो रूप हैं। इसके संकीर्ण समकालीन रूप में प्रतिस्पर्धात्मक ख़ुफ़िया से कहीं अधिक सूचना प्रौद्योगिकी और आतंरिक फोकस शामिल है जबकि इसकी व्यापक ऐतिहासिक परिभाषा में वास्तव में सीआई के समकालीन अभ्यास से कहीं अधिक तत्व शामिल है। ज्ञान प्रबंधन केएम जब इसे ठीक से हासिल नहीं किया गया है इस क्षेत्र में बेहतरीन मानकों तक पहुँचने के लिए इसे उपयुक्त वर्गीकरण की जरूरत है, को भी बहुत ज्यादा सूचना प्रौद्योगिकी द्वारा प्रेरित संगठनात्मक अभ्यास के रूप में देखा जाता है जो निर्णय लेने के लिए संगठनात्मक सदस्यों तक इसे सुलभ बनाने के लिए डेटा माइनिंग, कॉर्पोरेट इंट्रानेट्स और संगठनात्मक परिसंपत्तियों के मानचित्रण पर निर्भर है। सीआई वास्तविक केएम के कुछ पहलुओं को शेयर करता है जो अधिक परिष्कृत गुणात्मक विश्लेषण, रचनात्मकता, भावी विचारों के लिए आदर्श और निश्चित रूप से मानव ख़ुफ़िया और अनुभव पर आधारित है। केएम प्रभावी नवाचारों के लिए आवश्यक है।

बाजार ख़ुफ़िया एमआई उद्योग-लक्ष्यित ख़ुफ़िया है जो बाजार की आकर्षणीयता को बेहतर ढंग से समझने के लिए उत्पाद या सेवा बाजार में विपणन मिश्रण के 4 चरणों में घटित होने वाली प्रतिस्पर्धात्मक घटनाओं के वास्तविक समय अर्थात् गत्यात्मक पहलुओं पर विकसित हुआ है। एक समय आधारित प्रतिस्पर्धात्मक कार्यनीति एमआई अंतर्दृष्टि का इस्तेमाल विपणन और बिक्री प्रबंधकों द्वारा उनके विपणन प्रयासों को तेज करने के लिए किया जाता है जिससे तीव्र गतिशील और ऊर्ध्वाधर अर्थात् उद्योग बाजार में उपभोक्ताओं को अतिशीघ्र जवाब दिया जा सके. क्रेग फ्लेशर का सुझाव है कि यह सीआई के कुछ रूपों की तरह व्यापक रूप से वितरित नहीं है जो अन्य गैर-विपणन निर्णयकर्ताओं के लिए वितरित है। कई अन्य ख़ुफ़िया क्षेत्रों की तुलना में बाजार ख़ुफ़िया की समय सीमा भी थोड़े समय के लिए और इसे आम तौपर दिनों, सप्ताहों, या कुछ धीमी गति से चलने वाले उद्योगों में मुट्ठी भर महीनों में मापा जाता है।

विपणन अनुसंधान एक कार्यनीतिक, विधि-संचालित क्षेत्र है जिसमें मुख्य रूप से तटस्थ प्राथमिक अनुसंधान शामिल है जो सर्वेक्षणों या फोकस समूहों के माध्यम से एकत्रित विश्वासों और विचारों के रूप में ग्राहक विवरण प्राप्त करता है और जिसका सांख्यिकीय अनुसंधान तकनीकों के अनुप्रयोग के माध्यम से विश्लेषण किया जाता है। इसके विपरीत, सीआई आम तौपर हितधारकों की एक व्यापक श्रेणी से व्यापक विविधता अर्थात् प्राथमिक और माध्यमिक दोनों वाले स्रोतों को हासिल करता है और जो केवल मौजूदा सवालों के ही जवाब नहीं देना चाहता है बल्कि नए सवालों को उत्पन्न करने और कार्य का मार्गदर्शन करने की भी चाहत रखता है।

बेन गिलाड और जन हेरिंग के 2001 के लेख में लेखक बुनियादी पूर्वपेक्षाओं के एक सेट की स्थापना करते हैं जो सीआई की अद्वितीय प्रकृति को परिभाषित करता है और इसे अन्य सूचना समृद्ध विषयों जैसे बाजार अनुसंधान या व्यवसाय विकास से अलग बताता है। वे बताते हैं कि ज्ञान का एक सामान्य निकाय और कार्यान्वित उपकरणों का एक अद्वितीय सेट सीआई को स्पष्ट रूप से अलग करता है और जबकि वाणिज्यिक कंपनी में अन्य संवेदी गतिविधियों का केन्द्र बाजार में खिलाड़ियों ग्राहक या आपूर्तिकर्ता या अधिग्रहण लक्ष्य की एक श्रेणी होती है लेकिन सीआई एकमात्र एकीकृत विषय है जो सभी हाई इम्पैक्ट प्लेयर्स एचआईपी पर डेटा के संश्लेषण की मांग करता है।

एक परवर्ती लेख में गिलाड सूचना एवं ख़ुफ़िया के बीच के अंतर पर अधिक बलपूर्वक सीआई के अपने चित्रण पर ध्यान केंद्रित करते हैं। गिलाड के अनुसार कई संगठनात्मक संवेदी कार्यों की समानता, चाहे बाजार अनुसंधान, व्यावसायिक ख़ुफ़िया या बाजार ख़ुफ़िया कहा जाए, यह है कि व्यावहारिक की दृष्टि से वे तथ्य और सूचना न कि ख़ुफ़िया जानकारी प्रदान करते हैं। गिलाड के अनुसार ख़ुफ़िया जानकारी तथ्यों का एक दृष्टिकोण है न कि खुद कोई तथ्य है। विशिष्ट रूप से अन्य कॉर्पोरेट कार्यों में प्रतिस्पर्धात्मक ख़ुफ़िया जानकारी में कंपनी के समग्र प्रदर्शन के लिए बाहरी जोखिमों और अवसरों का एक विशिष्ट परिप्रेक्ष्य होता है और इस तरह यह संगठन के जोखिम प्रबंधन गतिविधि न कि सूचना गतिविधियों का हिस्सा है।

                                     

4. आचारनीति

आचारनीति सीआई अभ्यासकर्ताओं के बीच चर्चा का एक दीर्घकालीन मुद्दा है। मूलतः इसके इर्द-गिर्द घूमने वाले सवाल ये हैं कि सीआई अभ्यासकर्ताओं की गतिविधि की दृष्टि से क्या स्वीकार्य है और क्या स्वीकार्य नहीं है। इस विषय पर कई अति उत्कृष्ट विद्वतापूर्ण उपाय पेश किये गए हैं जिन्हें सबसे उल्लेखनीय रूप से सोसाइटी ऑफ कम्पटीटीव इंटेलिजेंस प्रोफेशनल्स के प्रकाशनों के माध्यम से संबोधित किया गया है। कम्पटीटीव इंटेलिजेंस एथिक्स: नेविगेटिंग द ग्रे ज़ोन नामक किताब सीआई में आचारनीति के बारे में लगभग बीस अलग-अलग विचार प्रदान करती है और इसके साथ ही साथ विभिन्न व्यक्तयों या संगठनों द्वारा इस्तेमाल किगए 10 कोड भी प्रदान करती है। विभिन्न सीआई ग्रन्थ सूची संबंधी प्रविष्टियों के भीतर पागए दो दर्जन से अधिक विद्वतापूर्ण लेखों या अध्ययनों के साथ इसे संयोजित करने पर, यह स्पष्ट हो जाता है कि सीआई आचारनीति को बेहतर ढंग से वर्गीकृत करने, समझने और संबोधित करने संबंधी अध्ययनों की कोई कमी नहीं है।

प्रतिस्पर्धात्मक सूचना को सार्वजनिक या सदस्यता वाले स्रोतों से, प्रतिस्पर्धी कर्मचारियों या ग्राहकों के साथ नेटवर्किंग करके, या क्षेत्र अनुसंधान साक्षात्कारों से प्राप्त किया जा सकता है। प्रतिस्पर्धात्मक समझ संबंधी शोध को औद्योगिक जासूसी से अलग किया जा सकता है क्योंकि सीआई अभ्यासकर्ता आम तौपर स्थानीय वैध दिशा-निर्देशों और नैतिक व्यावसायिक मानदंडों का पालन करते हैं।

                                     
  • उपकरण स ब ध ग णवत त बड तत व ह त ह स म न यत ख ल क एक स गठ त, प रत स पर ध त मक और प रश क ष त श र र क गत व ध क र प म पर भ ष त क य गय ह ज सम
  • व द वत त प र ण व च र क कई प ढ य न अन क प रत स पर ध त मक स द ध त क जन म द य ह और इस जट ल तथ य क प रत वर तम न समझ क व कस त करन म क फ य गद न द य
  • व तरण. व श व क रणन त प रत स पर ध त मक रणन त व च र क व क स प रत स पर ध त मक ल भ बन म प रत स पर ध त मक स थ पन प रत स पर ध त मक ल भ और क र य - स प दन न ह त र थ
  • प रत य ग त ओ म प रदर श त क य ज त ह इस अर थ म र ब न त य प च प रत स पर ध त मक अ तर र ष ट र य ल ट न न त य प स ड बल स ब च - च - च तथ ज इव
  • क इस तरह पर भ ष त करत ह व श द ध म ल य स थ प त करन क उद द श य, प रत स पर ध त मक आध रभ त स व ध ओ क न र म ण, व श वव य प प रच लन - तन त र क ल भ, म ग
  • म तथ आत म - न य त रण और द ढ त क व क स क स ख त ह यह भ वन ओ क प रत स पर ध त मक र प स ब झ न क क श श नह करत ह बल क उन ह एक आकस म क अस त ष
  • क स ख य बढ न क ल ए उच च अ क तक पह च प न म प रय क त ओ क प रत स पर ध त मकत पर द व लग रह ह ख ल क सम प त पर स क र न अन य ख ल ड द व र
  • व य वस य क क र य ह ज लक ष य क ए ज रह ब ज र क क पन व उसक उत प द क प रत स पर ध त मक ल भ एव क मत क ब र स च त व श क ष त करत ह म ल य Value वह क मत
  • ह औद य ग क स ब ध व द वत त क म नन ह क श रम ब ज र प र तरह स प रत स पर ध त मक नह ह और इस ल ए म ख यध र आर थ क स द ध त क व पर त, न य क त ओ
  • और प र त स ह त करन और व श व क ब ज र म इसक उत प दकत तथ प रत स पर ध त मकत क बन ए रखन क ल ए समय - समय पर औद य ग क न त य ज र क ह क न द र
  • अगस त 2009 क द र ण च र य प रस क र प र प त क य - - म झ लगत ह क एक प रत स पर ध त मक ख ल म हम असफलत ओ न र श और च ट स ह स खत ह ज वन क क स भ
  • उपय ग क सक षम व द ध श यर ब ज र स ध र ह आ ह और ल ब समय तक ट क ऊ प रत स पर ध त मक ल भ बढ कर मच र सग ई और पहल ब हतर ग र हक स त ष ट श यरध रक र टर न
                                     
  • अपन ड ट ब स क अद यतन करन ज र रख और उपय गकर त ओ क व यवह र य और प रत स पर ध त मक उत प द द सक य र प य आय ग न सम न अध क र हरण ल ग क य आय ग क प र स
  • ह स ट स ट फ स क ल ज म उनक द ख ल व व द स पद थ क य क एक प रत स पर ध त मक प स त ल न श न ब ज क र प म उन ह उनक क षमत ओ क आध र पर क ल ज
  • भ स ग त थ य टर क एक अभ न न अ ग ह तथ इस अक सर स ग त व ड य तथ प रत स पर ध त मक न त य म द ख ज सकत ह ज ज नर तक अक सर चमड क बन ज ज ज त
  • ट र प Tourist trap ट र वल एज स Travel agency य त र और पर यटन प रत स पर ध त मकत र प र ट Travel and Tourism Competitiveness Report व श व पर यटन स गठन
  • ग यक क स ख य क फ अध क ह न क क रण, ग यन म न कर प न बह त प रत स पर ध त मक ह सकत ह चर च क ग यक क दल म एकल ग यक 30 स 500 ड लर तक कम
  • क स थ य ग म त अन य र ष ट र औद य ग क बन य न इट ड क गडम न अपन प रत स पर ध त मक ल भ ख न श र कर द य थ और प र 20 व सद म ध त उद य ग म बड
  • य जन व य प र प रक र य म डल ग व य प र स दर भ म डल व य प र क न यम प रत स पर ध त मक ल भ प रम ख य ग यत ए व क स क प ल टफ र म ब ज र क र प व पणन व पणन
  • ब ए य न वर यत क सम म ल त क य उन ह न न कह क आई ब ए क यह प रत स पर ध त मक ल भ द ग क य क आई ब ए प रत भ व न ल ग क ल न म सक षम ह ग और
  • ज ल ई, 1994 क य एस ड प र टम ट ऑफ जस ट स, ए ट ट रस ट ड व जन न एक प रत स पर ध त मक प रभ व स ट टम ट द यर क य ज सम कह गय थ 1988 म श र आत, और
  • प रत य क प रत य ग क ल गत स रचन ल भ क स र त, स स धन और य ग यत प रत स पर ध त मक स थ त और उत प द भ दभ व, ल बर प एक करण क ड ग र उद य ग क व क स क
  • ग र हक और सम द य क ह त क पहच नत ह प रत य क म डल क अपन अलग प रत स पर ध त मक ल भ ह क र प र ट प रश सन क उद रव द म डल आम ल नव च र और प रत स पर ध
                                     
  • प र ग र म ग न ल ल य ब ह य र प स इ टरन ट क उदय और ड ट - क म ब म न प रत स पर ध त मक क रक क र प म ब ज र - क - ओर - त ज तथ कम पन - क - व क स पर ज र द य
  • पत रक र त नह म नत वह पश चम स स क त म ख ल क प रम खत न प रत स पर ध त मक ख ल पर पत रक र क ध य न क व य य च त र प द य ह इसम एथल ट
  • प नर न य क त ह आ 3 स त बर 2005, पर फ र ए आइल ड स पर 3 - 0 ज त म उसन उसक प रत स पर ध त मक व पस क ज स फ र स उसक अर हत प र प त ग र प क ज तन आग बड
  • आप र त कर त बन गय और अपन ब ज र क स थ त क बच व म आक र मक और प रत स पर ध त मक व र ध रणन त क ल ए ज न ज त थ व श ष र प स उन नत म इक र ड व इस स
  • इर ड क टर न म क एक वर द - ध र ख ल ड क चर त र क प श करक इस ख ल क प रत स पर ध त मक प रक त क ख ल ल उड ई. 2005 क फ ल म स र आन म चर त र स डन ह व ट
  • क एक व र त क ई ऐस च ज नह ह ज स ज त य ह र ज सकत ह और प रत स पर ध त मक र पक रचन त मकत क प रत ब ध त करत ह समस य - सम ध न र पक भ यह करत
  • प रत स पर ध उत प द क स थ उत प द क म ल य अ तर क त लन म क मत क प रत स पर ध त मक स थ त पर ध य न क द र त करत ह व यवह र स तर पर म ल य - न र ध रण, स दर भ

शब्दकोश

अनुवाद
Free and no ads
no need to download or install

Pino - logical board game which is based on tactics and strategy. In general this is a remix of chess, checkers and corners. The game develops imagination, concentration, teaches how to solve tasks, plan their own actions and of course to think logically. It does not matter how much pieces you have, the main thing is how they are placement!

online intellectual game →