ⓘ क्रांतिकारी बदलाव या रूपांतरण थामस कुह्न द्वारा उनकी प्रभावशाली पुस्तक द स्ट्रक्चर ऑफ साइंटिफिक रिवोलुशनस में प्रयुक्त पद है जो उन्होंने विज्ञान के प्रभावी सिद् ..

                                     

ⓘ क्रांतिकारी बदलाव

क्रांतिकारी बदलाव या रूपांतरण थामस कुह्न द्वारा उनकी प्रभावशाली पुस्तक द स्ट्रक्चर ऑफ साइंटिफिक रिवोलुशनस में प्रयुक्त पद है जो उन्होंने विज्ञान के प्रभावी सिद्धांत के भीतर मूल मान्यताओं में परिवर्तन को व्यक्त करने के लिये प्रयुक्त किया था। यह सामान्य विज्ञान के बारे में उनके विचार से भिन्न है।

तब से क्रांतिकारी बदलाव शब्द घटनाओं के मूल आदर्श के रूप में परिवर्तन के रूप में मानवीय अनुभव के अन्य कई भागों में भी व्यापक रूप से प्रयोग किया जाने लगा है, हालांकि स्वयं कुह्न ने इस पद के प्रयोग को कठिन विज्ञानों तक ही सीमित रखा है। कुह्न के अनुसार, "क्रांति वह चीज है जिसका केवल वैज्ञानिक समाज के सदस्य ही साझा करते हैं।" द एसेंसियल टेंशन, 1977. सामान्य वैज्ञानिक के विपरीत कुह्न ने कहा, "विज्ञानेतर विषयों के विद्यार्थी के सम्मुख हमेशा इन समस्याओं के अनेक प्रतिस्पर्धी और अतुलनीय हल होते हैं, ऐसे हल जिनपर उसे स्वयं अपने लिये अंततः विचार करना चाहिए." द स्ट्रक्चर ऑफ साइंटिफिक रिवोलुशनस. एक बार क्रांतिकारी परिवर्तन पूरा हो जाय तो कोई वैज्ञानिक, उदाहरण के लिये, इस संभावना को तथ्य के रूप में स्वीकार नहीं कर सकता कि रोग मियास्मा के कारण होता है या ईथर से प्रकाश होता है। इसके विपरीत, विज्ञानेतर विषयों के आलोचक मुद्राओं की एक सरणी का प्रयोग कर सकते हैं, जो किसी दी गई अवधि में कमोबेश फैशनेबल हो सकती हैं लेकिन वे सभी विधिसम्मत मानी जाती हैं।

1960 के दशक में इस पद को असंख्य अवैज्ञानिक परिप्रेक्ष्यों में विचारकों द्वारा उपयोगी पाया गया है। ज़ीटजीस्ट के एक रचनात्मक प्रकार के रूप में तुलना करें।

                                     

1. कुह्नीय क्रांतिकारी बदलाव

ज्ञानवादीय क्रांतिकारी बदलाव को ज्ञान-पद्धति शास्त्री और इतिहासकार थामस कुह्न ने अपनी पुस्तक, द स्ट्रक्चर ऑफ साइंटिफिक रिवोलुशनस में वैज्ञानिक क्रांति का नाम दिया।

कुह्न के अनुसार, वैज्ञानिक क्रांति तब होती है जब वैज्ञानिकों का सामना ऐसी असामान्यताओं से होता है, जो सार्वभौमिक रूप से स्वीकृत उस रूपांतरण के आधापर समझाई नहीं जा सकती हैं, जिसकी सीमा में रह कर अब तक की वैज्ञानिक तरक्की की गई हो। यह रूपांतरण, कुह्न के विचार में केवल वर्तमान सिद्धांत नहीं है बल्कि एक संपूर्ण वैश्विक नजरिया है, जिसमें वह व उसमें निहित प्रभाव मौजूद होते हैं। यह वैज्ञानिकों द्वारा अपने चारों ओर पहचानी गई ज्ञान की दृश्यावली की विशेषताओं पर आधारित है। कुह्न ने बताया कि सभी रूपांतरणों में असामान्यताएं होती हैं, जिन्हें स्वीकार करने योग्य स्तरों की त्रुटियों के रूप में छोड़ दिया जाता है कुह्न द्वारा प्रयुक्त एक मुख्य तर्क जिसे वह कार्ल पापर के वैज्ञानिक परिवर्तन के लिये आवश्यक मुख्य शक्ति के रूप में मिथ्याकारकता के माडल को अस्वीकार करने के लिये पेश करता है या जिनसे निपटने की बजाय नजरअंदाज कर दिया जाता है। कुह्न के अनुसार उस समय के वैज्ञानिकों के लिये इन असमानताओं का विभिन्न स्तरों पर महत्व होता है। बीसवीं सदी के प्रारंभ के भौतिक शास्त्र के संदर्भ में कुछ वैज्ञानिकों को मर्क्यूरी के पेरीहीलियान की गणना मंम माइकेलसन-मोर्ली प्रयोग के परिणामों की तुलना में अधिक कठिनाई महसूस हुई और कुछ के साथ इसका विपरीत हुआ। यहां और अन्य कई स्थानों पर कुह्न के वैज्ञानिक बदलाव के माडल में तार्किक प्रत्यक्षवादियों के माडल की तुलना में इस बात में भिन्नता देखी गई है कि यह विज्ञान को केवल तार्किक या दार्शनिक उपक्रम न मानकर वैज्ञनिकों के रूप में कार्य कर रहे व्यक्तिगत मानव पर अधिक जोर देता है।

"वर्तमान रूपांतरण के विरूद्ध पर्याप्त महत्वपूर्ण असामान्यताओं के जमा हो जाने पर, वैज्ञानिक अनुशासन, कुह्न के अनुसार एक संकट की स्थिति में चला जाता है। संकट के समय, नई युक्तियां, संभवतः पहले की त्यागी हुई, प्रयोग में लाई जाती हैं। अंततः नये रूपांतर का निर्माण होता है, जिसके अपने नए मानने वाले होते हैं और नये व पुराने रूपांतरणों को मानने वालों के बीच एक बौद्धिक जंग छिड़ जाती है। प्रारंभिक बीसवीं सदी के भौतिक शास्त्र के लिये मैक्सवेलियन विद्युतचुम्बकीय वैश्विक नजरिये और आइंस्टीन का सापेक्षता के नजरिये के बीच परिवर्तन न तो क्षणिक और न ही शांतिपूर्ण था, बल्कि दोनों पक्षों की तरफ से प्रयोगसिद्ध जानकारी और आलंकारिक या दार्शनिक तर्कों के साथ किये गए हमलों के लंबे इतिहास से भरा था, जिसमें अंततः आइंस्टीनीयन सिद्धांत की जीत हुई. फिर, सबूतों के वजन और नई जानकारी के महत्व को मानवीय चलनी से छाना गया, कुछ वैज्ञानिकों ने आइंस्टीन के समीकरणों की सरलता को अधिक सम्मोहक पाया जबकि अन्यों को वे मैक्सवेल के ईथर के विचार से अधिक जटिल लगे जिसे उन्होंने त्याग दिया था। कुछ लोगों को एड्डिंगटन के सूर्य के चारों ओर मुड़ते प्रकाश के चित्र सम्मोहक लगे, जबकि कुछ ने उनकी सटीकता और अर्थ पर प्रश्नचिन्ह लगाए. कुह्न ने मैक्स प्लैंक के उद्धरण, "नई वैज्ञानिक सच्चाई की जीत उसके विरोधियों को संतुष्ट करके और उन्हें समझा कर नहीं होती बल्कि समय के साथ इन विरोधियों की मृत्यु और इस सच के साथ पैदा हुई और बड़ी होने वाली नई संतति के कारण होती है", का प्रयोग करते हुए कहा कि कभी-कभी इन पर भरोसा लाने वाली शक्ति केवल समय और इसके द्वारा ली जाने वाली मानवता की बलि ही होती है।

किसी विषय के एक रूपांतरण से दूसरे में परिवर्तित होने को कुह्न की पदावली में वैज्ञानिक क्रांति या क्रांतिकारी बदलाव कहा जाता है। दीर्घ प्रक्रिया से उत्पन्न इस अंतिम परिणाम के लिये अकसर आम भाषा में वैज्ञानिक क्रांति या क्रांतिकारी बदलाव पद का प्रयोग किया जाता है: वैश्विक नजरिये में, कुह्न के ऐतिहासिक तर्क की विशिष्टताओं को ध्यान में रखे बिना, मात्र अकसर मूल परिवर्तन.

                                     

2. विज्ञान और क्रांतिकारी बदलाव

रूपांतरणों का एक आम गलत विवेचन यह मानना है कि क्रांतिकारी बदलावों की खोज और विज्ञान की गतिशील प्रकृति वैज्ञानिकों के विषयात्मक निर्णयों के लिये उसके अनेक अवसरों के साथ आपेक्षितता का एक मामला है: यह नजरिया कि सभी तरह के विश्वास तंत्र समान हैं, इस तरह कि जादू, धार्मिक सिद्धांत या मिथ्याविज्ञान वास्तविक विज्ञान के जितने ही समान कार्यात्मक मूल्य रखते हैं। कुह्न इस व्याख्या का जोरदार खंडन करते हैं और कहते हैं कि जब किसी वैज्ञानिक रूपांतरण का स्थान कोई नया रूपांतरण लेता है, जो हालांकि एक जटिल सामाजिक प्रक्रिया है, तो भी नया रूपांतरण केवल भिन्न ही नहीं बल्कि सदैव बेहतर होता है।

आपेक्षितता के ये दावे, एक और दावे से बंधे हैं जिसका समर्थन कुह्न किसी तरह से करते हैं: कि विभिन्न रूपांतरणों की भाषा और सिद्धांतों को एक दूसरे में परिवर्तित या उनका एक दूसरे के प्रति युक्तिसंगत मूल्यांकन नहीं किया जा सकता-यानी वे अतुलनीय हैं। इससे विभिन्न लोगों और संस्कृतियों के मूल रूप से भिन्न वैश्विक नजरियों या सैद्धांतिक योजनाओं पर चर्चा चली – इतने भिन्न कि भले ही वे बेहतर हों या नहीं, पर एक दूसरे के द्वारा समझे नहीं जा सकते. फिर भी, दार्शनिक डोनाल्ड डेविडसन ने 1974 में एक अत्यंत सम्मानित निबंध," ऑन द वेरी आइडिया ऑफ अ कोंसेप्चुअल स्कीम,” प्रकाशित किया, जिसमें उन्होंने यह तर्क दिया कि यह विचार कि कोई भी भाषा या सिद्धांत एक दूसरे के प्रति अतुलनीय हैं, स्वयं ही असंगत है। यदि यह सही है तो कुह्न के दावों को जिस जोर से स्वीकार किया जाता है वे उससे कहीं अधिक कमजोर हैं। इसके अलावा, जटिल मानवीय बर्ताव को समझने के लिये बहु-रूपांतरणों वाले तरीकों के व्यापक प्रयोग के कारण सामाजिक विज्ञान पर कुह्नीय विश्लेषण की पकड़ काफी हल्की रही है।

क्रांतिकारी बदलाव ऐसे विज्ञानों में अधिक नाटकीय होते हैं जो स्थिऔर परिपक्व नजर आते हैं, जैसे 19वीं सदी के अंत में भौतिक शास्त्र था। उस समय, भौतिक शास्त्र एक अधिकांशतः विकसित तन्त्र की अंतिम कुछ बातों को पूरा करने वाला एक विषय था। 1900 में, लार्ड केल्विन ने मशहूर वक्तव्य दिया, ”अब भौतिक शास्त्र में आविष्कार के लिये कुछ नया नहीं बचा है। बस अधिक से अधिक सटीकता से मापने की ही आवश्यकता है।" पांच वर्ष के बाद, अल्बर्ट आइंस्टीन ने विशेष सापेक्षितता पर अपने शोध का प्रकाशन किया, जिसने दो सौ वर्षों से भी अधिक समय से चली आ रही न्यूटनीय क्रियाविधियों द्वारा बनागए बहुत सरल नियमों, जो शक्ति और गति की व्याख्या के लिये प्रयोग किये जाते थे, को चुनौती दी।

द स्ट्रक्चर ऑफ साइंटिफिक रिवोलुशनस में कुह्न ने लिखा, ”क्रांति के जरिये एक रूपांतरण से दूसरे में उत्तरोत्तर परिवर्तन परिपक्व विज्ञान का सामान्य विकास का तरीका है।" पृष्ठ 12 कुह्न का स्वयं का विचार उस समय क्रांतिकारी था, क्यौंकि उससे शिक्षाविदों के विज्ञान के बारे में बात करने के तरीके में एक बड़ा परिवर्तन आया। इस तरह, यह तर्क दिया जा सकता है कि उससे विज्ञान के इतिहास और सामाजिक शास्त्र में एक" क्रांतिकारी बदलाव” हुआ या वह स्वयं ही इसका एक हिस्सा था। लेकिन कुह्न ने ऐसे किसी क्रांतिकारी बदलाव को नहीं पहचाना. सामाजिक विज्ञान में होने के कारण, लोग अभी भी प्रारंभिक विचारों का प्रयोग विज्ञान के इतिहास पर वार्तालाप करते समय करते हैं।

कुह्न सहित विज्ञान के दार्शनिकों और इतिहासकारों ने अंततः कुह्न के माडल के संशोधित रूप को स्वीकार किया, जो उसके मूल विचार को उसके पहले के क्रमिकतावादी माडल के साथ संश्लेषित करता है। कुह्न के मूल माडल को अब सामान्यतः बहुत सीमित माना जाता है।

                                     

3. प्राकृतिक विज्ञानों में क्रांतिकारी बदलावों के उदाहरण

विज्ञान में कुह्नीय क्रांतिकारी बदलावों के कुछ" आदर्श मामले” हैं:

  • ब्रह्मांड विज्ञान में टोलीमैक ब्रह्मांड विज्ञान से कोपरनिकन ब्रह्मांड विज्ञान में परिवर्तन.
  • यांत्रिकी में एरिस्टोटेलियन यांत्रिकी से क्लासीकल यांत्रिकी में परिवर्तन.
  • प्रकाश विज्ञान में रेखागणितीय प्रकाश विज्ञान से भौतिक प्रकाश विज्ञान में परिवर्तन.
  • न्यूटनी भौतिकी के वैश्विक नजरिये और आइंस्टीन के आपेक्षिकीय वैश्विक नजरिये के बीच परिवर्तन.
  • प्लेट टेक्टानिक्स की व्यापक भूगर्भीय परिवर्तनों की व्याख्या के रूप में स्वीकृति.
  • क्वांटम यांत्रिकी का विकास जिससे आदर्श यांत्रिकी को एक नई परिभाषा मिली।
  • मैक्सवेलियन विद्युतचुम्बकीय वैश्विक नजरिये और आइंस्टीन के आपेक्षिकीय वैश्विक नजरिये के बीच परिवर्तन.
  • फ्लोजिस्टन सिद्धांत के स्थान पर रसायनिक प्रतिक्रियाओं और ज्वलन के लेवायजियर सिद्धांत को स्वीकृति, जिसे रसायनिक क्रांति का नाम दिया गया है।
  • सृजनवाद के स्थान पर लेमार्क के उद्भव के सिद्धांत को स्वीकृति
  • परम तिथिकरण का विकास
  • 20 वीं सदी के प्रारंभ में संपूर्णजनन के मुकाबले मेंडेलियन आनुवंशिकता के सिद्धांत को स्वीकृति.
  • जैवजन्यता के सिद्धांत की स्वीकृति, जिसके अनुसार जीवन का आरंभ जीवन से होता है, जो 17 वीं शताब्दी में शुरू हुए स्वतः उत्पत्ति के सिद्धांत के विपरीत था और 19वीं सदी तक पास्चर के साथ पूरा हुआ।
  • उद्भव की प्रक्रिया के रूप में लेमार्कवाद के स्थान पर चार्ल्स डारविन के प्राकृतिक चुनाव के सिद्धांत को स्वीकृति.
                                     

4. सामाजिक विज्ञानों में क्रांतिकारी परिवर्तनों के उदाहरण

कुह्न के अनुसार, एकमात्र हावी रूपांतरण का होना विज्ञानों का गुण होता है, जबकि दर्शनशास्त्और सामाजिक विज्ञान के अधिकांश भाग में" मूल सिद्धांतों पर दावे, प्रतिदावे और बहस की परंपरा” देखी जाती है। अन्य लोगों ने कुह्न के क्रांतिकारी बदलाव के सिद्धांत को सामाजिक विज्ञान पर लागू किया है।

  • मनोवैज्ञानिक अध्ययन के बर्ताव संबंधी तरीकों से हट कर आंदोलन, जिसे ज्ञानात्मक क्रांति के नाम से जाना जाता है और मानव के बर्ताव के अध्ययन के लिये ज्ञान की महत्ता को स्वीकृति.
  • फ्रिट्जाफ कैप्रा ने आजकल विज्ञान में भौतिकी से जीवन विज्ञानों में हो रहे क्रांतिकारी बदलाव का विवरण दिया है। धारणा में यह बदलाव मूल्यों में परिवर्तन के साथ होता है और इसमें पारस्थितिक ज्ञान स्थित होता है।
  • केनेसियन क्रांति को महाअर्थशास्त्र में एक बड़े परिवर्तन के रूप में देखा जाता है। जान केनेथ गालब्रेथ के अनुसार, केन्स के पहले एक शताब्दी से अधितक आर्थिक विचारों पर से के नियम का वर्चस्व था और केनेसियनिज्म की ओर बदलाव कठिन था। इस नियम, जिसके अनुसार कम रोजगाऔर कम निवेश आवश्यकता से अधिक बचत के साथ वास्तव में असंभव थे, का विरोध करने वाले अर्थशास्त्रियों को अपनी आजीविका को खो देने का खतरा था। केन्स ने अपनी प्रसिद्ध रचना में अपने एक पूर्वज, जे.ए. हाब्सन का हवाला दिया, जिसे उसके विधर्मिक सिद्धांत के कारण विश्वविद्यालयों में ओहदों से बार-बार वंचित किया गया।
  • बाद में, केनेसियनिज्म पर मुद्रावाद की स्थापना के लिये आंदोलन दूसरा विभाजक बदलाव था। मुद्रावादी यह मानते थे कि राजकोषीय नीति महंगाई को स्थिर करने में असरकारी नहीं थी, कि वह केवल एक मौद्रिक घटना थी जो उस समय के केनेसियन नजरिये, जिसके अनुसार राजकोषीय और मौद्रिक नीतियां दोनों महत्वपूर्ण हैं, के विपरीत बात थी। बाद में केनेसियनों ने मुद्रावादियों के मुद्रा की राशि के सिद्धांत और फिलिप्स के बदलते वक्र के नजरिये को अपना लिया, जिन्हें उन्होंने पहले अस्वीकाकर दिया था।
                                     

5. व्यापारिक बोलचाल में

1990 के दशक के उत्तरार्ध में, क्रांतिकारी बदलाव एक मूल मंत्र सा बन गया, जो व्यापारिक बोलचाल में लोकप्रिय हो गया और प्रकाशनों और लेखों में अनेक बार आने लगा। लेखक लैरी ट्रास्क ने अपनी पुस्तक, माइंड द गाफे, में पाठकों को सलाह दी है कि वे इस पद का प्रयोग न करें और इस वाक्य से युक्त कुछ भी पढ़ते समय सावधान रहें. अनेक लेखों और पुस्तकों में अर्थहीन हो जाने की हद तक इसके कुप्रयोग और अतिप्रयोग का संदर्भ दिया गया है।

                                     

6. अन्य उपयोग

क्रांतिकारी बदलाव ” शब्द का प्रयोग कई अन्य संदर्भों में भी किया गया है, जिसमें यह किसी विशेष विचारधारा में हुए बड़े परिवर्तन का प्रतिनिधित्व करता है – व्यक्तिगत मान्यताओं, जटिल प्रणालियों या संगठनों में मूल परिवर्तन, जिसमें पहले के सोचने या संगठन के तरीकों के स्थान पर मौलिक रूप से भिन्न सोचने या संगठन के तरीके को प्रयोग में लाया गया हो।

  • कनाडा के ओ.आई.एस.ई. O.I.S.E. टोरोंटो विश्वविद्यालय में शिक्षा में समाजशास्त्र के प्रोफेसर, एम.एल. हांडा ने सामाजिक विज्ञानों के परिप्रेक्ष्य में रूपावली के एक सिद्धांत को विकसित किया है। उन्होंने" रूपांतरण” के अर्थ को उनके अनुसार परिभाषित किया है और" सामाजिक रूपांतरण” का नजरिया प्रस्तुत किया है। इसके अतिरिक्त उन्होंने सामाजिक रूपांतरण के मूल अंश की पहचान की है। कुह्न की तरह उन्होंने बदलते रूपांतरणों के विषय में बात की है, जो" क्रांतिकारी बदलाव” के नाम से जानी जाने वाली एक लोकप्रिय प्रक्रिया है। इस संदर्भ में वे ऐसी सामाजिक परिस्थितियों पर ध्यान केंद्रित करते हैं जिनसे ऐसा बदलाव होता है।
  • यह समझा जाता है कि शून्य से लिये गए धरती के दो चित्रों, ”अर्थराइज़” 1968 और" द ब्लू मार्बल” 1972 ने इनके वितरण के तुरंत बाद के वर्षों में बड़ी महत्ता पाने वाले पर्यावरणीय आंदोलन के विकास में मदद की है।

शब्दकोश

अनुवाद
Free and no ads
no need to download or install

Pino - logical board game which is based on tactics and strategy. In general this is a remix of chess, checkers and corners. The game develops imagination, concentration, teaches how to solve tasks, plan their own actions and of course to think logically. It does not matter how much pieces you have, the main thing is how they are placement!

online intellectual game →