• यदुनाथ सरकार

    यदुनाथ सरकार भारत के एक प्रसिद्ध इतिहासकार थे। भारतीय मुगलकाल के इतिहास-लेखन के क्षेत्र में उनका अकादमिक योगदान अप्रतिम है|

  • मुनरो सिद्धांत

    मुनरो सिद्धांत लैटिन अमरीका को लेकर संयुक्त राज्य अमेरिका की दीर्घकालिक विदेश नीति की रूपरेखा से सम्बंधित एक सिद्धांत है। यह 2 दिसंबर 1823 को अमेरिकी राष्ट्र...

  • मुद्राशास्त्र

    मुद्राशास्त्र सिक्कों, कागजी मुद्रा आदि के संग्रह एवं उसके अध्ययन का विज्ञान है। मुद्राशास्त्र इतिहास और संस्कृति को जानने का सर्वाधिक विश्वनीय और दिलचस्प मा...

  • मुंडा विद्रोह

    मुंडा जनजातियों ने 18वीं सदी से लेकर 20वीं सदी तक कई बार अंग्रेजी सरकाऔर भारतीय शासकों, जमींदारों के खिलाफ विद्रोह किये। बिरसा मुंडा के नेतृत्‍व में 19वीं सद...

  • मित्तानी साम्राज्य

    मित्तानी साम्राज्य यह सा्म्राज्य कई सदियों तक पश्चिम एशीया में राज करता रहा। इस वंश के सम्राटों के संस्कृत नाम थे। विद्वान समझते हैं कि यह लोग महाभारत के पश्...

  • महात्मा गाँधी अंतर्राष्ट्रीय विमानपत्तन

    महात्मा गाँधी अन्तर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा या देवघर विमानक्षेत्र भारत का एक प्रमुख अन्तर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा हैं, जो देवघर में स्थित है। यह एक नागरिक हवाई अड्...

  • मनोविज्ञान का इतिहास तथा शाखाएँ

    आधुनिक मनोविज्ञान की ऐतिहासिक पृष्ठभूमि में इसके दो सुनिश्चित रूप दृष्टिगोचर होते हैं। एक तो वैज्ञानिक अनुसंधानों तथा आविष्कारों द्वारा प्रभावित वैज्ञानिक मन...

  • भौमिकी का इतिहास

    भौमिकी का इतिहास बहुत पुराना है। शायद पृथ्वी की उत्पत्ति सम्बन्धी विचारों को सबसे पहला भूवैज्ञानिक विचार कहा जा सकता है। डार्विन के समय तक अधिकांश भूवैज्ञानि...

  • भाषाविज्ञान का इतिहास

    प्राचीन काल में भाषावैज्ञानिक अध्ययन मूलत: भाषा के सही व्याख्या करने की कोशिश के रूप में था। सबसे पहले चौथी शदी ईसा पूर्व में पाणिनि ने संस्कृत का व्याकरण लि...

  • भारतीय रसायन का इतिहास

    भारत में रसायन शास्त्र की अति प्राचीन परंपरा रही है। पुरातन ग्रंथों में धातुओं, अयस्कों, उनकी खदानों, यौगिकों तथा मिश्र धातुओं की अद्भुत जानकारी उपलब्ध है। इ...

  • भारतीय कृषि का इतिहास

    भारत में ९००० ईसापूर्व तक पौधे उगाने, फसलें उगाने तथा पशु-पालने और कृषि करने का काम शुरू हो गया था। शीघ्र यहाँ के मानव ने व्यवस्थित जीवन जीना शूरू किया और कृ...

  • भारत छोड़ो आन्दोलन

    भारत छोड़ो आन्दोलन, द्वितीय विश्वयुद्ध के समय 8 अगस्त १९४२ को आरम्भ किया गया था। यह एक आन्दोलन था जिसका लक्ष्य भारत से ब्रिटिश साम्राज्य को समाप्त करना था। य...

  • बुरंजी

    बुरंजी, असमिया भाषा में लिखी हुईं ऐतिहासिक कृतियाँ हैं। अहोम राज्य सभा के पुरातत्व लेखों का संकलन बुरंजी में हुआ है। प्रथम बुरंजी की रचना असम के प्रथम राजा स...

  • बाबर

    ज़हीरुद्दीन बाबर 14 फ़रवरी 1483 - 26 दिसम्बर 1530 जो बाबर के नाम से कुुख्यत हुआ, वह "मुगल वंश" का शासक था. उसका जन्म मध्य एशिया के वर्तमान उज़्बेकिस्तान में ...

  • फ़्रांसीसी औपनिवेशिक साम्राज्य

    फ़्रांसीसी औपनिवेशिक साम्राज्य से आशय यूरोप से बाहर उन क्षेत्रों से है जो मुख्यतः १६०० से १९६० के अन्त तक फ़्रांसीसी शासन के अधीन थे। १९ वीं और २० वीं शताब्द...

  • फ़ारस

    फ़ारस प्राचीन काल के कई साम्राज्यों के केन्द्र रहे प्रदेशों को कहते हैं जो आधुनिक ईरान से तथा उससे संलग्न क्षेत्रों में फैला था। फ़ारस का साम्राज्य कई बार वि...

  • प्रागितिहास

    प्रागितिहास इतिहास के उस काल को कहा जाता है जब मानव तो अस्तित्व में थे लेकिन जब लिखाई का आविष्कार न होने से उस काल का कोई लिखित वर्णन नहीं है। इस काल में मान...

  • पीटर महान

    पीटर महान या प्रथम - सन् 1682 से रूस का ज़ार तथा सन 1721 से रूसी साम्राज्य का प्रथम सम्राट। वह इतिहास के सबसे विश्वविख्यात राजनीतिज्ञों में से एक था। उसने १८...

  • पाषाण युग

    पाषाण युग इतिहास का वह काल है जब मानव का जीवन पत्थरों पर अत्यधिक आश्रित था। उदाहरणार्थ पत्थरों से शिकार करना, पत्थरों की गुफाओं में शरण लेना, पत्थरों से आग प...

  • पंजदेह प्रकरण

    पंजदेह भारत के पड़ोसी देश अफ़ग़ानिस्तान की सीमा पर स्थित एक गाँव तथा ज़िला। यह मर्व नगर से 100 मील साँचा:मील की दूरी पर दक्षिण में स्थित है। इतिहास में पंजदे...

  • त्रिपक्षीय गठबंधन (द्वितीय विश्वयुद्ध)

    त्रिपक्षीय गठबंधन, त्रि-शक्तीय गठबंधन, धुरीय गठबंधन या त्रिपक्षीय संधि २७ सितंबर १९४० को बर्लिन जर्मनी में किया हुआ वह समझौता है जिसने द्वितीय विश्वयुद्ध में...

  • ट्रॉय का युद्ध

    ट्रॉय का युद्ध - प्राचीन यूनानी पुराकथा संग्रह की मुख्य घटना है। यूनानियों ने ट्रॉय नगर को दस सालों के लिए घेरे में डाल दिया। होमर की इलियाड नामक रचना इस युद...

  • गोथ

    गोथ एक मिश्रित प्राचीन जर्मन भाषा बोलनेवाली त्यूतन अथवा जर्मन जाति जिसने ईसा के प्रांरभिक सदियों में यूरापीय इतिहास पर पर्याप्त प्रभाव डाला, विशेष कर, इन्होन...

  • गॉन्डोफर्नीज

    गॉन्डोफर्नीज, अराकेशिया, काबुल और गांधार में शासन करने वाले हिन्द-पहलव राजा थे। कुछ विद्वान इनके नाम गॉन्डोफर्नीज को इनके आर्मेनियाई रूप गेथास्पर या गास्पार ...

  • गृहयुद्धों की सूची

    यहां विश्व में घटित गृहयुद्धों की सूची दी गयी है। जब किसी राष्ट्र के अंदर ही दो या दो से अधिक समूह उस देश की सत्ता से ही हथियारबन्द युद्ध कर रहे हों तो इस प्...

  • गणित का इतिहास

    अध्ययन का क्षेत्र जो गणित के इतिहास के रूप में जाना जाता है, प्रारंभिक रूप से गणित में अविष्कारों की उत्पत्ति में एक जांच है और कुछ हद तक, अतीत के अंकन और गण...

  • खूनी दरवाजा

    खूनी दरवाजा, जिसे लाल दरवाजा भी कहा जाता है, दिल्ली में बहादुर शाह ज़फ़र मार्ग पर दिल्ली गेट के निकट स्थित है। यह दिल्ली के बचे हुए १३ ऐतिहासिक दरवाजों में स...

  • कालु थापा क्षत्री

    कालु थापा क्षत्री वा महाराज कालु थापा आत्रेय गोत्री बगाले थापा कुलके मूलपुरुष माने जाते हैं। थापा वंशावलीके अनुसार शक सम्वत ११११ में डोटीके काँडामालिकामें उन...

  • ओदिसी

    ओदिसी, होमरकृत दो प्रख्यात यूनानी महाकाव्यों में से एक है। इलियड में होमर ने ट्रोजन युद्ध तथा उसके बाद की घटनाओं का वर्णन किया है जबकि ओदिसी में ट्राय के पतन...

  • उर का तीसरा राजवंश

    उर का तीसरा राजवंश और "नव-सुमेरियन साम्राज्य" 22 वीं से 21 वीं शताब्दी ईसा पूर्व में यूमेर शहर में स्थित सुमेरियन शासक राजवंश और एक अल्पकालिक क्षेत्रीय-राजनी...

  • उपनिवेशवाद

    किसी एक भौगोलिक क्षेत्र के लोगों द्वारा किसी दूसरे भौगोलिक क्षेत्र में उपनिवेश स्थापित करना और यह मान्यता रखना कि यह एक अच्छा काम है, उपनिवेशवाद कहलाता है। इ...

  • उत्तर अमेरिका का इतिहास

    उत्तर अमेरिका का इतिहास अपनी संस्कृतियों और सभ्यताओं के मामले में इस महाद्वीप की विशालता के समान ही समृद्ध है, जो अपने में सुदूर उत्तर में एस्किमो से लेकर मे...

  • इतिहास-लेख

    इतिहास-लेख या इतिहास-शास्त्र से दो चीजों का बोध होता है- इतिहास के विकास एवं क्रियापद्धति का अध्यन तथा किसी विषय के इतिहास से सम्बन्धित एकत्रित सामग्री। इतिह...

  • असम का इतिहास

    प्राचीन भारतीय ग्रंथों में इस प्रदेश को प्रागज्योतिषपुर के नाम से जाना जाता था। पुराणों के अनुसार यह कामरूप राज्य की राजधानी था। महाभारत के अनुसार कृष्ण के प...

  • इतिहास दर्शन

    अतीत तथा उसके इतिहास के दार्शनिक अध्ययन को इतिहास दर्शन कहते हैं। इसमें इतिहास, उसके विभाग विशेष अथवा प्रवृत्ति विशेष की सुव्यवस्थित और दार्शनिक व्याख्या होत...

  • इण्डिया हाउस

    इण्डिया हाउस १९०५ से १९१० के दौरान लन्दन में स्थित एक अनौपचारिक भारतीय राष्ट्रवादी संस्था थी। इसकी स्थापना ब्रिटेन के भारतीय छात्रों में राष्ट्रवादी विचारों ...

  • आर्य प्रवास सिद्धान्त

    आर्य प्रवास सिद्धान्त इंडो-आर्यन लोगों के भारतीय उपमहाद्वीप के बाहर से एक मूल के सिद्धांत के आसपास के परिदृश्यों पर चर्चा करते हैं, एक हिन्द-यूरोपीय भाषा-परि...

  • आर्मीनियाई जनसंहार

    ऑटोमान सरकार द्वारा योजनाबद्ध रूप से अल्पसंख्यक आर्मीनियों का जो संहार कराया गया वह आर्मीनियाई नरसंहार कहलाता है। । इस दौरान १० लाख से १५ लाख लोगों की हत्या ...

  • आयुर्विज्ञान का इतिहास

    सूत्रबद्ध विचारव्यंजन के हेतु आयुर्विज्ञान के क्रमिक विकास को लक्ष्य में रखते हुए इसके इतिहास के तीन भाग किए जा सकते हैं: 1 आदिम आयुर्विज्ञान 2 प्राचीन आयुर्...

  • आम्भी

    आम्भी या आम्भिक या आम्भीकुमार ई. पू. 327-26 में भारत पर सिकन्दर के आक्रमण के समय तक्षशिला आम्भी था। उसका राज्य सिंधु नदी और झेलम नदी के बीच विस्तृत था। आम्भी...

  • आधुनिक इतिहास

    उत्तर-क्लासिक इतिहास के बाद के काल के इतिहास को आधुनिक इतिहास कहते हैं। आधुनिक इतिहास को निम्नलिखित भागों में विभक्त किया जाता है- पूर्व-आधुनिक काल early mod...

  • अशोकस्तम्भ

    अशोक के धार्मिक प्रचार से कला को बहुत ही प्रोत्साहन मिला। अपने धर्मलेखों के अंकन के लिए उसने ब्राह्मी और खरोष्ठी दो लिपियों का उपयोग किया और संपूर्ण देश में ...

  • अमर्ण पत्र

    अमर्ण पत्र मिस्और मित्तानी सम्राटों के बीच मे दूसरी सहस्राब्दि ईपू के हैं जिनसे उस समय के इतिहास पर बहुत प्रकाश पडता है। इनमें से कुछ पत्र तुष्यरथ और अखेनाते...

  • अक्ष शक्तियाँ

    अक्ष शक्तियाँ या ऐक्सिस शक्तियाँ या धुरी शक्तियाँ उन देशों का गुट था जिन्होनें दूसरे विश्वयुद्ध में जर्मनी और जापान का साथ दिया और मित्रपक्ष शक्तियों ऐलाइड श...

इतिहास

इत ह स History क प रय ग व श षत: द अर थ म क य ज त ह एक ह प र च न अथव व गत क ल क घटन ए और द सर उन घटन ओ क व षय म ध रण इत ह स शब द इत
भ रत क इत ह स कई हज र वर ष प र न म न ज त ह म हरगढ प र त त व क द ष ट स महत वप र ण स थ न ह जह नवप ष ण य ग ईस - प र व स ईस - प र व
इत ह स - ल ख य इत ह स - श स त र Historiography स द च ज क ब ध ह त ह - इत ह स क व क स एव क र य पद धत क अध यन तथ क स व षय क इत ह स स
स न य इत ह स Military history म नव क क वह व ध ह ज म नव इत ह स क सशस त र स घर ष क ल ख - ज ख तथ उसक सम ज, स स क त एव अर थव यवस थ आद पर
धर म ल ए भ रत म ह न द धर म द ख ह न द धर म क इत ह स अत प र च न ह इस धर म क व दक ल स भ प र व क म न ज त ह क य क व द क क ल और व द क
अफ र क क इत ह स क म नव व क स क इत ह स भ कह ज सकत ह म नव सभ यत क न व प र व अफ र क म ह म स प एन स प रज त क व नर द व र रख गय यह प रज त
भ रत एक स झ इत ह स क भ ग द र ह इसल ए भ रत य इत ह स क इस समय र ख म सम प र ण भ रत य उपमह द व प क इत ह स क झलक ह प ष ण य ग इत ह स क वह क ल ह
ब ह र क इत ह स क त न क ल - खण ड म ब टकर द ख ज सकत ह प र च न इत ह स मध यक ल न इत ह स नव न इत ह स ब ह र भ रत क प र व भ ग म स थ त एक व श ष र ज य
भ रत क उत तरतम र ज य जम म और कश म र क इत ह स अत प र च न क ल स आर भ ह त ह समय क स थ ध र म क और स स क त क प रभ व क स श ल षण ह आ, ज सस यह
स ख धर म क इत ह स प रथम स ख ग र ग र न नक क द व र पन द रहव सद म दक ष ण एश य क प ज ब क ष त र म आग ज ह आ इसक ध र म क परम पर ओ क ग र
व कल प क इत ह स य व कल प इत ह स कह न य स य क त कप लकल पन क एक व ध ह ज सम एक य एक स अध क ऐत ह स क घटन ए भ न न र प स घटत ह स च Time

उत तर प रद श क भ रत य एव ह न द धर म क इत ह स म अहम य गद न रह ह उत तर प रद श आध न क भ रत क इत ह स और र जन त क क न द र ब न द रह ह और यह
publication, Orissa, 2012, p.no. 61 मदल प ज भ रत क इत ह स ब ह र क इत ह स ब ग ल क इत ह स उड स क इत ह स - पर चय History of Orissa An Article of the history
अभ कलन क इत ह स म क वल अभ कलन क ह र डव यर य आध न क अभ कलन प र द य ग क ह नह ह बल क इसक अत र क त भ बह त क छ ह अभ कलन क इत ह स म अन य ब त
ह न द स ह त य क इत ह स अत य त व स त त व प र च न ह स प रस द ध भ ष व ज ञ न क ड हरद व ब हर क शब द म ह न द स ह त य क इत ह स वस त त व द क क ल
ह न द भ ष क इत ह स लगभग एक हज र वर ष प र न म न गय ह स म न यत प र क त क अन त म अपभ र श अवस थ स ह ह न द स ह त य क आव र भ व स व क र क य ज त
पव त र ग ग घ ट म स थ त भ रत क उत तर त तर क ष त र थ ज सक प र च न इत ह स अत यन त ग रवमय और व भवश ल थ यह ज ञ न, धर म, अध य त म व सभ यत - स स क त
म य म र क इत ह स बह त प र न एव जट ल ह इस क ष त र म बह त स ज त य सम ह न व स करत आय ह ज नम स म न Mon और प य स भवत सबस प र च न ह उन न सव
भ रत क इत ह स म स न क उल ल ख व द र म यण तथ मह भ रत म म लत ह मह भ रत म सर वप रथम स न क इक ई अक ष ह ण उल ल ख त ह प रत य क अक ष ह ण
ह त आय र व ज ञ न म ड स न क क रम क व क स क लक ष य म रखत ह ए इसक इत ह स क त न भ ग क ए ज सकत ह : 1 आद म आय र व ज ञ न 2 प र च न आय र व ज ञ न

क अब तक ल ख गए इत ह स म आच र य र मचन द र श क ल द व र ल ख गए ह न द स ह त य क इत ह स क सबस प र म ण क तथ व यवस थ त इत ह स म न ज त ह आच र य
ग जर त क इत ह स प ष ण य ग क बस त य क स थ श र ह आ, इसक ब द च लक थ क और क स य य ग क बस त य ज स स ध घ ट सभ यत ग जर त प रद श क पश च म म
न प ल क इत ह स भ रत य स म र ज य स प रभ व त ह आ पर यह दक ष ण एश य क एकम त र द श थ ज ब र ट श उपन व शव द स बच रह ह ल क अ ग र ज स ह ई लड ई
स च History of South Asia भ रत गणतन त र क इत ह स 26 जनवर 1950 क श र ह त ह र ष ट र क ध र म क ह स ज त व द, नक सलव द, आत कव द और व श षकर जम म
ईस प र व ल ह य ग म प रव ष ट ह आ स क टल ण ड क सबस प र न ज ञ त इत ह स ईस पश च त प रथम शत ब द म र मन स म र ज य क आगमन स आरम भ ह त ह
रस यन व ज ञ न क इत ह स बह त प र न ह chemistry क जन म chemi न म क म ट ट स पहल ब र म स र म ह आ Chemistry क प त levories क कह ज त ह ज स - ज स
ह म चल प रद श क इत ह स उतन ह प र च न ह ज तन क म नव अस त त व क अपन इत ह स ह ह म चल प रद श क इत ह स उस समय म ल ज त ह जब स न ध घ ट सभ यत
इत ह स ह न द धर म र म यण मह भ रत प र ण
म र क सव द इत ह स - ल खन अ ग र ज Marxist historiography य historical materialist historiography क त त पर य म र क सव द व च रध र स प रभ व त इत ह स - ल खन
व ज ञ न क इत ह स स त त पर य व ज ञ न व व ज ञ न क ज ञ न क ऐत ह स क व क स क अध ययन स ह यह व ज ञ न क अन तर गत प र क त क व ज ञ न व स म ज क व ज ञ न

आद्यइतिहास

प्रागितिहास प्रागैतिहासिक काल और ऐतिहासिक काल के बीच के समय में, यह है एक समय था जब मनुष्य ने भोजन प्राप्त करने के लिए खेती शुरू कर दिया था. इस मानव सांस्कृतिक विकास के दौर. यह निम्नलिखित आधापर बांटा गया है,
आयात-हड़प्पा संस्कृति. (Import-Harappan culture)
हड़प्पा संस्कृति. (Harappan culture)
उत्तर हड़प्पा संस्कृति. (North Harappan culture)
आद्य इतिहास की अवधि है कि काल करने के लिए, कहते हैं, इस अवधि में lekhan-kaal के प्रचलन के बाद लेख को पढ़ने के लिए उपलब्ध नहीं है ।

गेंगनीहेस्सू

दरिद्र डहोमी बारह पारंपरिक राजाओं से पहले थे. उनके शासनकाल १६२० के करीब होगा. उनके प्रतीकों थे पुरुष gangnihessou पक्षी, एक ढोल और फेंकने की या शिकार करने के लिए चुन सकते हैं चिपक जाता है । यह अभी स्पष्ट नहीं है कि वह ऐतिहासिक राजा था या नहीं. शायद वह सिर्फ एक नेता का इस्तेमाल किया, जो उनकी सलाह की शक्ति से समाज के लिए अपने छोटे भाई डॉन के द्वारा चलाते थे. अपने छोटे भाई है, तो अपने पिछले जीवन है, जाहिरा तौपर राजा के रूप में जाने जाते थे.

छबीलेराम नागर

पट्टी सिविल, राजा उल्टा गुजराती ब्राह्मण योद्धा, जो पहले सुल्तान azimute के राज्य में जिला अधिकारी था. इसके बाद कड़ा जहानाबाद की भीड़, नियुक्त किया है । मुहम्मद Farrukhsiyar की ओर से, हाथ के खिलाफ लड़ा. विजयी होने की दीवानी पाया. अपनी योग्यता के कारण, कुछ दिनों के बाद यह राजधानी के साबर पाया और फिर जाँच की सूबेदार बनाया गया था. के 1719 ई. इसे में मृत्यु हो गई ।

सन् १८५१ की महाप्रदर्शनी

के १८५१ की एक अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनी है, जो था के लिए इंग्लैंड में लंदन के हाइड पार्क में १ मई में १८५१ से १५ अक्टूबर १८५१ तक चली.

भारतीय इतिहास की समयरेखा

वैदिक काल प्राचीन भारतीय संस्कृति का एक काल खंड है, जब वेदों की रचना हुई थी। हड़प्पा संस्कृति के पतन के बाद भारत में एक नई सभ्यता का आविर्भाव हुआ। इस सभ्यता ...

2006 भारत अमेरिका परमाणु समझौता

2006 भारत अमेरिका परमाणु समझौता 18 जुलाई 2006 को भारत और अमेरिका के बीच हुआ परमाणु समझौता है। भारत के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और अमेरिका के राष्ट्रपति जार्ज...

अक्ष शक्तियाँ

अक्ष शक्तियाँ या ऐक्सिस शक्तियाँ या धुरी शक्तियाँ उन देशों का गुट था जिन्होनें दूसरे विश्वयुद्ध में जर्मनी और जापान का साथ दिया और मित्रपक्ष शक्तियों ऐलाइड श...

अग्निमित्र

अग्निमित्र शुंग वंश के राजा थे। कालिदास ने इसको अपने नाटक का पात्र बनाया है, जिससे प्रतीत होता है कि कालिदास का काल इसके ही काल के समीप रहा होगा।

अमर्ण पत्र

अमर्ण पत्र मिस्और मित्तानी सम्राटों के बीच मे दूसरी सहस्राब्दि ईपू के हैं जिनसे उस समय के इतिहास पर बहुत प्रकाश पडता है। इनमें से कुछ पत्र तुष्यरथ और अखेनाते...

अशोकस्तम्भ

अशोक के धार्मिक प्रचार से कला को बहुत ही प्रोत्साहन मिला। अपने धर्मलेखों के अंकन के लिए उसने ब्राह्मी और खरोष्ठी दो लिपियों का उपयोग किया और संपूर्ण देश में ...

आधुनिक इतिहास

उत्तर-क्लासिक इतिहास के बाद के काल के इतिहास को आधुनिक इतिहास कहते हैं। आधुनिक इतिहास को निम्नलिखित भागों में विभक्त किया जाता है- पूर्व-आधुनिक काल early mod...

आम्भी

आम्भी या आम्भिक या आम्भीकुमार ई. पू. 327-26 में भारत पर सिकन्दर के आक्रमण के समय तक्षशिला आम्भी था। उसका राज्य सिंधु नदी और झेलम नदी के बीच विस्तृत था। आम्भी...

आयुर्विज्ञान का इतिहास

सूत्रबद्ध विचारव्यंजन के हेतु आयुर्विज्ञान के क्रमिक विकास को लक्ष्य में रखते हुए इसके इतिहास के तीन भाग किए जा सकते हैं: 1 आदिम आयुर्विज्ञान 2 प्राचीन आयुर्...

आर्चर ब्लड

आर्चर केन्ट ब्लड एक अमेरिकी दूत थे। सन् 1971 के बांग्लादेश मुक्ति युद्ध के दौरान वे ढाका में अमेरिकी वाणिज्य दूतावास में तैनात थे। ढाका, जो आज बांग्लादेश की ...

आर्मीनियाई जनसंहार

ऑटोमान सरकार द्वारा योजनाबद्ध रूप से अल्पसंख्यक आर्मीनियों का जो संहार कराया गया वह आर्मीनियाई नरसंहार कहलाता है। । इस दौरान १० लाख से १५ लाख लोगों की हत्या ...

आर्य प्रवास सिद्धान्त

आर्य प्रवास सिद्धान्त इंडो-आर्यन लोगों के भारतीय उपमहाद्वीप के बाहर से एक मूल के सिद्धांत के आसपास के परिदृश्यों पर चर्चा करते हैं, एक हिन्द-यूरोपीय भाषा-परि...

इण्डिका (मेगस्थनीज द्वारा रचित पुस्तक)

इंडिका ग्रीक लेखक मेगस्थनीज द्वारा मौर्यकालीन भारत का एक लेख है। यह मूल रूप से प्राप्त नहीं हुई है परन्तु इसके कुछ भाग परवर्ती लेखकों के ग्रंथों से प्राप्त ह...

इण्डिया हाउस

इण्डिया हाउस १९०५ से १९१० के दौरान लन्दन में स्थित एक अनौपचारिक भारतीय राष्ट्रवादी संस्था थी। इसकी स्थापना ब्रिटेन के भारतीय छात्रों में राष्ट्रवादी विचारों ...

इतिहास दर्शन

अतीत तथा उसके इतिहास के दार्शनिक अध्ययन को इतिहास दर्शन कहते हैं। इसमें इतिहास, उसके विभाग विशेष अथवा प्रवृत्ति विशेष की सुव्यवस्थित और दार्शनिक व्याख्या होत...

असम का इतिहास

प्राचीन भारतीय ग्रंथों में इस प्रदेश को प्रागज्योतिषपुर के नाम से जाना जाता था। पुराणों के अनुसार यह कामरूप राज्य की राजधानी था। महाभारत के अनुसार कृष्ण के प...

इतिहास-लेख

इतिहास-लेख या इतिहास-शास्त्र से दो चीजों का बोध होता है- इतिहास के विकास एवं क्रियापद्धति का अध्यन तथा किसी विषय के इतिहास से सम्बन्धित एकत्रित सामग्री। इतिह...

ईश्वर विलास

ईश्वरविलास महाकाव्य ईश्वरविलास महाकाव्य’ का दूसरा संस्करण 2006 में छपा।

उत्तर अमेरिका का इतिहास

उत्तर अमेरिका का इतिहास अपनी संस्कृतियों और सभ्यताओं के मामले में इस महाद्वीप की विशालता के समान ही समृद्ध है, जो अपने में सुदूर उत्तर में एस्किमो से लेकर मे...

उदायिन

उदायिन ने एक शासक जिन्होंने 460 ई पू में अजाशत्रु की हत्या करके मगध की गद्दी पर बैठा था। उदायिन ने पाटलिपुत्र /कुसुमपुर की स्थापना की तथा अपनी राजधानी बनायी,...

उपनिवेशवाद

किसी एक भौगोलिक क्षेत्र के लोगों द्वारा किसी दूसरे भौगोलिक क्षेत्र में उपनिवेश स्थापित करना और यह मान्यता रखना कि यह एक अच्छा काम है, उपनिवेशवाद कहलाता है। इ...

उर का तीसरा राजवंश

उर का तीसरा राजवंश और "नव-सुमेरियन साम्राज्य" 22 वीं से 21 वीं शताब्दी ईसा पूर्व में यूमेर शहर में स्थित सुमेरियन शासक राजवंश और एक अल्पकालिक क्षेत्रीय-राजनी...

ऐतिहासिक सामग्री

विश्व के प्राचीन इतिहास को जानना एक कठिन प्रक्रिया है। उस समय आधुनिक विश्व के साधन उपलब्ध नहीं थे। लेकिन पुराण, इतिवृत्त, आख्यायिका, उदाहरण, धर्मशास्त्और अर्...

ओदिसी

ओदिसी, होमरकृत दो प्रख्यात यूनानी महाकाव्यों में से एक है। इलियड में होमर ने ट्रोजन युद्ध तथा उसके बाद की घटनाओं का वर्णन किया है जबकि ओदिसी में ट्राय के पतन...

कालु थापा क्षत्री

कालु थापा क्षत्री वा महाराज कालु थापा आत्रेय गोत्री बगाले थापा कुलके मूलपुरुष माने जाते हैं। थापा वंशावलीके अनुसार शक सम्वत ११११ में डोटीके काँडामालिकामें उन...

खूनी दरवाजा

खूनी दरवाजा, जिसे लाल दरवाजा भी कहा जाता है, दिल्ली में बहादुर शाह ज़फ़र मार्ग पर दिल्ली गेट के निकट स्थित है। यह दिल्ली के बचे हुए १३ ऐतिहासिक दरवाजों में स...

गणित का इतिहास

अध्ययन का क्षेत्र जो गणित के इतिहास के रूप में जाना जाता है, प्रारंभिक रूप से गणित में अविष्कारों की उत्पत्ति में एक जांच है और कुछ हद तक, अतीत के अंकन और गण...

गिरमिटिया

सत्रहवीं सदी में आये अंगरेज़ों ने आम भारतीयों को एक-एक रोटी तक को मोहताज कर दिया। फिर उन्होंने गुलामी की शर्त पर लोगों को विदेश भेजना प्रारंभ किया। इन मज़दूर...

गृहयुद्धों की सूची

यहां विश्व में घटित गृहयुद्धों की सूची दी गयी है। जब किसी राष्ट्र के अंदर ही दो या दो से अधिक समूह उस देश की सत्ता से ही हथियारबन्द युद्ध कर रहे हों तो इस प्...

गॉन्डोफर्नीज

गॉन्डोफर्नीज, अराकेशिया, काबुल और गांधार में शासन करने वाले हिन्द-पहलव राजा थे। कुछ विद्वान इनके नाम गॉन्डोफर्नीज को इनके आर्मेनियाई रूप गेथास्पर या गास्पार ...

गोआ क्रान्ति दिवस

१८ जून को प्रति वर्ष गोवा क्रांति दिवस के रूप में मनाया जाता है। क्योंकि १८-०६-१९४६ को डॉक्टर राम मनोहर लोहिया ने गोवा के लोगों को पुर्तगालियों के ख़िलाफ़ आव...

गोथ

गोथ एक मिश्रित प्राचीन जर्मन भाषा बोलनेवाली त्यूतन अथवा जर्मन जाति जिसने ईसा के प्रांरभिक सदियों में यूरापीय इतिहास पर पर्याप्त प्रभाव डाला, विशेष कर, इन्होन...

चौथ (शुल्क)

चौथ 17 वीं और 18 वीं शताब्दी में एक-चौथाई राजस्व प्राप्ति को कहा जाता था। यह भारत में एक जिले की राजस्व प्राप्ति या वास्तविक संग्रहण की एक चौथाई उगाही थी। यह...

ट्रॉय का युद्ध

ट्रॉय का युद्ध - प्राचीन यूनानी पुराकथा संग्रह की मुख्य घटना है। यूनानियों ने ट्रॉय नगर को दस सालों के लिए घेरे में डाल दिया। होमर की इलियाड नामक रचना इस युद...

त्रिपक्षीय गठबंधन (द्वितीय विश्वयुद्ध)

त्रिपक्षीय गठबंधन, त्रि-शक्तीय गठबंधन, धुरीय गठबंधन या त्रिपक्षीय संधि २७ सितंबर १९४० को बर्लिन जर्मनी में किया हुआ वह समझौता है जिसने द्वितीय विश्वयुद्ध में...

दंडनायक

दंडनायक प्राचीन भारतीय शासनयंत्र का एक अधिकारी था। प्राय: इस पदवी का प्रयोग किसी सेनाधिकारी के लिये किया जाता था। किंतु दंडनायक से तात्पर्य सर्वदा किसी सैनिक...

दक्षिण एशिया का इतिहास

मुलत भौगोलीक रूपसे इरानसे लेकर बर्मा तक का क्षेत्र दक्षिण एसीया है। इरान से पस्चीम को पस्चीम एसीया या मध्य पुर्व काहा जाताहै, वैसेही बर्मा से पुर्व के देसो क...

पंजदेह प्रकरण

पंजदेह भारत के पड़ोसी देश अफ़ग़ानिस्तान की सीमा पर स्थित एक गाँव तथा ज़िला। यह मर्व नगर से 100 मील साँचा:मील की दूरी पर दक्षिण में स्थित है। इतिहास में पंजदे...

पाषाण युग

पाषाण युग इतिहास का वह काल है जब मानव का जीवन पत्थरों पर अत्यधिक आश्रित था। उदाहरणार्थ पत्थरों से शिकार करना, पत्थरों की गुफाओं में शरण लेना, पत्थरों से आग प...

पीटर महान

पीटर महान या प्रथम - सन् 1682 से रूस का ज़ार तथा सन 1721 से रूसी साम्राज्य का प्रथम सम्राट। वह इतिहास के सबसे विश्वविख्यात राजनीतिज्ञों में से एक था। उसने १८...

प्रागितिहास

प्रागितिहास इतिहास के उस काल को कहा जाता है जब मानव तो अस्तित्व में थे लेकिन जब लिखाई का आविष्कार न होने से उस काल का कोई लिखित वर्णन नहीं है। इस काल में मान...

प्राचीन आर्य इतिहास का भौगोलिक आधार

भारतीय आर्यों के प्राचीन इतिहास तथा भूगोल का अज्ञान, या तो हमारे आलस्य के कारण या हमारी बहुमूल्य ऐतिहासिक पुस्तकों के शत्रुओं द्वारा नष्ट हो जाने के कारण, अभ...

फ़ारस

फ़ारस प्राचीन काल के कई साम्राज्यों के केन्द्र रहे प्रदेशों को कहते हैं जो आधुनिक ईरान से तथा उससे संलग्न क्षेत्रों में फैला था। फ़ारस का साम्राज्य कई बार वि...

फ़्रांसीसी औपनिवेशिक साम्राज्य

फ़्रांसीसी औपनिवेशिक साम्राज्य से आशय यूरोप से बाहर उन क्षेत्रों से है जो मुख्यतः १६०० से १९६० के अन्त तक फ़्रांसीसी शासन के अधीन थे। १९ वीं और २० वीं शताब्द...

बाबर

ज़हीरुद्दीन बाबर 14 फ़रवरी 1483 - 26 दिसम्बर 1530 जो बाबर के नाम से कुुख्यत हुआ, वह "मुगल वंश" का शासक था. उसका जन्म मध्य एशिया के वर्तमान उज़्बेकिस्तान में ...

बिहार का मध्यकालीन इतिहास

बिहार का मध्यकालीन इतिहास का प्रारम्भ उत्तर-पश्‍चिम सीमा पर तुर्कों के आक्रमण से होता है। मध्यकालीन काल में भारत में किसी की भी मजबूत केन्द्रीय सत्ता नहीं थी...

बुरंजी

बुरंजी, असमिया भाषा में लिखी हुईं ऐतिहासिक कृतियाँ हैं। अहोम राज्य सभा के पुरातत्व लेखों का संकलन बुरंजी में हुआ है। प्रथम बुरंजी की रचना असम के प्रथम राजा स...

ब्रिटेन की कृषि क्रांति

ब्रिटेन में औद्योगिक क्रांति के पूर्व कृषि क्रांति हुई थी। ब्रिटेन की इस कृषि आधारित व्यवस्था ने उसे दुनिया का पहला देश बनाया था जहाँ अकाल से मौत नहीं हुआ कर...

भरत (महाभारत)

भरत प्राचीन भारत के एक चक्रवर्ती सम्राट थे जो कि राजा दुष्यन्त तथा रानी शकुंतला के पुत्र थे अतः एक चन्द्रवंशी राजा थे। भरत के बल के बारे में ऐसा माना जाता है...

भारत छोड़ो आन्दोलन

भारत छोड़ो आन्दोलन, द्वितीय विश्वयुद्ध के समय 8 अगस्त १९४२ को आरम्भ किया गया था। यह एक आन्दोलन था जिसका लक्ष्य भारत से ब्रिटिश साम्राज्य को समाप्त करना था। य...

भारतीय कृषि का इतिहास

भारत में ९००० ईसापूर्व तक पौधे उगाने, फसलें उगाने तथा पशु-पालने और कृषि करने का काम शुरू हो गया था। शीघ्र यहाँ के मानव ने व्यवस्थित जीवन जीना शूरू किया और कृ...

भारतीय नाप एवं तौल

भारत में मापन का इतिहास बहुत पुराना है। वर्तमान में भारत में मापन की अन्तरराष्ट्रीय प्रणाली प्रचलित है। इसके पहले अंग्रेजों ने ब्रिटिश प्रणाली लागू की थी। उस...

भारतीय रसायन का इतिहास

भारत में रसायन शास्त्र की अति प्राचीन परंपरा रही है। पुरातन ग्रंथों में धातुओं, अयस्कों, उनकी खदानों, यौगिकों तथा मिश्र धातुओं की अद्भुत जानकारी उपलब्ध है। इ...

भाषाविज्ञान का इतिहास

प्राचीन काल में भाषावैज्ञानिक अध्ययन मूलत: भाषा के सही व्याख्या करने की कोशिश के रूप में था। सबसे पहले चौथी शदी ईसा पूर्व में पाणिनि ने संस्कृत का व्याकरण लि...

भौमिकी का इतिहास

भौमिकी का इतिहास बहुत पुराना है। शायद पृथ्वी की उत्पत्ति सम्बन्धी विचारों को सबसे पहला भूवैज्ञानिक विचार कहा जा सकता है। डार्विन के समय तक अधिकांश भूवैज्ञानि...

मनोविज्ञान का इतिहास तथा शाखाएँ

आधुनिक मनोविज्ञान की ऐतिहासिक पृष्ठभूमि में इसके दो सुनिश्चित रूप दृष्टिगोचर होते हैं। एक तो वैज्ञानिक अनुसंधानों तथा आविष्कारों द्वारा प्रभावित वैज्ञानिक मन...

महात्मा गाँधी अंतर्राष्ट्रीय विमानपत्तन

महात्मा गाँधी अन्तर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा या देवघर विमानक्षेत्र भारत का एक प्रमुख अन्तर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा हैं, जो देवघर में स्थित है। यह एक नागरिक हवाई अड्...

मित्तानी साम्राज्य

मित्तानी साम्राज्य यह सा्म्राज्य कई सदियों तक पश्चिम एशीया में राज करता रहा। इस वंश के सम्राटों के संस्कृत नाम थे। विद्वान समझते हैं कि यह लोग महाभारत के पश्...

मुंडा विद्रोह

मुंडा जनजातियों ने 18वीं सदी से लेकर 20वीं सदी तक कई बार अंग्रेजी सरकाऔर भारतीय शासकों, जमींदारों के खिलाफ विद्रोह किये। बिरसा मुंडा के नेतृत्‍व में 19वीं सद...

मुद्राशास्त्र

मुद्राशास्त्र सिक्कों, कागजी मुद्रा आदि के संग्रह एवं उसके अध्ययन का विज्ञान है। मुद्राशास्त्र इतिहास और संस्कृति को जानने का सर्वाधिक विश्वनीय और दिलचस्प मा...

मुनरो सिद्धांत

मुनरो सिद्धांत लैटिन अमरीका को लेकर संयुक्त राज्य अमेरिका की दीर्घकालिक विदेश नीति की रूपरेखा से सम्बंधित एक सिद्धांत है। यह 2 दिसंबर 1823 को अमेरिकी राष्ट्र...

यदुनाथ सरकार

यदुनाथ सरकार भारत के एक प्रसिद्ध इतिहासकार थे। भारतीय मुगलकाल के इतिहास-लेखन के क्षेत्र में उनका अकादमिक योगदान अप्रतिम है|