ⓘ बालक आदमी के नर बच्चे को कहते हैं जैसे कि मादा बच्चे को बालिका कहते हैं। बड़ा होकर यही नर बालक, वयस्क नर या आदमी कहलाता है। बालक शब्द का प्रयोग इंसानी बच्चे के ..

                                     

ⓘ बालक

बालक आदमी के नर बच्चे को कहते हैं जैसे कि मादा बच्चे को बालिका कहते हैं। बड़ा होकर यही नर बालक, वयस्क नर या आदमी कहलाता है।

बालक शब्द का प्रयोग इंसानी बच्चे के लिंग को पहचान करने के रूप में किया जाता है जिससे कि उसके नर या मादा होने का पता चलता हैं। इस शब्द का प्रयोग सबसे पहले सन ११५४ में दिखाई देता है जो के इतिहास में है, पर यह पक्का नहीं किया जा सकता।

बालक जहा नर बच्चे का हिंदी शब्द हैं वहीं सभी भाषाओं में इसके लिए उपुक्त शब्द है, जैसे कि इंग्लिश में बॉय।

                                     
  • ब लक र म, भ रत क उत तर प रद श क द सर व ध नसभ सभ म व ध यक रह 1957 उत तर प रद श व ध न सभ च न व म इन ह न उत तर प रद श क श हजह प र ज ल क 84
  • श व ब लक प स भ रत क उत तर प रद श क प द रहव व ध नसभ सभ म व ध यक रह 2007 उत तर प रद श व ध न सभ च न व म इन ह न उत तर प रद श क र यबर ल ज ल
  • र जक य उच चतम म ध यम क व द य लय ब लक ख चर प र द ल ल यह व द य लय द ल ल क प र व ज ल क म डल - क अन तर गत ह व द य लय क क रम क ह व द य लय
  • र जक य उच चतम म ध यम क व द य लय ब लक न य क डल द ल ल - यह व द य लय द ल ल क प र व ज ल क म डल - क अन तर गत ह व द य लय क क रम क
  • ब लक र म व श य, भ रत क उत तर प रद श क त सर व ध नसभ सभ म व ध यक रह 1962 उत तर प रद श व ध न सभ च न व म इन ह न उत तर प रद श क लखनऊ ज ल क
  • ह कर छह म ह तक कठ र तप क य ब लक क तपस य द ख भगव न न दर शन द कर उस उच चतम पद प र प त करन क वरद न द य इस क ब द ब लक ध र व क य द म सर व ध क चमकन
  • र जक य उच चतम म ध यम क व द य लय ब लक न य अश क नगर द ल ल - यह व द य लय श क ष न द श लय द ल ल क प र व ज ल क म डल - क अन तर गत ह व द य लय
  • अपन म ल स एक ब लक क उत पन न करक उस अपन द व रप लबन द य श वज न जब प रव श करन च ह तब ब लक न उन ह र क द य इस पर श वगण न ब लक स भय कर य द ध
  • द कर कह क उठ, ब लक और उस क म त क ल कर इस र एल क द श म चल ज क य क ज ब लक क प र ण ल न च हत थ व मर गए वह उठ और ब लक और उस क म त क
  • इसक क रण ब लक क प र प त ह ए अपन म त - प त क ग णस त र क र म स म स ह ब लक क आन व श कत म क वल उसक म त - प त क द न ह नह ह त ब लक क आन व श कत
  • और उस ब लक द ग ज क उसक स व क य कर ग इसक ब द हन म न ज उस ब लक द कर अ तर ध न ह गय ब र ह मण इसस अत प रसन न ह गय और उस ब लक क न म म गल
                                     
  • एक अथव द ब लक क ह नह अप त सम प र ण सम ज क आन व ल न ज न क तन प ढ य क ह न ह न क भय ह अत: इस सम बन ध म सम ज क ब लक तथ श क ष क
  • इन ह 12 र श य म स क ई एक र श ब लक क जन म क समय प र व द श म स थ त ह त ह यह र श जन म क समय ब लक क लग न भ व क र प म उभर कर स मन आत
  • प र वत क प त र ह तथ सद व ब लक र प ह रहत ह पर त उनक इस ब लक स वर प क भ एक रहस य ह भगव न क र त क य छ: ब लक क र प म जन म थ तथ इनक
  • नह ह ई प ण यसदन ज क घर ब लक प द ह न क खबर प कर प र प रय ग नगर उमड पड क लप र ह त न उनक न म र म नन द रख ब लक क ल ए स न क प लन लग य
  • क इस ल ख य भ ग क ब ल व क स क स थ व लय कर द य ज ए व र त र स न ब लक क त न अवस थ ओ क कल पन क थ : श शव वस थ ज एक वर ष स प च तक रहत
  • व द य लय एयर फ र स स क ल नगर न गम व द य लय र जक य ब लक स न यर स क डर स क ल व स टव न द नगर, द ल ल र जक य ब लक स न यर स क डर स क ल न य अश क नगर, द ल ल
  • ब लक क न म उसक पहच न क ल ए नह रख ज त मन व ज ञ न एव अक षर - व ज ञ न क ज नक र क मत ह क न म क प रभ व व यक त क स थ ल - स क ष म व यक त त व पर
  • श र क ष ण न उनस श श क द न म ग ब लक बर बर क क षण भर क ल ए चकर गय परन त उसन अपन वचन क द ढ त जत य ब लक बर बर क न ब र ह मण स अपन व स त वक
  • जब ब लक ब ल क क आय श क ष ग रहण करन य ग य ह ज य, तब उसक व द य र भ स स क र कर य ज त ह इसम सम र ह क म ध यम स जह एक ओर ब लक म अध ययन क
                                     
  • आर. ब लक ष णन, ज न ह आर. ब ल क क न म स ज न ज त ह एक भ रत य फ ल म न र म त न र द शक, पटकथ ल खक और व ज ञ पन एज स ल व ल ट स इ ड य क प र व
  • य वन श व क गर भ रह गय ज स ऋष य न उसक प ट फ ड कर न क ल वह गर भ एक प र ण ब लक क र प म उत पन न ह आ थ ज इ द र क अम तस त र व ण तर जन उ गल च सकर रहस य त मक
  • प रत क क त र स प ज ज न क आश र व द प रद न क य और च र आय तक उनक छव क ब लक क छव क त र पर बन रहन क भ आश र व द द य कलय ग म ब ब ब लकन थ ज
  • कहत ह स र य गर म द त ह वह श मल गय ह ग भ रत हम र द श ह वह ब लक ह ह म लय भ रत क उत तर द श म स थ त ह व यख य उपर क त व क य म स र य
  • उनक न म घनश य म रख ब लक क ह थ म पद म और प र स बज र, ऊर ध वर ख तथ कमल क च न ह द खकर ज य त ष य न कह द य क यह ब लक ल ख ल ग क ज वन क
  • स ड म ब ठ मह ल व ष णव वर ज न और च इल ड य द ध र ज म और ब लक त न मह ल ए और ब लक आश चर य भ रत ज म न र य: एक प रत भ श ल प रय गधर म कल क र ज म न
  • ह तथ उनक व ज ञ न क ढ ग स समझन क च ष ट करत ह वह ब लमन व ज ञ न ब लक क म नस क क र य ओ क वर णन करत और उन ह समझ न क प रयत न करत ह ब लमन व ज ञ न
  • स र क ब ल पहल ब र उत र ज त ह ल क क र त यह प रचल त ह क म ण डन, ब लक क आय एक वर ष क ह न तक कर ल अथव द वर ष प र ह न पर त सर वर ष म
  • म सत यवत ह आ मछल क प ट फ ड कर मल ल ह न एक ब लक और एक कन य क न क ल और र ज क स चन द ब लक क त र ज न प त र र प स स व क र कर ल य क त
  • द द ध एक ह नह र, व र और स हस क ब लक थ अध कतर ल ग स व र थ ह त ह ल क न ब लक द द ध म न स व र थ ग ण थ हल द घ ट क य द ध क समय थ य द ध स

शब्दकोश

अनुवाद
Free and no ads
no need to download or install

Pino - logical board game which is based on tactics and strategy. In general this is a remix of chess, checkers and corners. The game develops imagination, concentration, teaches how to solve tasks, plan their own actions and of course to think logically. It does not matter how much pieces you have, the main thing is how they are placement!

online intellectual game →