ⓘ हिंदी रेडियो. 24 दिसम्बर 1906 की संध्या कनाडा के वैज्ञानिक रेगिनाल्ड फेसेंडेन ने जब अपना वॉयलिन बजाया और अटलांटिक महासागर में बहुत सारी समुद्री जहाजों के रेडियो ..

                                     

ⓘ हिंदी रेडियो

24 दिसम्बर 1906 की संध्या कनाडा के वैज्ञानिक रेगिनाल्ड फेसेंडेन ने जब अपना वॉयलिन बजाया और अटलांटिक महासागर में बहुत सारी समुद्री जहाजों के रेडियो ऑपरेटरों ने उस संगीत को अपने रेडियो सेट पर सुना, वह दुनिया में रेडियो प्रसारण की शुरुआत थी।

इससे पहले जगदीश चन्द्र बसु ने भारत में तथा गुल्येल्मो मार्कोनी ने सन 1900 में इंग्लैंड से अमरीका बेतार संदेश भेजकर व्यक्तिगत रेडियो संदेश भेजने की शुरुआत कर दी थी, पर एक से अधिक व्यक्तियों को एक साथ संदेश भेजने या ब्रॉडकास्टिंग की शुरुआत 1906 में फेसेंडेन के साथ हुई। ली द फोरेस्ट और चार्ल्स हेरॉल्ड जैसे लोगों ने इसके बाद रेडियो प्रसारण के प्रयोग करने शुरु किए। तब तक रेडियो का प्रयोग सिर्फ नौसेना तक ही सीमित था। 1917 में प्रथम विश्व युद्ध की शुरुआत के बाद किसी भी गैर फौज़ी के लिये रेडियो का प्रयोग निषिद्ध कर दिया गया।

भारत और रेडियो:

1927 तक भारत में भी ढेरों रेडियो क्लबों की स्थापना हो चुकी थी। 1936 में भारत में सरकारी ‘इम्पेरियल रेडियो ऑफ इंडिया’ की शुरुआत हुई जो आज़ादी के बाद ऑल इंडिया रेडियो या आकाशवाणी बन गया।

1939 में द्वितीय विश्वयुद्ध की शुरुआत होने पर भारत में भी रेडियो के सारे लाइसेंस रद्द कर दिगए और ट्रांसमीटरों को सरकार के पास जमा करने के आदेश दे दिए गए।

नरीमन प्रिंटर उन दिनों बॉम्बे टेक्निकल इंस्टीट्यूट बायकुला के प्रिंसिपल थे। उन्होंने रेडियो इंजीनियरिंग की शिक्षा पाई थी। लाइसेंस रद्द होने की ख़बर सुनते ही उन्होंने अपने रेडियो ट्रांसमीटर को खोल दिया और उसके पुर्जे अलग-अलग जगह पर छुपा दिए। इस बीच गांधी जी ने अंग्रेज़ों भारत छोडो का नारा दिया। गांधी जी समेत तमाम नेता 9 अगस्त 1942 को गिरफ़्ताकर लिगए और प्रेस पर पाबंदी लगा दी गई।

कांग्रेस के कुछ नेताओं के अनुरोध पर नरीमन प्रिंटर ने अपने ट्रांसमीटर के पुर्जे फिर से एकजुट किया। माइक जैसे कुछ सामान की कमी थी जो शिकागो रेडियो के मालिक नानक मोटवानी की दुकान से मिल गई और मुंबई के चौपाटी इलाक़े के सी व्यू बिल्डिंग से 27 अगस्त 1942 को नेशनल कांग्रेस रेडियो का प्रसारण शुरु हो गया।

अपने पहले प्रसारण में उद्घोषक उषा मेहता ने कहा," 41.78 मीटर पर एक अंजान जगह से यह नेशनल कांग्रेस रेडियो है।”

रेडियो पर विज्ञापन की शुरुआत 1923 में हुई। इसके बाद इसी रेडियो स्टेशन ने गांधी जी का भारत छोड़ो का संदेश, मेरठ में 300 सैनिकों के मारे जाने की ख़बर, कुछ महिलाओं के साथ अंग्रेज़ों के दुराचार जैसी ख़बरों का प्रसारण किया जिसे समाचारपत्रों में सेंसर के कारण प्रकाशित नहीं किया गया था।

पहला ट्रांसमीटर 10 किलोवाट का था जिसे शीघ्र ही नरीमन प्रिंटर ने और सामान जोड़कर सौ किलोवाट का कर दिया। अंग्रेज़ पुलिस की नज़र से बचने के लिए ट्रांसमीटर को तीन महीने के भीतर ही सात अलग स्थानों पर ले जाया गया।

12 नवम्बर 1942 को नरीमन प्रिंटर और उषा मेहता को गिरफ़्ताकर लिया गया और नेशनल कांग्रेस रेडियो की कहानी यहीं ख़त्म हो गई।

नवंबर 1941 में रेडियो जर्मनी से नेताजी सुभाष चंद्र बोस का भारतीयों के नाम संदेश भारत में रेडियो के इतिहास में एक और प्रसिद्ध दिन रहा जब नेताजी ने कहा था," तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आज़ादी दूंगा।”

इसके बाद 1942 में आज़ाद हिंद रेडियो की स्थापना हुई जो पहले जर्मनी से फिर सिंगापुऔर रंगून से भारतीयों के लिये समाचार प्रसारित करता रहा।

स्वतन्त्रता के पश्चात से 16 नवम्बर 2006 तक रेडियो केवल सरकार के अधिकार के था। धीरे-धीरे आम नागरिकों के पास रेडियो की पहुँच के साथ इसका विकास हुआ।

सरकारी संरक्षण में रेडियो का काफी प्रसार हुआ। 1947 में आकाशवाणी के पास छह रेडियो स्टेशन थे और उसकी पहुंच 11 प्रतिशत लोगों तक ही थी। आज आकाशवाणी के पास 223 रेडियो स्टेशन हैं और उसकी पहुंच 99.1 फ़ीसदी भारतीयों तक है। टेलीविज़न के आगमन के बाद शहरों में रेडियो के श्रोता कम होते गए, पर एफएम रेडियो के आगमन के बाद अब शहरों में भी रेडियो के श्रोता बढ़ने लगे हैं। पर गैरसरकारी रेडियो में अब भी समाचार या समसामयिक विषयों की चर्चा पर पाबंदी है। रेडियो का दुरुपयोग न हो इसलिए सरकार इसे चलाने की अनुमति आम जनता को नहीं देना चाहती थी। इस बीच आम जनता को रेडियो स्टेशन चलाने देने की अनुमति के लिए सरकापर दबाव बढ़ता रहा है। 1995 में भारतीय सर्वोच्च न्यायालय ने कहा कि रेडियो तरंगों पर सरकार का एकाधिकार नहीं है। वर्ष 2002 में एनडीए सरकार ने शिक्षण संस्थाओं को कैंपस रेडियो स्टेशन खोलने की अनुमति दी। 16 नवम्बर 2006 को यूपीए सरकार ने स्वयंसेवी संस्थाओं को रेडियो स्टेशन खोलने की इज़ाज़त दी है। इन रेडियो स्टेशनों में भी समाचार या समसामयिक विषयों की चर्चा पर पाबंदी है, पर इसे रेडियो जैसे जन माध्यम के लोकतंत्रीकरण की दिशा में एक महत्वपूर्ण क़दम माना जा रहा है।

                                     
  • अटल ट क मह स गर म त र रह तम म जह ज क र ड य ऑपर टर न उस स ग त क अपन र ड य स ट पर स न वह द न य म र ड य प रस रण क श र आत थ इसस पहल जगद श
  • आज द ह द र ड य क आरम भ न त ज स भ ष चन द र ब स क न त त व म म जर मन म क य गय थ इस र ड य क उद द श य भ रत य क अ ग र ज स स वतन त रत
  • र ड य स ट भ रत क एक ग र श सक य र ड य स ट शन ह इसक प रस रण म ग हर ट ज पर ह त ह इस र ड य स ट शन क श र आत सबस पहल म बई स म ह ई
  • च इन र ड य इण टरन शनल स आर आई य स आरआई च न 中国国际广播电台 ज सक प र न न म र ड य प क ग ह क स थ पन द सम बर, क ह ई थ च न क एक म त र
  • स च ल त ह त थ वर तम न म य स व र ड य क स थ - स थ व बस इट एव स म ज क ज लस थल पर भ स च ल त ह रह ह ब ब स ह द स व प छल स ठ स ल स आप तक सम च र
  • प रस रण म त र लय क अध न स च ल त स र वजन क क ष त र क र ड य प रस रण स व ह भ रत म र ड य प रस रण क श र आत म बई और क लक त म सन म द न ज
  • र ड एफएम र ड य भ रत क एक प र इव ट र ड य स ट शन ह इसक प रस रण द ल ल म बई और क लक त म ह त ह इस र ड य स ट शन क प रस रण म ग हर ट स
  • म शन ट रस ट ब र ड न मक स गठन द व र क य ज त ह ज र ड य ल इट क भ फ ज म स च लन करत ह र ड य नय ज वन 1 अकट बर 2004 स क र य व त ह आ और उसक लक ष य
  • ह ह द म गद य क व क स बह त ब द म ह आ और इसन अपन श र आत कव त क म ध यम स ज क ज य द तर ल कभ ष क स थ प रय ग कर व कस त क गई ह द क आर भ क
  •    व हत म टरव व र ड य ट ल स क प भ रत क प ण शहर स क ल म टर उत तर म ख ड ड न मक स थ न पर स थ त र ड य द रब न क व श व क सबस व श ल स रण ह
  • भ रत ह द म ब ल ज न व ल भ ष ओ क ल ए ज ब न - ए - ह न द पद क उपय ग ह आ ह भ रत आन क ब द अरब - फ रस ब लन व ल न ज ब न - ए - ह द ह द ज ब न
  • हल द व न एक ह न द भ ष क स म द य क र ड य स ट शन ह ज उत तर ख ड म क त व श व द य लय क पर सर स स च ल त एव प रबन ध त क य ज त ह र ड य स ट शन स
                                     
  • र ड य र स र स : Голос России अख ल र स र ज य ट ल व जन और र ड य क पन द व र स व म त व र स सरक र क अ तरर ष ट र य र ड य प रस रण स व ह इसक प र ववर त
  • र ड य ज ग त 102.7 एफ एम सन तनधर म मह सभ ट र न ड ड क र ड य स ट शन ह इसम क र यक रम म ख यत ह न द म ह और इस स ट र म ग औड य म स न ज
  • ज ल ई 1944 क उन ह न र ग न र ड य स ट शन स ग ध ज क न म ज र एक प रस रण म अपन स थ त स पष ठ क और आज द ह न द फ ज द व र लड ज रह इस न र ण यक
  • र ड य स व क एक प रक र ह स म द य क र ड य ज व ण ज य क और स र वजन क स व स पर र ड य प रस रण क एक त सर म डल प रद न करत ह सम द य स ट शन भ ग ल क
  • ह द क ह त ह भ रत य य व य ट य ब पर 93 फ सद ह द व ड य द खत ह ह द म ड य क न म न घटक ह - 1. ह द फ ल म 2. ह द र ड य 3. ह द पत र - पत र क ए
  • बह त स र ड य स ट शन भ ह सम च र और च ट ठ क त ज फ ड भ ज हर समय त ज ह त रहत ह ढ र ह द पत र क ओ क ल क तथ अन य ह द स थल क
  • क र प म स थ प त ह गई थ र ड य स भ व भ रत म ह ज ड च क थ ब द म व ल दन म ब ब स र ड य क ह न द स व स ज ड और अध यक ष क पद
  • भ ष और भ रत ह द र स और र स ह द शब दक श Хинди - русский и русско - хинди словарь क व य र स भ ष सम प दन र स - ह न द क श क न द र य ह न द न द श लय
  • यह र ड य स ट शन क एक स च ह ज द न य भर म भ रत य भ ष ओ म प रस र त ह त ह यह स च अध र ह तथ इसक व स त र य अद यतन क जर रत ह सम वर धन
  • असर उनक र ड य प रस रण एव न टक द न ह क ष त र म महस स क य ज सकत ह आध न क ह द गद य क इत ह स आध न क ह द पद य क इत ह स ह द स ह त य ल कप र य
  • ल य ह हफ ल ग ह न द म नक करण क इन च ह न क वर ण त करत ह और इस बड प म न पर अपन य ज रह ह उद हरण र थ, ऑल इण ड य र ड य उत तर कछर पह ड
                                     
  • र ड य क एक ब ल व ड फ ल म ह ह म श र शम य शहन ज ट र ज र व ल स नल सहगल र ड य इ टरन ट म व ड ट ब स पर
  • न य ज इ ड य एक ह न द ट व च नल ह यह एक सम च र च नल ह न य ज 24 24 घ ट ह द सम च र ट व B.A.G. क स व म त व व ल च नल ह फ ल म स ए ड म ड य
  • एआईआर ह न द एफएम ग ल ड द ल ल एफएम ग ल ड म बई एफएम र नब च न नई एफएम र नब द ल ल एफएम र नब ब गल र र ड य ट स ट र ड य ट स ट र ड य कश म र
  • वर ष ह 8 ज न - इ ड यन स ट ट ब र डक स ट ग सर व स क न म बदलकर ऑल इ ड य र ड य कर द य गय अप र ल - ज ब न म हत भ रत य स ग त न र द शक 14 मई - वह द
  • उड न 6 नव बर - एडव न आर मस ट र ग न न य य र क क र ड य इ ज न यर क सम म लन म अपन श ध क जर ए र ड य स ग नल क प रस रण म आ रह र क वट क कम करन
  • र ड य च इन इ टरन श नल क क र यक रम भ रत म क फ ल कप र य ह च क ह क छ जगह पर भ रत य श र त ओ क क लब भ बन च क ह इस क रण स यह र ड य स व
  • ब र डक स ट ग क र प र शन ब ब स न य न इट ड क गडम म र ड य स व श र क य वह य न इट ड क गडम म र ड य प रस रण करन व ल पहल स स थ बन 2009, शन व र

शब्दकोश

अनुवाद
Free and no ads
no need to download or install

Pino - logical board game which is based on tactics and strategy. In general this is a remix of chess, checkers and corners. The game develops imagination, concentration, teaches how to solve tasks, plan their own actions and of course to think logically. It does not matter how much pieces you have, the main thing is how they are placement!

online intellectual game →