ⓘ सूबेदार भारतीय सेना और पाकिस्तान सेना में एक ऐतिहासिक रैंक है, जो ब्रिटिश कमीशन अधिकारियों से नीचे और गैर-कमीशन अधिकारियों से ऊपर की रैंकिंग है। अन्यथा रैंएक ब् ..

                                     

ⓘ सूबेदार

सूबेदार भारतीय सेना और पाकिस्तान सेना में एक ऐतिहासिक रैंक है, जो ब्रिटिश कमीशन अधिकारियों से नीचे और गैर-कमीशन अधिकारियों से ऊपर की रैंकिंग है। अन्यथा रैंएक ब्रिटिश कप्तान के बराबर था।

नेपाली सेना में, एक सूबेदार एक वारंट अधिकारी होता है।

                                     

1. इतिहास

ब्रिटिश भारत में, सूबेदार या सूबेदार भारतीय अधिकारी का दूसरा सर्वोच्च पद था। यह मुग़ल साम्राज्य और मराठा साम्राज्य के एक प्रांत के गवर्नर सुबेदार से लिया गया था।

एक सूबेदार ब्रिटिश शासन के तहत भारतीय सेना की पैदल सेना रेजिमेंटों में एक सूबेदार मेजर के लिए एक जमादाऔर जूनियर से वरिष्ठ था। घुड़सवार सेना बराबर थी। जैमदाऔर रिसालदार दोनों ने दो सितारों को रैंक प्रतीक चिन्ह पहना था।

रैंक को ईस्ट इंडिया कंपनी की प्रेसिडेंसी सेनाओं बंगाल आर्मी, मद्रास आर्मी और बॉम्बे आर्मी में पेश किया गया था ताकि ब्रिटिश अधिकारियों के लिए देशी सैनिकों के साथ संवाद करना आसान हो सके। इस प्रकार अंग्रेजी में कुछ योग्यता होना सूबेदारों के लिए महत्वपूर्ण था। नवंबर 1755 के एक आदेश में एक सबेदार, चार जेमदार, 16 एनसीओ और 90 सिपाहियों निजी सैनिकों के लिए प्रदान की गई एचईआईसी की नव-निर्मित पैदल सेना रेजीमेंट्स में एक पैदल सेना कंपनी की संरचना। 18 वीं शताब्दी में बाद में एक रेजिमेंट में ब्रिटिश जूनियर अधिकारियों की संख्या बढ़ने तक यह अनुमानित अनुपात बना रहा था।

1866 तक, रैंक उच्चतम गैर-यूरोपीय भारतीय था जो ब्रिटिश भारत की सेना में हासिल कर सकता था। एक सूबेदार का अधिकार अन्य भारतीय सैनिकों तक ही सीमित था, और वह ब्रिटिश सैनिकों को कमान नहीं दे सकते थे। रैंकों से प्रचारित और आमतौपर लंबी सेवा के आधापर वरिष्ठता के माध्यम से उन्नत; इस अवधि के विशिष्ट सूबेदार सीमित अंग्रेजी के साथ एक अपेक्षाकृत बुजुर्ग वयोवृद्ध व्यक्ति थे, जिनका व्यापक रेजिमेंटल अनुभव और व्यावहारिक ज्ञान औपचारिक शिक्षा या प्रशिक्षण से मेल नहीं खाता था।

                                     

2. प्रतीक चिन्ह और वर्दी

1858 तक, सूबेदारों ने प्रत्येक कंधे पर छोटे बुलियन फ्रिंज के साथ दो एपॉलेट पहने। 1858 के बाद, उन्होंने दो पार की हुई स्वर्ण तलवारें पहनीं, या, गोरखा रेजीमेंट्स में, दो पार किगए गोल्डन कुकरियों, ट्यूनिक के कॉलर के प्रत्येक तरफ या कुर्ता के दाहिने स्तन पर। 1900 के बाद, सूबेदारों ने प्रत्येक कंधे पर दो पिप्स पहने। प्रथम विश्व युद्ध के बाद प्रत्येक पाइप के नीचे एक लाल-पीले-लाल रिबन को पेश किया गया था। द्वितीय विश्व युद्ध के बाद, इस रिबन को कंधे के शीर्षक और रैंक प्रतीक चिन्ह दोनों कंधों पर दो पीतल के सितारे के बीच झूठ बोलने के लिए स्थानांतरित किया गया था।

ब्रिटिश शासन की अवधि के दौरान, सूबेदारों और अन्य VCO ने विशिष्ट वर्दी पहनी थी जो ब्रिटिश और भारतीय सैन्य पोशाक दोनों की संयुक्त विशेषताएं थीं।

                                     

3. मराठा साम्राज्य

मराठा साम्राज्य के तीनों उप-ब्राह्मणों में से ब्राह्मण: देशस्थ, चितपावन और करहडे, पहाड़ी किलों के सूबेदाऔर सेनापति नियुक्त किगए थे जिनका नाम तनाजी था। देशस्थ ब्राह्मण शिवाजी और उनके दो बेटों के समय के प्रमुख गुट थे।

मराठा परिसंघ के अधीन सूबेदार पेशवा कमांडरों के प्रति जवाबदेह थे।

                                     
  • स ब द र ज ग दर स ह स त बर - अक ट बर प त श र श र स ह ज श र मत म त क शन क र ज स ख र ज म ट क एक भ रत य स न क थ इन ह
  • व वर ग म म न य ह न यब स ब द र क र क धर म श क षक क प रश क षण सफलत प र वक प र कर ल न पर र गर ट क न यब स ब द र क र क द कर धर म श क षक क र प
  • श र य क प रदर शन क य थ अल करण क समय आप न यब स ब द र क पद पर थ ज ब द म क रमश स ब द र स ब द र म जर व म नद क प टन बन भ रत क गणत त र द वस पर ड
  • स ब द र स ह, भ रत क उत तर प रद श क त सर व ध नसभ सभ म व ध यक रह 1962 उत तर प रद श व ध न सभ च न व म इन ह न उत तर प रद श क म नप र ज ल क
  • अ क श लग य थ म ग ल क स ब द र बन य ज न क त र त ब द स ह उन ह न उनक ख ल फ ज न श र कर द ए थ उन ह न अवध क स ब द र क पद पर रहत ह ए अन क
  • श र आत एक अभ म न स ब द र नस र द द न श ह औपन व श क भ रत म स थ न य कर स ग रहकर त और उसक ग र ग एक ग व स ह कर न कलत ह स ब द र मह ल ओ क ल ए
  • ह स ल करन व ल श रव र म स ब द र म जर बन न स ह ब न स ह ह एकम त र ऐस व यक त थ ज क रग ल य द ध तक ज व त थ स ब द र म जर ब न स ह जम म कश म र
  • हट न पड च त र: एक ट ग स ब द र न त रबह द र थ प 5व ग रख र यफल स मरण पर त प रस क र 25 - 26 ज न 1944 क एक ट ग स ब द र थ प बर म क ब शनप र क
  • फ र क र ज ओ क हर न क ब द अकबर न अपन प त र द न य ल क इस इल क क स ब द र न य क त क य द न य ल अक सर यह श क र क ल ए आय करत थ द न य ल क म त य
  • श ह दरब र म चल गय सईद ख न क ब ग ल क स ब द र बन य गय ई. म क वर म नस ह क ब ह र क स ब द र न य क त क य गय ई. म र ज भगव न द स
  • फर ख श यर द व र ब ग ल क स ब द र बन य गय यह म ग ल सम र ट द व र न य क त अ त म स ब द र थ इस क स थ ब ग ल म व श न गत स ब द र श सन क श र व त ह य
                                     
  • दक कन क एक इस ल म र ज य थ इसक स थ पन अगस त क एक त र क - अफ ग न स ब द र अल उद द न बहमन श ह न क थ इसक प रत द व द ह न द व जयनगर स म र ज य
  • 20 मई 1766 मर ठ स म र ज य क एक स मन त थ ज म लव क प रथम मर ठ स ब द र थ वह ह लकर र जव श क प रथम र जक म र थ ज सन इन द र पर श सन क य मर ठ
  • हवलद र, भ रत य स न एव प क स त न स न द न क एक पद र क ह ज सर ज न ट क पद क त ल य ह यह पद न यब स ब द र स छ ट और न यक स बड ह त ह
  • क ब द इसक चच र भ ई सरफ र ज ख न गद द पर ब ठ म ब ह र क न यक स ब द र अल वर द ख न न व द र ह कर द य और ह र य य ग र य क य द ध म सरफ र ज
  • ज त ह श र मनस र म न व शत ब द म बन रस क न ज म एक म डल क स ब द र तरह क ओहद र स तम अल ख न क म तहत क र य करन श र क य अपन बह द र
  • अम र अरब أمير क अर थ स न पत य र ज यप ल य स ब द र ह त ह इस न म स भ रत म इस ल म स म र ज य क प रम ख पद - ध रक क भ द य त त क य ज त थ
  • 1490 - 1686 दक कन क एक र ज य थ यह बहमन सल तनत क एक प र त थ ज सक स ब द र य स फ आद लश ह थ ज सन ब ज प र क 1490 म स वत त र घ ष त कर द य उसन
  • ह न द व न म ल अपन य ग यत क क रण क छ द न क ब द इस र जध न क स ब द र म ल और फ र इल ह ब द क स ब द र बन द य गय सन 1719 ई. म यह मर गय
  • और ध म न क म गल फ जद र ख ल क क ब च ह ए एक य द ध क स क ष थ मर ठ स ब द र ग व दर व प ड त न र नग र क अपन म ख य लय बन य थ सम प क पह ड पर
  • न यब स ब द र भ प ल स ह छ त ल मगर क 2014 म क र त चक र स सम म न त क य गय व भ रत य थलस न क र ज म ट एस 5 ग रख र इफल स म ह 31 अगस त 2013
  • स ब द र स जय क म र जन म: म र च एक भ रत य स प ह ह ज न ह न क रग ल य द ध म एर य फ ल ट ट प पर कब ज करन म महत वप र ण भ म क न भ ई उनक
  • ध र उसक स ब द र क ह थ आ गय थ इन स ब द र म त न प रम ख थ एक त दक ष ण क स ब द र ज ह दर ब द म श सन करत थ द सर ब ग ल क स ब द र ज सक र जध न
                                     
  • और गज ब क दक कन क स ब द र क ओहद स बर ख स त कर द य और गज ब 7 मह न तक दरब र नह आ सक ब द म श हजह न उस ग जर त क स ब द र बन य और गज ब
  • जह स फ स त मखद म द लत न सन 1608 म आखर स स ल थ ब ह र क म ग ल स ब द र म हम मद इब र ह म ख न, ज मखद म द लत क श ष य थ न उनक दरग ह क न र म ण
  • जम न क ल ए क य यह स थ त म हम मद त गलक क श सन म आई एक अफ ग न क स ब द र बन य गय और द लत ब द म क छ द न क ल ए वह स ल त न भ बन फ र ज त गलक
  • ज सक क रण ब दश ह जह ग र न उन ह च त ड भ ट म द य और उन ह म व ड क स ब द र बन द य अमरस ह म व ड क अ त म स वतन त र श सक थ 1622 म प त स बग वत
  • उन ह न सर - ए - जह द र श ह अ गरक षक क पद प र प त क य तथ ब द म सम न क स ब द र बन क क ब द न उस आर ज - ए - म म ल क क पद द य और श इस त ख क उप ध
  • स थ तथ उनक प त और द द द न अलवर र ज य बल क अलवर इन फ ट र क स ब द र क र प म स व न व त त ह ए व श व य द ध I क ब द स उनक च च ज ट र ज म ट
  • फ सल क य थ पर त म हम मद श ह न उनस कह क वह ढक कन क स ब द र छ ड कर अवध क स ब द र बन ज ए पर त न ज म लम लक न इस ब त क नक र द य और अपन स न ओ

शब्दकोश

अनुवाद
Free and no ads
no need to download or install

Pino - logical board game which is based on tactics and strategy. In general this is a remix of chess, checkers and corners. The game develops imagination, concentration, teaches how to solve tasks, plan their own actions and of course to think logically. It does not matter how much pieces you have, the main thing is how they are placement!

online intellectual game →