काव्य

उसक अन स र रस त मक व क य ह क व य ह रस अर थ त मन व ग क स खद स च र क क व य क आत म ह क व यप रक श म क व य त न प रक र क कह गए ह ध वन
क व य क भ द द प रक र स क ए गए ह स वर प क अन स र क व य क भ द श ल क अन स र क व य क भ द स वर प क आध र पर क व य क द भ द ह - श रव यक व य द ष यक व य
खण डक व य स ह त य म प रब ध क व य क एक र प ह ज वन क क स घटन व श ष क ल कर ल ख गय क व य खण डक व य ह खण ड क व य शब द स ह स पष ट ह त ह क
प रलय - स जन व श व स बढ त ह गय पर आ ख नह भर व ध य ह म लय म ट ट क ब र त गद य क त य - मह द व क क व य स धन न टक - प रक त प र ष क ल द स
श रव य क व य क पठन अथव श रवण एव द श य क व य क दर शन तथ श रवण म ज अल क क आनन द प र प त ह त ह वह क व य म रस कहल त ह रस क ज स भ व स यह
र स क व य ह न द क आद क ल म रच त ग रन थ ह इसम अध कतर व र - ग थ ए ह ह प थ व र जर स प रस द ध ह न द र स क व य ह र स स ह त य ज न परम पर
सम द ध य आय म ख क परम पर स भ क व य स जन ह आ यह ल क क व य तक ह स म त रह ह ल ख त क व य म कथ क व य क भरम र रह ह इनम प रम ख क त व ष ण द स
र प स व स त त नह ह य अध र ह आपक सह यत क स व गत ह मह द व क क व य स धन श वम गल स ह स मन क रचन ह द व ब श वम गल स ह स मन क क त य
ज हर शब द क अर थ क ल य क पय ज हर क अलग स प ष ठ द ख ज हर क व य ह न द क स प रस द ध कव श य मन र यण प ण ड य द व र रच त व र रस क चर च त खण डक व य
क व य - न ट य, न टक और क व य क एक म ल - ज ल व ध ह इसम क व य और न टक द न क तत व क समन वय रहत ह ह द म इस व ध क ग त - क व य क व य - न टक
द न व ल ह त ह स स क त क व य परम पर म म क तक शब द सर वप रथम आन दवर धन न प रस त त क य ऐस नह म न ज सकत क क व य क इस द श क ज ञ न उनस प र व
प रलय - स जन व श व स बढ त ह गय पर आ ख नह भर व ध य ह म लय म ट ट क ब र त गद य क त य - मह द व क क व य स धन न टक - प रक त प र ष क ल द स

प रलय - स जन व श व स बढ त ह गय पर आ ख नह भर व ध य ह म लय म ट ट क ब र त गद य क त य - मह द व क क व य स धन न टक - प रक त प र ष क ल द स
पहच न ज सकत ह स ह त य क क ष त र म यह भक त क व य क व र ट रस श र त क र प म प रकट ह आ भक त क व य क स वर प अख ल भ रत य थ दक ष ण भ रत म द र शन क
प रलय - स जन व श व स बढ त ह गय पर आ ख नह भर व ध य ह म लय म ट ट क ब र त गद य क त य - मह द व क क व य स धन न टक - प रक त प र ष क ल द स
क व य क भ म क र मध र स ह द नकर द व र रच त ह न द कव त क श ह
चम प श रव य क व य क एक भ द ह अर थ त गद य - पद य क म श र त क व य क चम प कहत ह गद य तथ पद य म श र त क व य क च प कहत ह गद यपद यमय क व य
प रलय - स जन व श व स बढ त ह गय पर आ ख नह भर व ध य ह म लय म ट ट क ब र त गद य क त य - मह द व क क व य स धन न टक - प रक त प र ष क ल द स
प रलय - स जन व श व स बढ त ह गय पर आ ख नह भर व ध य ह म लय म ट ट क ब र त गद य क त य - मह द व क क व य स धन न टक - प रक त प र ष क ल द स
अपन रचन क र क धर म प र म स त द स न ब हत रह ह म ट ट क ब र त एक क व य र पक ह ज सक आध र पर इस स ग रह क न मकरण क य गय ह यह र पक जव हरल ल
आपक सह यत क स व गत ह क व य - ह त त त पर य क व य क त त पर य कव - कर म तथ ह त क अर थ ह क रण क व य - ह त अर थ त क व य क रचन करन व ल कव म ऐस
उप लम भ क व य क व वरण प र च न स स क त ह द क व य च र य क मत न स र उप ल भ क व य म ख यत: श ग रक व य क एक भ द, ज सम न य क क व श वस त सख उप ल भ
व द य न मकरण क व य क भ रत य कल पन क ऊपर आश र त ह परन त य न मकरण प रस द ध नह ह सक य ग न र प पर स थ त य क अन स र क व य और स ह त य क कथ य

प रध न क व य ह इस ग रन थ क रचन क उद द श य ह उप क ष त यश धर क चर त र क उभ रन ह क व य क न मकरण स ह स द ध ह ज त ह क यश धर ह इस क व य क
उद द श य स स क त क व यश स त र म क व य क रचन क उद द श य पर भ ग भ र व च र व मर श ह आ ह भरत स ल कर व श वन थ तक न क व य क प रय जन प र ष र थ चत ष ठ य
आरत क व य - स प रस द ध ह न द कव पण ड त श य मन र यण प ण ड य क एक क व यक त क न म ह
घटकर पर क व य म क वल 22 पद य उपलब ध ह ज नम आक श म घ र म घ क द खकर एक व रह ण न अपन व रह क व य जन कर ई ह भ व न भ त क स थ इस क व य क अन यतम
र त सम प रद य आच र य व मन व शत द व र प रवर त त एक क व य - सम प रद य ह ज र त क क व य क आत म म नत ह यद यप स स क त क व यश स त र म र त
मगध क व य श र क त वर म द व र रच त एक कव त - स ग रह ह
करत - करत म ख क क व य कल क व द ध क आध न क समय म और श यद इत ह स म ड लन थ मस म ख क कव त क सर वश र ष ठ कल क र म स एक थ म ख क क व य कल क द सर

आध्यात्मिक काव्य

भ ष म Věra Ludíková च क कव ह उसक जन म ज न ह आ वह आध य त म क क व य ल खत ह उसक कव त ओ क बह त - स भ ष ओ म अन व द क य गय ह अक सर घटकर पर क व य म क वल 22 पद य उपल...

काव्यशास्त्र

ग प त भ रत य क व यश स त र क नय क ष त ज ग गल प स तक ल खक - र मन थ त र प ठ भ रत य क व यश स त र म सम प रद य क व क स भ रत य क व यश स त र एव उनक प श च त य क व यश ...

पद्य

स न न य ग य ह वह श रव य ह श रव य क व य द प रक र क ह त ह गद य और पद य पद य क व य क मह क व य और ख डक व य द भ द कह ज च क ह गद य क व य क भ ब रह मप त रप इत य द पद...

महाभारत कथा

ज व त मह भ रत क द श य क ष ण तलव र नवम बर मह भ रत क व भ न न स स करण मह भ रत न र ल क रचन र म यण मह भ रत क स क ष प त कथ मह भ रत क प त र मह भ रत प र च न भ रत क स...

रासो काव्य

स ह त य ज न परम पर स स ब ध त ह त र स क स ब ध अध क शत: व र क व य स ज ड गल भ ष म ल ख गय र स और र स शब द क व य त पत स ब ध व द व न म स स क त मह क व य र स क व य च...

वीरगाथा

गई ह ऐस क व य क रचन ह न द स ह त य क व रग थ क ल और व श षत: र त क ल क बह लत स ह ई ह व रग थ क ल क र स क व य क इस श र ण म म न ज ग र यर सन - च रणक ल, 2. म श रब ध ...

आरती(काव्य)

आरत शब द क अन क अर थ ह सकत ह - आरत - ह न द उप सन क व ध आरत फ ल म - 1962 म बन फ ल म आरत क व य - श य मन र यण प ण ड य क क व यक त सम द ध य आय म ख क परम पर स भ क ...

ओड

ओड एक प्रकार की कविता है जो मिश्र छंद के ढाँचे में, सामान्यत: ओजपूर्ण स्वर और उच्च शैली की, एक सार्वभौम अभिरुचिवाली विषयवस्तु से युक्त संबोधनपरक होती है। नृत...

खुमान रासो

खुमान रासो नवीं शताब्दी की रचना मानी जाती है। इसमें नवीं शती के चित्तौड़ नरेश खुमाण के युद्धों का चित्रण है। तत्कालीन राजाओं के सजीव वर्णन, उस समय की परिस्थि...

गोशाला (काव्य)

आचार्य धर्मेन्द्र महाराज ने १९५९ में डॉक्टर हरिवंश राय बच्चन की "मधुशाला" के जवाब में "गोशाला" नामक काव्य लिखा. == रचना काल == आचार्य श्री ने इसका प्रथम पथ अ...

दूतकाव्य

यह लेख संस्कृत के महाकवि भास की रचना दूतवाक्य के बारे में नहीं है। दूतकाव्य, संस्कृत काव्य की एक विशिष्ट परंपरा है जिसका आरंभ भास तथा घटकर्पर के काव्यों और म...

दोहावली

==बाहरी कड़ियाँ====इन्हें भी देखें=दोहे ऐसे हैं संसार में, कुछ -एक धन-कुबेर!जिनकी नजरों एक से, तुलसी और कनेर!! दोहावली तुलसीदास द्वारा रचित दोहों का एक संग्र...

ध्वन्यालोक

ध्वन्यालोक, आचार्य आनन्दवर्धन कृत काव्यशास्त्र का ग्रन्थ है। आचार्य आनन्दवर्धन काव्यशास्त्र में ध्वनि सम्प्रदाय के प्रवर्तक के रूप में प्रसिद्ध हैं। ध्वन्याल...

मुक्तक

मुक्तक काव्य या कविता का वह प्रकार है जिसमें प्रबन्धकीयता न हो। इसमें एक छन्द में कथित बात का दूसरे छन्द में कही गयी बात से कोई सम्बन्ध या तारतम्य होना आवश्य...

रामाज्ञा प्रश्न

रामाज्ञा प्रश्न तुलसीदास की रचना है जो शुभ-अशुभ विचार के लिए रची गयी है। यह विचार उन्होंने राम-कथा की सहायता से प्रस्तुत किया है। यह रचना दोहा शैली में रचित ...