ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 97

चित्रकार

चित्र बनानेवाले को चित्रकार कहते हैं। यह कलाकारी की सबसे लोकप्रिय विधा है। चित्र बनाने के आधार जैसे कागज़, कैनवस, लकड़ी, कपड़ा या भित्ति और माध्यम जैसे जलरंग, तैल रंग, खड़िया या डिजिटल अलग हो सकते हैं और उनके प्रयोगों में भी बहुत भिन्नता हो सकती ...

उस्ताख ल सर

उस्ताख ल सर फ्रांस का चित्रकाऔर फ्रेंच पेंटिंग अकादमी के संस्थापकों में से एक था। वह उस्ताख ल सर वूएट नामक चित्रकार का शिष्य था और उसी शैली में उसके अधिकतर चित्र बने मिलते हैं। सर्वप्रथम उसने लैंबर्ट होटेल में, कैविनेट दामोर के लिए १६४६-४७ में क् ...

एडविन आस्टिन अबे

एडविन आस्टिन अबे, संयुक्त राज्य अमरीका का चित्रकार था। वह फ़िलाडेल्फ़िया में उत्पन्न हुआ था। ललित कलाओं की पेंसिलवेनिया अकादमी से चित्रणकला सीखकर उसने पुस्तकों को सचित्र करने का कार्य शुरू किया। राबर्ट हेरिक, गोल्डस्मिथ, शेक्सपियर आदि की कृतियों ...

एम टी वी आचार्य

एम टी वी आचार्य एक चित्रकार, बाल पुस्तकों के चित्रकाऔर कला के शिक्षक थे। लोकप्रिय भारतीय बच्चों की पत्रिका चंदामामा के लिए आज उन्हें याद किया जाता है। आचार्य ने मैसूर दशेहरा प्रदर्शनी में अपने छात्र जीवन के दौरान अपनी चित्रकारी के लिए पुरस्कार जी ...

अन्ना करोमी

अन्ना करोमी का जन्म सन १९४० में १८ जुलाई को क्जेह रेपुब्लीक के सेस्की क्रुमलोव में हुआ, ऑस्ट्रिया में पली-बड़ी, फ्रांस में रही और इटली में कार्य किया, उन्ह की सराहना कई यूरोपेँस दूर की गयी। द्रुतीय विश्व युध अन्तकाल में वे अपने परिवार के साथ बोहे ...

क्योनागा

टोरी क्योनागा जापान का रंगमंचीय कलाकार। उरागा में जन्म; टोकियो में कियोमित्सू द्वारा चित्रशिक्षण। गुरु के मरने के बाद उनकी संपत्ति का स्वामी बना और रंगमंच चित्रण की महान परंपरा को उसने महत्तर बनाया। रंगमंच के चित्रणों में वह अद्वितीय था। उसके चित ...

जान फ़ान आइक

जान फ़ान आइक नीदरलैण्ड का चित्रकार तथा हूबर्ट आइक का छोटा भाई। वह १५वीं शताब्दी के उत्तरी पुनर्जागरण काल का प्रमुख कलाकार था। दोनों भाई चित्रकारी के इतिहास में प्रसिद्ध हो गए हैं। जान फ़ान आइक मसाइक में जन्मा और ब्रुग्स में मरा।

जेम्स तिस्सो

जेम्स तिस्सो का जन्म नाते Nantes में हुआ। पेरिस के एकोल द ब्युक आर्टस में इंग्रीस और लामोथे के नेतृत्व में शिक्षा प्राप्त की। फ्रांस और जर्मनी की लड़ाई में उसने भाग लिया तथा स्वयं पर शंका किये जाने के कारण पेरिस छोड़कर लंदन चला गया। वहाँ सर सिमौर ...

जेम्स थार्नहिल

जेम्स थार्नहिल ग्रैंड बरोक परंपरा का एकमात्र ब्रिटिश सज्जा चित्रकार था। सेंट पाल के गिरजाघर की गुंबद में उसने सेंट पाल के जीवन से संबंधित आठ पैनेल बनाये । ग्रीनिच अस्पताल के प्रमुख भवन में उसने ऐतिहासिक नायकों के चित्र बनाए ; हैंप्टन कोर्ट की छत ...

जॉन ट्रंबुल

जॉन ट्रंबुल अमरीकन चित्रकार थे। उनका जन्म कानेक्टिकट राज्य के लेबनान स्थान में 6 जून 1756 में हुआ था। उनकी मृत्यु न्यूयार्क, 10 नवम्बर 1843 को हुई थी। हार्वर्ड से स्नातक होने के पश्चात्‌ उन्होंने अमेरिकी स्वातंत्रय युद्ध में भाग लिया था। उन्होंने ...

जॉर्जो मोरांदी

जॉर्जो मोरांदी महान इतालवी चित्रकार थे। उन्होंने बहुत सीमित रंगों का उपयोग करके असंख्य ‘स्टिल लाइफ़’ चित्र बनाए। उनके चित्रों में एक-सी घरेलू वस्तुओं का फीका संयोजन बहुतायत में दीखता है। उनके बाद के लगभग सभी चित्रकारों पर उनकी शैली का प्रभाव पड़ा ...

जोजेफ विलियम मेलार्ड टर्नर

बाल्यकाल से ही टर्नर चित्रकारी किया करते थे। उनके पिता इन चित्रों को अपने केश कर्तनालय में रखते थे और हजामत का कार्य करते करते लगे हाथ उन्हें बेच भी लेते थे। 11 साल की उम्र में उन्होंने सोहो अकादेमी में अपनी शिक्षा शु डिग्री की और कुछ ही वर्ष के ...

तोरीई क्योनोबू

तोरीई क्योनोबू जापान का रंगमंचीय चित्रकार। उसका जन्म टोकियो में हुआ। इसने रंगमंचीय चित्रकारों की एक शालीन परंपरा का प्रारंभ किया। इसका गुरु भी रंगमंचीय साइनबोर्डों का चित्रकार था। क्योनोबू ने आरंभ में ग्रंथ चित्रण का काम किया किंतु शीघ्र ही १९६५ ...

थिओडर रूसो

थिओडर रूसो का जन्म पेरिस मे एक दर्जी के परिवार में हुआ। दृश्य चितेरा चार्ल्स रिमांड और गुइलालेथिएर के मार्गदर्शन में उसने सोलह वर्ष की उम्र में ही कलाशिक्षा पूरी कर ली। फ्रांस में जगह के प्राकृतिक दृश्यों को चित्रित करने के अध्ययन से उसने परिश्रम ...

दुच्चिओ दि बुओसेग्ना

१२७८ में उसने दस्तावेज और कागज रखने के १२ डिब्बों की अत्यंत कलापूर्ण सज्जा प्रस्तुत की। तत्पश्चात् फ्लोरेंस के सेंट मेरिया नोवेला चर्च की एक वेदिका के चित्रण का कार्य उसे सौंपा गया। कुछ अर्से तक वह पुस्तकों के आवरणचित्रों के डिजाइन और अन्य स्फुट ...

दोमेनिको घिर्लांदाइयो

दोमेनिको घिर्लांदाइयो १५वीं शती के फ्लोरेंस का प्रख्यात भित्तिचित्रकार, आकृतियों, वातावरण, भूदृश्यादि के यथार्थ अंकन में प्रवीण। उसका मूल नाम दोमोनिको दि तोमासो बिगोर्दी थी। उसकी प्रारंभिक भित्तिकृत्तियों पर उसके गुरुओं बाल्दोविनती और वेरोचो का प ...

पाल सिनाक

उसकी पहले भवन शिल्प की ओर रुचि थी, किंतु बाद में चित्रकला की प्रवृत्ति जगी। सुप्रसिद्ध फ्रेंच कलाकार विंसेंट बैंगाफ, पाल सेजाँ, पाल गागैं और क्लादे मोने की कला प्रणालियों का अनुसरण करने के कारण उसके दृश्य चित्रणों पर प्रभाववाद हावी हो गया, किंतु ...

बोतोलोमो कादुसी

बातोलोमो कादुसी इटली का चित्रकार था। वह फ़्लोरेंस में जन्मा और जिसने वहीं अपनी कलाशिक्षा ली। अपने समय के प्रचलित कलाकार अमानती से उसने वास्तुशिल्प तथा मूर्तिकला सीखी। चित्रकला की शिक्षा उसे प्रसिद्ध चित्रकार जुकेरो से मिली थी। जुकेरो प्राय: चित्र ...

माइकल एंजेलो

माइकल एंजेलो एक इतालवी मूर्तिकार, चित्रकार, वास्तुकाऔर उच्च पुनर्जागरण युग के कवि थे जो फ्लोरेंस गणराज्य में पैदा हुए थे। उन्हौने पश्चिमी कला के विकास पर एक अद्वितीय प्रभाव डाला था। उन्हें उनके जीवनकाल के दौरान सबसे महान जीवित कलाकार माना जाता था ...

माक्स लीबरमान

माक्स लीबरमान बर्लिन के एक यहूदी बैंकर के घर जन्मा था। पहले उसने बर्लिन विश्वविद्यालय से कानून एवं दर्शन की शिक्षा ली। किन्तु बाद में १८६९ में वीमर Weimar में तथा १८७२ में पेरिस में चित्रकला की शिक्षा ली। उसने १८७६-७७ में नीदरलैण्ड्स में भी चित्र ...

मार्टिन शोंगावर

मार्टिन शोंगावर जर्मनी का नक्काशीकार तथा चित्रकार था। उसके बनाये चित्र तथा उसकी ख्याति दूर-दूर तक पहुँची थी। इटली में वह बेल मार्टिनो तथा मार्टिनो डी अन्वेर्सा के नाम से जाना जाता था।

रैम्ब्राण्ट

रैम्ब्राण्ट हारमनज़ून फ़ान रैन एक प्रसिद्ध डच चित्रकार थे। उन्हें यूरोपीय कला इतिहास में सबसे महत्वपूर्ण चित्रकारों में से एक स्मरण किया जाता है। डच स्वर्ण युग के दौरान उनके कलात्मक योगदान नज़र में आए थे, जब डच स्वर्ण युग चित्रकारी बेहद उर्वर और ...

लारेंस बिन्यन

लारेंस बियन का जन्म लैंकेस्टर में हुआ था। सेंट पाल स्कूल तथा ट्रिनिटी कालेज में शिक्षा हुई। परसीफ़ोन नामक कविता पर न्यूडीगेट पुरस्कार १८९०; १९२९-३० जापान का भ्रमण; १९३३-३४ अमरीका के हार्वर्ड विश्वविद्यालय में कविता पढ़ाने के लिए चार्ल्स इलियट नॉर ...

लोरेंज़ो मोनाको

लोरेंज़ो मोनाको इटालियन चित्रकार। इनका जन्म सियेना में हुआ। वर्जिन का राज्याभिषेक शीर्षक चित्र से सिद्ध होता है कि उसने पुनर्जागरण काल के पूर्व की यथार्थवादी शैली को अपनाया था। फ्लोरेंटिन परंपरा के सियेनिज शैली के चित्रकार जिआत्तो की कला में, रंज ...

वार्विक गोब्ले

वारविक गोब्ले बच्चों की पुस्तकों के चित्रकार थे। उन्होने जापानी और भारतीय प्रसंगों पर विशेष चित्र बनाये।

स्वामी सुंदरानंद

स्वामी सुंदरानंद विश्व में फोटोग्राफर, पर्वतारोही और योगी के रूप में प्रसिद्ध हैं। स्वामी जी पिछले पचास सालों में सिकुड़ते गंगोत्री ग्लेशियर के पचास हजार से ज्यादा फोटो ले चुके हैं और देश दुनिया को इस खतरे से आगाह करते रहे हैं। इस आर्ट सेंटर में ...

किम फिल्बी

किम फिल्बी ब्रिटेन की गुप्तचर एजेंसी में कई वर्षों की सेवा के बाद के उप-प्रमुख के पद पर कार्यरत थे जब एक दिन अचानक वे गायब हो गए और कुछ समय बाद खबर आई कि वे रूस में हैं और यह भी कि वे वास्तव में रूसी गुप्तचर एजेंसी केजीबी के एजेंट थे। शीत युद्ध क ...

नूर इनायत ख़ान

नूर-उन-निसा इनायत ख़ान भारतीय मूल की ब्रिटिश गुप्तचर थीं, जिन्होंने द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान मित्र देशों के लिए जासूसी की। ब्रिटेन के स्पेशल ऑपरेशंस एक्जीक्यूटिव के रूप में प्रशिक्षित नूर द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान फ्रांस के नाज़ी अधिकार क्षे ...

गुप्तचर

गुप्त रूप से राजनीतिक या अन्य प्रकार की सूचना देनेवाले व्यक्ति को गुप्तचर या जासूस कहते हैं। इनके कार्य को गुप्तचर्या या गुप्तचरी कहते हैं। इनके द्वारा जो सूचना एकत्र की जाती है उसे आसूचना कहते हैं। गुप्तचर अति प्राचीन काल से ही शासन की एक महत्वप ...

माता हारी

माता हारी) एक प्रसिद्ध जासूस थी। उसका वास्तविक नाम मार्गरेट गीरत्रुइदा मारग्रीत मैकलाऑयद था। वह कामोत्तेजक नृत्यांगना थी। प्रथम विश्वयुद्ध में उसे जर्मनों की तरफ से फ्रांस की जासूसी करने के आरोप में गोली मार दी गयी।

रजनी पंडित

रजनी पंडित एक निजी अन्वेषक हैं। महिला जासूसों की दुनिया में रजनी को महाराष्ट्र की प्रथम महिला जासूस माना जाता है। कभी-कभी उन्हें भारत की प्रथम महिला जासूस भी माना जाता है। उन्होंने अपने कार्य से सम्बंधित कुछ पुस्तकें भी लिखी हैं और भारत की मसहूर ...

छद्मावरण

छद्मावरण शत्रु को उन सभी जानकारियों से वंचित रखने का सैनिक विज्ञान है जिनसे वह युद्धपरिचालन में लाभान्वित हो सकता है। छद्मावरण विज्ञान छिपने के प्राकृतिक साधनों के उपयोग तथा कृत्रिम साधनों के निर्माण का ज्ञान प्रदान करता है।

विश्राम

सब प्रकार के जीवों को कार्य के बाद विश्राम की आवश्यकता पड़ती है, जिससे थकावट दूर हो जाए। थकावट मानसिक तथा शारीरिक, दोनों होती हैं और विश्राम से दोनों प्रकार की थकावट दूर होती है। हृदयगाति, श्वसन क्रिया, मांसपेशियों के संकुंचन आदि जीवन की आवश्यक क ...

ज़ोया अफ़रोज़

ज़ोया अफ़रोज़ एक भारतीय अभिनेत्री और मॉडल हैं। हम साथ-साथ हैं और कुछ ना कहो जैसी फिल्मों में काम करने वाली जोया ने नौ साल की उम्र में अभिनय की दुनिया में कदम रखा था। उन्होंने टीवी शो सोन परी में भी काम किया है।

संध्या अग्रवाल

संध्या अग्रवाल एक पूर्व भारतीय महिला क्रिकेट खिलाड़ी है जो कि भारतीय महिला क्रिकेट टीम की कप्तान भी रह चुकी है। इनका जन्म भारतीय राज्य मध्य प्रदेश के इंदौर शहर में १९६३ में हुआ था। संध्या ने भारतीय महिला टीम के लिए १९८४ से १९९५ तक कुल तेरह टेस्ट ...

अदिति अशोक

अदिति अशोएक भारतीय प्रोफेशनल गोल्फ़र है। उन्होंने 2016 ग्रीष्मकालीन ओलम्पिक खेलों में भारत का प्रतिनिधित्व किया। इस स्पर्धा मेम बआग लेने वाले खिलाड़ियों में वे सबसे कम उम्र की खिलाड़ी थी।

जेफ बेनेट

जेफरी ग्लेन "जेफ" बेनेट या जेफ बेनेट है एक अमेरिकी आवाज अभिनेता और गायक। वह सबसे अच्छा के रूप में जाना जाता है: की आवाज जॉनी ब्रेवो एक ही नाम का उपयोग करते हुए एक आवाज है कि एल्विस प्रेस्ली की तरह लग रहा था की श्रृंखला में। उन्होंने यह भी पेट्री ...

प्रमिला भट्ट

प्रमिला भट्ट एक पूर्व भारतीय महिला क्रिकेट खिलाड़ी है जो घरेलू क्रिकेट बैंगलोर के लिए खेलती थीं। इन्होंने १९९० से १९९६ तक भारतीय महिला क्रिकेट टीम के लिए ५ टेस्ट मैच खेले थे जबकि१९९३ से १९९८ तक २२ एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों में भी हिसा रही थीं ...

शब्दकोश

अनुवाद
Free and no ads
no need to download or install

Pino - logical board game which is based on tactics and strategy. In general this is a remix of chess, checkers and corners. The game develops imagination, concentration, teaches how to solve tasks, plan their own actions and of course to think logically. It does not matter how much pieces you have, the main thing is how they are placement!

online intellectual game →