ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 302

बूर्जुआ

और अर्थशास्त्र में मध्य वर्ग से अधिक धनवान श्रेणी को कहा जाता है और इस शब्द का प्रयोग बाएँ की राजनीति के सन्दर्भ में अधिक होता है। यह मूल रूप से फ़्रांसीसी भाषा का शब्द है। यूरोप में १८वीं सदी में इस वर्ग को पूँजीपति और पूँजी से सम्बंधित संस्कृति ...

वर्गविहीन समाज

वर्गविहीन समाज से तात्पर्य ऐसे समाज से है जिसमें किसी भी व्यक्ति का जन्म किसी सामाजिक वर्ग में नहीं होता। वर्गविहीन समाज में सम्पत्ति, आय, शिक्षा, संस्कृति, या सामाजिक नेटवर्क आदि के अन्तर बाद में पैदा हो सकते हैं, किन्तु वे सभी व्यक्ति की अपने अ ...

सफेदपोश कर्मचारी

सफेदपोश कर्मचारी वह व्यक्ति होता है जो पेशेवर, प्रबंधकीय या प्रशासनिक कार्य करता है यानी शारीरिक श्रमविहीन कार्यों द्वारा आजीविका प्राप्त करता है। सफेदपोश का काम किसी कार्यालय या अन्य प्रशासनिक व्यवस्था में किया जा सकता है।

सर्वहारा

सर्वहारा समाजशास्त्र, राजनीति और अर्थशास्त्र में समाज की नीचे वाली श्रेणियों को कहा जाता है, जो अक्सर शारीरिक श्रम से जीवनी चलाते हैं। औद्योगिक समाजों में अक्सर कारख़ानों में काम करने वाले मज़दूरों को प्रोलिटेरियट​ कहा जाता था लेकिन कभी-कभी कृषको ...

ख़सरा

भारत और पाकिस्तान में ख़सरा एक कृषि-सम्बन्धी क़ानूनी दस्तावेज़ होता है जिसमें किसी गाँव के ज़मीन के किसी टुकड़े और उस पर उगाई जा रही फसलों का ब्यौरा लिखा होता है। इसका प्रयोग एक शजरा नामक दस्तावेज़ के साथ किया जाता है जिसमें पूरे गाँव का मानचित्र ...

पटवारी

पटवारी या लेखपाल राजस्व विभाग में ग्राम लेवल का अधिकारी होता है। इन्हें विभिन्न स्थानों पर अन्य नामों से भी जाना जाता है जैसे:-, कारनाम अधिकारी, शानबोगरु,लेखपालआदि। यह भारतीय उपमहाद्वीप के ग्रामीण क्षेत्रों में सरकार का प्रशासनिक पद होता है। ये अ ...

शजरा

शजरा भारत और पाकिस्तान में किसी गाँव के ऐसे नक़्शे को कहते हैं जिसका प्रयोग उस गाँव के खेतों या अन्य ज़मीन की पट्टीयों का कानूनी तौपर स्वामित्व बताने के लिए और प्रशासनिक कार्यों के लिए होता है। गाँव का शजरा पूरे गाँव को ज़मीन की पट्टीयों में बांट ...

अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निरोधक) अधिनियम, 1989

अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति अधिनियम 1989 को 11 सितम्बर 1989 में भारतीय संसद द्वारा पारित किया था, जिसे 30 जनवरी 1990 से सारे भारत में लागू किया गया। यह अधिनियम उस प्रत्येक व्यक्ति पर लागू होता हैं जो अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति का सदस ...

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता

किसी सूचना या विचार को बोलकर, लिखकर या किसी अन्य रूप में बिना किसी रोकटोक के अभिव्यक्त करने की स्वतंत्रता अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता freedom of expression कहलाती है। अत: अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की हमेशा कुछ न कुछ सीमा अवश्य होती है। भारत के संविधा ...

दासप्रथा (पाश्चात्य)

मानव समाज में जितनी भी संस्थाओं का अस्तित्व रहा है उनमें सबसे भयावह दासता की प्रथा है। मनुष्य के हाथों मनुष्य का ही बड़े पैमाने पर उत्पीड़न इस प्रथा के अंर्तगत हुआ है। दासप्रथा को संस्थात्मक शोषण की पराकाष्ठा कहा जा सकता है। एशिया, यूरोप, अफ्रीका ...

पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों की स्थिति

पाकिस्तान में मुसलमानों के अलावा हिन्दू, सिख, ईसाई तथा अन्य जातीय और धार्मिक अल्पसंख्यक रहते हैं किन्तु पश्चिम के धार्मिक स्वतन्त्रता समूहों एवं मानवाधिकार समूहों का कहना है कि वहाँ धार्मिक अल्पसंख्यकों के साथ बहुत भेदभाव बरता जाता है।

पाकिस्तान में धार्मिक भेदभाव

पाकिस्तान बनने के बाद से ही वहाँ धार्मिक भेदभाव और धार्मिक उत्पीड़न एक गम्भीर समस्या है। वहाँ के हिन्दू, सिख, ईसाई और अहमदिया मुसलमानों को असहनीय उत्पीड़न का सामना करना पड़ता है। उनके धार्मिक स्तहलों पर आक्रमण किए जाते हैं, उनकी लड़कियों का अपहरण ...

प्रिज़्म (निगरानी कार्यक्रम)

प्रिज़्म 2007 से संयुक्त राज्य अमेरिका की राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी द्वारा संचालित एक गुप्त जन इलेक्ट्रॉनिक निगरानी डेटा खनन कार्यक्रम है। प्रिज़्म डाटा संग्रह के प्रयास के लिए एक सरकारी कोड नाम है जिसे आधिकारिक तौपर SIGAD US-984XN शीर्षक से जाना ...

बाल अधिकार

बाल अधिकार नाबालिगों की देखभाल और विशिष्ट सुरक्षा के रूप में बच्चों को मिलने वाले व्यक्तिगत मानवाधिकारों को कहा जाता है। बाल अधिकार सम्मेलन १९८९ की परिभाषा के अनुसार "कोई भी व्यक्ति जिसकी आयु १८ वर्ष से कम है, जब तक कि नियम में परिभाषित वयस्कता क ...

भारत के मूल अधिकार, निदेशक तत्त्व और मूल कर्तव्य

मूल अधिकार, राज्य की नीति के निदेशक तत्त्व और मूल कर्तव्य भारत के संविधान के अनुच्छेद हैं जिनमें अपने नागरिकों के प्रति राज्य के दायित्वों और राज्य के प्रति नागरिकों के कर्तव्यों का वर्णन किया गया है। इन अनुच्छेदों में सरकार के द्वारा नीति-निर्मा ...

मानवाधिकार

मानव अधिकारों से अभिप्राय "मौलिक अधिकार एवं स्वतंत्रता से है जिसके सभी मानव प्राणी हकदार है। अधिकारों एवं स्वतंत्रताओं के उदाहरण के रूप में जिनकी गणना की जाती है, उनमें नागरिक और राजनैतिक अधिकार सम्मिलित हैं जैसे कि जीवन और आजाद रहने का अधिकार, अ ...

मानवाधिकारों की सार्वभौम घोषणा

संयुक्त राष्ट्र के चार्टर में यह कथन था कि संयुक्त राष्ट्र के लोग यह विश्वास करते हैं कि कुछ ऐसे मानवाधिकार हैं जो कभी छीने नहीं जा सकते; मानव की गरिमा है और स्त्री-पुरुष के समान अधिकार हैं। इस घोषणा के परिणामस्वरूप संयुक्त राष्ट्र संघ ने 10 दिसम ...

विनायक सेन

विनायक सेन भारत के छत्तीसगढ़ राज्य के राजनीतिक-सामाजिक कार्यकर्ता हैं जिनको वहाँ के एक न्यायालय ने देशद्रोह का अपराधी पाया है और उन्हें आजीवन कारावास की सजा सुनाई है।

समता का अधिकार

समता का अधिकार वैश्विक मानवाधिकार के लक्ष्यों के प्राप्ति की दिशा में एक महत्वपूर्ण पड़ाव है। संयुक्त राष्ट्र घोषणापत्र के अनुसार विश्व के सभी लोग विधि के समक्ष समान हैं हक़दार हैं। -------- तिरु. 750 राकेश सिहं पेन्द्रो!

आठ घण्टे का कार्य-दिवस आंदोलन

आठ घण्टे का कार्य-दिवस आंदोलन या 40-घण्टे का कार्य-सप्ताह आंदोलन मजदूरों के कार्य-दिवस की अवधि को कम करने के लिए एक आंदोलन था। इस से पहले एक कार्य-दिवस की अवधि 12 से 16 घण्टे होती थी।

भारतीय श्रम कानून

भारतीय श्रम कानून से आशय भारत के उन कानूनों से है जो भारत में श्रम एवं रोजगार का नियमन करतीं हैं। भारत में पचास से भी अधिक राष्ट्रीय श्रम कानून तथा बहुत से राज्यनिर्मित श्रम कानून हैं।

वि-उपनिवेशीकरण

वि-उपनिवेशीकरण अथवा विउपनिवेशीकरण किसी उपनिवेश को समाप्त करने के सम्बंध में प्रयुक्त शब्द है जहाँ एक राष्ट्र का निर्माण होता है जो स्वतंत्और सम्प्रभू राष्ट्र के रूप में स्थापित होता है। द्वितीय विश्व युद्ध के प्रारंभ में श्रमिक संघों एवं नेताओं न ...

संसदीय सम्प्रभुता

संसदीय सम्प्रभुता कुछ संसदीय लोकतन्त्रों के संवैधानिक विधि की एक अवधारणा हैं। इसकी यह धारणा होती है कि, विधायी निकाय के पास पूर्ण सम्प्रभुता होती है, और वह सभी अन्य सरकारी संस्थानों, जिसमें कार्यपालिका या न्यायिक निकाय समावेशित हैं, से सर्वोच्च ह ...

मनसा खांट

ठाकोर मनसा सिंहजी खांट गुजरात के खांट कोली थे। मनसा ने गुजरात मे मुग़लों के खिलाप विद्रोह कर दिया था।जूनागढ़ रियासत का नवाब गुजरात सल्तनत में फौजदार था तो मनसा खांट ने जूनागढ़ रियासत में उत्पात मचा दिया था। मनसा खांट ने कोलियों को इकट्ठा किया और ...

युद्ध अपराध

सैनिकों अथवा अन्यान्य व्यक्तियों के प्रतिकूल या लगभग उसी तरह के काम, जिनके लिये पकड़े जाने पर शत्रुओं के द्वारा वे दंडित किए जा सकते हैं, युद्ध अपराध कहे जाते हैं। अंतरराष्ट्रीय कानून के विरूद्ध किगए काम, जो अभियुक्त के अपने देश के कानून के प्रति ...

आर्थिक राजनय

आर्थिक राजनय, राजनय की वह शैली है जिसमें राष्ट्र के हितों की प्राप्ति के लिये सभी प्रकार के आर्थिक औजारों का सहारा लिया जाता है। आर्थिक राजनय के अन्तर्गत आयात, निर्यात, निवेश, ऋण, सहायता, मुक्त व्यापार संधि आदि सम्मिलित हैं।

द्विपक्षीय राजनय

द्विपक्षीय राजनय का तात्पर्य है - दो पक्षों के मध्य सम्बन्ध। दो राज्यों के बीच राजनय को द्विपक्षीय राजनय कहते हैं। राजनय के द्वारा दो राज्यों के बीच की समस्याओं को हल किया जाता है। यदि राष्ट्रीय समस्याएं जटिल हैं तो इनके समाधान के लिए दोनों राज्य ...

नयाचार

अन्तरराष्ट्रीय राजनीति में, राज्य तथा राजनय के कार्यकलापों से सम्बन्धित शिष्टाचार को नयाचार कहते हैं। उन अन्तरराष्ट्रीय समझौतों को भी प्रोटोकॉल कहते हैं जो किसी संधि में कुछ परिवर्तम या परिवर्धन करता है।

शब्दकोश

अनुवाद
Free and no ads
no need to download or install

Pino - logical board game which is based on tactics and strategy. In general this is a remix of chess, checkers and corners. The game develops imagination, concentration, teaches how to solve tasks, plan their own actions and of course to think logically. It does not matter how much pieces you have, the main thing is how they are placement!

online intellectual game →