ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 148

जननेन्द्रिय हर्पीज

जननेन्द्रिय हर्पीज़ या परिसर्प एक यौन संचारित रोग है जो कि हर्पिस सिम्प्लेक्स नामक विषाणु प्रकार - 1 और टाइप - 2 से पैदा होता है। वर्ष १९९८ में किये गये एक अध्ययन से यह बात सामने आयी थी कि यौनिक रूप से संचारित रोगों में यह रोग सबसे आम है। । इस रो ...

प्रमेह

प्रमेह या गोनोरिया एक यौन संचारित बीमारी है। गोनोरिया नीसेरिया गानोरिआ नामक जीवाणु के कारण होता है जो महिलाओं तथा पुरुषों के प्रजनन मार्ग के गर्म तथा गीले क्षेत्र में आसानी और बड़ी तेजी से बढ़ती है। इसके जीवाणु मुंह, गला, आंख तथा गुदा में भी बढ़त ...

शीघ्रपतन

शीघ्र गिर जाने को शीघ्रपतन कहते हैं। सेक्स के मामले में यह शब्द वीर्य के स्खलन के लिए प्रयोग किया जाता है। पुरुष की इच्छा के विरुद्ध उसका वीर्य अचानक स्खलित हो जाए, स्त्री सहवास करते हुए संभोग शुरू करते ही वीर्यपात हो जाए और पुरुष रोकना चाहकर भी ...

सिकल-सेल रोग

सिकल-सेल रोग या सिकल-सेल रक्ताल्पता या ड्रीपेनोसाइटोसिस एक आनुवंशिक रक्त विकार है जो ऐसी लाल रक्त कोशिकाओं के द्वारा चरितार्थ होता है जिनका आकार असामान्य, कठोर तथा हंसिया के समान होता है। यह क्रिया कोशिकाओं के लचीलेपन को घटाती है जिससे विभिन्न जट ...

आंतरिक रक्तस्राव

जब वाहिका तंत्र से निकलकर रक्त, शरीर गुहा जाकर नष्ट होता है तो उसे आंतरिक रक्तस्राव कहते हैं। यह एक गंभीर चिकित्सीय आपातस्थिति है और गंभीरता की सीमा इस बात पर निर्भर करता है कि रक्त ह्रास की दर क्या है और रक्तस्राव कहाँ हो रहा है। अगर उचित चिकित् ...

मैरो डोनर रजिस्ट्री इंडिया

थैलेसीमिया के लिये इसके अलावा इस रोग के रोगियों के मेरु रज्जु ट्रांस्प्लांट हेतु अब भारत में भी बोनमैरो डोनर रजिस्ट्री खुल गई है। मैरो डोनर रजिस्ट्री इंडिया में बोनमैरो दान करने वालों के बारे में सभी आवश्यक जानकारियां होगी जिससे देश के ही नहीं वर ...

परिधीय संवहिनी रोग

परिधीय संवहिनी रोग, जिसे परिधीय धमनी रोग या पेरिफेरल आर्टरी ऑक्ल्यूसिव डिज़ीज़ भी कहते हैं, हाथों व पैरों में बड़ी धमनियों के संकरा होने से पैदा होने वाली रक्त के बहाव में रुकावट के कारण होने वाली सभी समस्याओं को कहते हैं। इसका परिणाम आर्थेरोस्क् ...

पीठ दर्द

पीठ दर्द पीठ में होनेवाला वह दर्द है, जो आम तौपर मांसपेशियों, तंत्रिका, हड्डियों, जोड़ों या रीढ़ की अन्य संरचनाओं में महसूस किया जाता है। इस दर्द को अक्सर गर्दन दर्द, पीठ के उपरी हिस्से के दर्द,पीठ के निचले हिस्से के दर्द या टेलबोन के दर्दरीढ़ के ...

चिंता

चिंता संज्ञानात्मक, शारीरिक, भावनात्मक और व्यवहारिक विशेषतावाले घटकों की मनोवैज्ञानिक और शारीरिक दशा है। यह घटक एक अप्रिय भाव बनाने के लिए जुड़ते हैं जो की आम तौपर बेचैनी, आशंका, डर और क्लेश से सम्बंधित हैं। चिंता एक सामान्यकृत मनोदशा है जो कि प् ...

झुनझुनी

किसी व्यक्ति की त्वचा में जलन, चुभन या सुई चुभोने जैसी अनुभूति झुनझुनी या चुमचुमायन कहलाती है। प्रायः इसका कोई दीर्घकालिक प्रभाव प्रभाव नहीं होता।

थकान (चिकित्सा)

थकान या श्रांति एक एसी स्थिति है जो एक विशिष्ट श्रेणी में जागरूकता की वेदनाओं का वर्णन करता है, आमतौपर ये शारीरिक और/या मानसिक कमजोरी से जोड़ा जाता है, हालांकि ये एक सामान्य सुस्ती से लेकर विशिष्ट काम करने की वजह से कुछ खास मास पेसियो में जलन का ...

निराशा (मनोदशा)

निराशा एक स्थिति है जो निम्न मनोदशा और काम के प्रति अरुचि को दर्शाती है। उदास व्यक्ति दुखी, उत्सुक हो सकता है, खाली, निराश, बेबस, बेकार, दोषी, चिड़चिड़ा या बेचैन होता है। इसमे व्यक्ति की जो गतिविधियों उसके लिए आनन्ददायक थी उसमे अपनी रूचि खो सकता ...

भ्रमासक्ति

ऐसी आस्था या विचार को भ्रमासक्ति कहा जाता है जिसे गलत होने का ठोस प्रमाण होने के वावजूद भी व्यक्ति उसे नहीं छोड़ता। यह उस आस्था से अलग है जिसे व्यक्ति गलत सूचना, अज्ञान, कट्टरपन आदि के कारण पकड़े रहता है। मनोरोग विज्ञानpsychologyके अनुसार इस शब्द ...

मांसपेशियों की कमजोरी

यहाँ" शक्तिहीनता" पुनर्निर्देश. आजकल. Tortrix कीट की एक जीनस Epinotia है कनिष्ठ पर्याय माना जाता है कमजोरी, थकान, अलग परिस्थितियों का वर्णन करने के लिए एक लक्षण का उपयोग करने के लिए, की संख्या सहित चक्कर आना: मांसपेशियों के कनवास, बीमारी.कई का का ...

मिक्रोप्सिया

मिक्रोप्सिया मानव के दृश्य धारणा की स्थिति को संबोधित करता है। जिसमे वस्तुओं को वास्तव से छोटी आकार में देखना माना जाता है। मिक्रोप्सिया आँख में ऑप्टिकल छवियों के विरूपण से या एक स्नायविक रोग द्वारा भी हो सकता है। मिक्रोप्सिया दृश्य विरूपण के अला ...

कांगो ज्वर

कांगो ज्वर) एक विषाणुजनित रोग है। यह विषाणु पूर्वी एवं पश्चिमी अफ्रीका में बहुत पाया जाता है और ह्यालोमा टिक से पैदा होता है। यह वायरस सबसे पहले 1944 में क्रीमिया नामक देश में पहचाना गया। फिर 1969 में कांगो में रोग दिखा। तभी इसका नाम सीसीएचएफ पड़ ...

हेपेटाइटिस सी

यकृतशोथ ग एक संक्रामक रोग है जो हेपेटाइटिस सी वायरस एचसीवी की वजह से होता है और यकृत को प्रभावित करता है. इसका संक्रमण अक्सर स्पर्शोन्मुख होता है लेकिन एक बार होने पर दीर्घकालिक संक्रमण तेजी से यकृत के नुकसान और अधिक क्षतिग्रस्तता की ओर बढ़ सकता ...

संक्रामक रोगों की सूची

पीत ज्वर स्वाइन फ्लू पोलियो बेेलस प्लेग डेंगू ज्वर हेपेटाइटिस बी हेपेटाइटिस सी हैजा तानिकाशोथ हेपेटाइटिस ए क्षय हेपेटाइटिस डी सूजाक खसरा मियादी बुखारटायफॉयड मलेरिया कोरोना वायरस palicy इनफ्लुएंजा उपदंश छोटी माता हेपेटाइटिस ई चेचक कुष्ट रोग एडस टेटनस

श्वासनली के निचले हिस्से का संक्रमण

निचली श्वासनली, स्वर ग्रंथि के नीचे स्थित श्वसन पथ का ही एक भाग है। इस शीर्षक, श्वसन पथ के निचले भाग का संक्रमण, का प्रयोग प्रायः निमोनिया के समानार्थक शब्द के रूप में किया जाता है, लेकिन इसका प्रयोग अन्य प्रकार के संक्रमणों के लिए भी किया जा सकत ...

क्वारंटीन

क्वारंटीन यह लैटिन मूल का शब्द है। इसका मूल अर्थ चालीस है। पुराने समय में में जिन जहाजों में किसी यात्री के रोगी होने अथवा जहाज पर लदे माल में रोग प्रसारक कीटाणु होने का संदेह होता तो उस जहाज को बंदरगाह से दूर चालीस दिन ठहरना पड़ता था। ग्रेट ब्रि ...

खाद्य जनित रोग

खाद्यजनित रोग दूषित भोजन के सेवन के परिणाम स्वरुप उत्पन्न कोई रोग है। खाद्य विषाक्तता दो प्रकार की होती है: संक्रामक एजेंट और विषाक्त एजेंट. खाद्य संक्रमण उन जीवाणुओं या अन्य रोगाणुओं की उपस्थिति को सन्दर्भित करता है जो सेवन के बाद शरीर को संक्रम ...

पशुजन्यरोग

ज़ूनोसिस या ज़ूनोस कोई भी ऐसा संक्रामक रोग है जो गैर मानुषिक जानवरों, घरेलू और जंगली दोनों ही, से मनुष्यों में या मनुष्यों से गैर मानुषिक जानवरों में संक्रमित हो सकता है. ज़ूनोसिस की एक सरल परिभाषा है एक रोग जो कशेरुक जानवरों से दूसरे में प्रेषित ...

सिस्टसरकोसिस

सिस्टसरकोसिस एक ऊतकीय संक्रमण है जो फीताकृमि के लार्वा द्वारा होता है। लोगों को बरसों तक इसके कोई भी लक्षण नहीं हो सकते हैं या बेहद कम लक्षण प्रकट हो सकते हैं, इसके चलते त्वचा या मांसपेशियों में लगभग एक या दो सेंटीमीटर के दर्दरहित ठोस उभार उत्पन् ...

हेपेटाइटिस ए

यकृतशोथ एक विषाणु जनित रोग है। यकृतशोथ क यकृत की सूजन होती है जो यकृतशोथ क विषाणु के कारण होती है। इसमें रोगी को काफ़ी चिड़चिड़ापन होता है। इसे विषाणुजनित यकृतशोथ भी कहते हैं। यह बीमारी दूषित भोजन ग्रहण करने, दूषित जल और इस बीमारी से ग्रस्त व्यक् ...

चर्मक्षय सिर दर्द

चर्मक्षय सिर दर्द, प्रणालीगत रक्तिम त्वग्यक्ष्मा से पीड़ित रोगियों में एक प्रस्थापित, विशिष्ट सिरदर्द विकार है। अनुसंधान से पता चलता है कि सिरदर्द एक लक्षण है जिसे आम तौपर एसएलई रोगियों द्वारा वर्णित किया जाता है - 57% एक अधि-विश्लेषण में, जिसकी ...

सिस्ट

सिस्ट, जिसे गाँठ या पुटि भी कहते हैं, शरीर के भीतर झिल्ली में बंद एक असाधारण थैली होती है, जिसकी अंदर कोशिकाएँ आसपास के ऊतकों से अलग आयोजित होती हैं। सिस्ट की परिभाषा के अनुसार यह एक विकृत ढांचा माना जाता है, हालांकि बहुत से सिस्ट शारीर में बिना ...

प्रदाहक आन्त्र रोग

चिकित्सा शास्त्र में, प्रदाहक आन्त्र रोग) बृहदान्त्और छोटी आंत की प्रदाहक दशाओं का एक समूह है। आईबीडी के प्रमुख प्रकार हैं क्रोहन रोग और व्रणमय बृहदांत्रशोथ.

पुनरावृत्त तनाव क्षति

पुनरावृत्त तनाव क्षति, जिसे रेपीटीटिव मोशन इंजरी, रेपीटीटिव मोशन डिसॉर्डर, क्यूमुलेटिव ट्रॉमा डिसॉर्डर आदि नाम भी मिले हैं, मांसपेशियों और तन्त्रिका तन्त्र में समस्या के कारण होने वाली क्षति होती है। आर.एस.आई होने का प्रमुख कारण बार-बार काम को दो ...

अस्थिमृदुता

अस्थिमृदुता या ओस्टीयोमलेशिया व्यस्कों में हड्डी के मुलायम होने को कहते हैं। बच्चों में इस रोग को रिकेट्स कहते हैं। ये प्रायः विटामिन डी की कमी के कारण होता है। इस रोग के होने पर अस्थियों में खनिजन मिनरलाइजेशन पर्याप्त मात्रा में नहीं होता। यह कं ...

सूखा रोग

सूखा रोग हड्डियों का रोग है जो प्राय: बच्चों में होता है। बच्चों में हड्डियों की नरमाई या कमजोर होने को सूखा रोग कहते हैं। परिणामस्वरूप अस्थिविकार होकर पैरों का टेढ़ापन और मेरूदंड में असामान्य मोड आ जाते हैं। इसी प्रकार की विकृति को बड़ों में ऑस् ...

रिकॉम्बिनेंट क्लॉटिंग फैक्टर

रिकॉम्बिनेंट क्लॉटिंग फैक्टर डीएनए से प्राप्त एक पदार्थ है जिसके कारण हीमोफीलिया के उपचार को एक नई राह मिली है। इस क्लॉटिंग फैक्टर को प्राप्त करने में मानव या अन्य किसी प्राणी के रक्त का प्रयोग नहीं किया जाता है। इस तरह संक्रमण का खतरा बिलकुल नही ...

उद: शूल

उर:शूल एक रोग है जिसमें हृदोपरि या अधोवक्षास्थि प्रदेश में ठहर ठहरकर हलकी या तीव्र पीड़ा के आक्रमण होते हैं। पीड़ा वहाँ से स्कंध तथा बाई बाँह में फैल जाती है। आक्रमण थोड़े ही समय रहता है। ये आक्रमण परिश्रम, भय, क्रोध तथा अन्य ऐसी ही मानसिक अवस्था ...

एंजियोग्राफी

एंजियोग्राफी, वाहिकाचित्रण अथवा वाहिकालेख रक्त वाहिनी नलिकाओं धमनी व शिराओं का एक प्रकार का एक्सरे जैसा चिकित्सकीय अध्ययन है, जिसका प्रयोग हृदय रोग, किडनी संक्रमण, ट्यूमर एवं खून का थक्का जमने आदि की जाँच करने में किया जाता है। एंजियोग्राफ में रे ...

गतिप्रेरक

गतिप्रेरक एक ऐसा छोटा उपकरण है, जो मानव हृदय के साथ ऑपरेशन कर लगाया जाता है और मुख्यतः ह्रदय गति को नियंत्रित करने में मदद करता है। इसके द्वारा किये गये प्रमुख कार्यों में ह्रदय गति को उस समय बढ़ाना, जब यह बहुत धीमी हो एवं उस समय धीमा करना, जब यह ...

हृदय रोग

हृदय शरीर का एक महत्त्वपूर्ण अंग है। मानवों में यह छाती के मध्य में, थोड़ी सी बाईं ओर स्थित होता है और एक दिन में लगभग एक लाख बार एवं एक मिनट में 60-90 बार धड़कता है। यह हर धड़कन के साथ शरीर में रक्त को धकेलता रहता है। हृदय को पोषण एवं ऑक्सीजन, र ...

हृदयवाहिका रोग

हृदय रोग या हृदयनलिका रोग ऐसे रोगों का एक समूह है, जो हृदय या रक्त नलिकाओं को ग्रस्त करते हैं. हालांकि इस शब्द का संबंध ऐसे किसी भी रोग से है जो हृदयनलिका तंत्र को प्रभावित करता हो, सामान्यतः इसका प्रयोग मेदकाठिन्य या एथेरोस्क्लेरोसिस से संबंधित ...

ह्वाईट कोट हाईपरटेंशन

कई बार रक्तचाप दो जगह नापा जाएं तो अंतर मिलता है, यहां तक कि नर्स द्वारा नापा गया तो कम आता है और डाक्टर द्वारा नापा गया अधिक। कई बार कार्यालय में रक्तचाप नापा जाए तो अधिक आता है और घर में कम, इसे ह्वाईट कोट हाईपरटेंशन कहते हैं। इस तरह के बढ़े रक ...

सुलभ इन्टरनेशनल

सुलभ शौचालय एक सामाजिक-सेवा से जुडी स्वयंसेवी एवं लाभनिरपेक्ष संस्था है। यह संस्था पर्यावरण की स्वच्छता, अ-परम्परागत ऊर्जा, अपशिष्ट प्रबन्ध, सामाजिक सुधार एवं मानवाधिकार को बढावा देने के क्षेत्र में काम करती है। इस संस्था से लगभग ५०,००० स्वयंसेवक ...

कैलाश चंद्र अग्रवाल

पद्मश्री कैलाश चन्द्र अग्रवाल एक समाजसेवी हैं जो नारायण सेवा संस्थान के संस्थापक एवं मैनेजिंग ट्रस्टी हैं। वे कैलाश मानव के नाम से अधिक विख्यात हैं।

दिव्य प्रेम सेवा मिशन

दिव्य प्रेम सेवा मिशन हरिद्वार स्थित कुष्ट रोगियों की सेवा करने वाली एक संस्था है। इसकी स्थापना सन् १९९७ में श्री आशीष गौतम ने की। उत्तर प्रदेश के हमीरपुर जिले के निवादा ग्राम में जन्मे इलाहाबाद विश्वविद्यालय से कानून की शिक्षा ग्रहण करने वाले इस ...

नारायण सेवा संस्थान, उदयपुर

नारायण सेवा संस्थान भारत के राजस्थान प्रान्त के उदयपुर में स्थित एक सेवाकारी संस्था है। यह पोलियो रोगियों की असमर्थता को दूर करके उनको स्वावलंबी बनाने के प्रयास में संलग्न है। इसे आईएसओ 9001 प्रमाण पत्र प्राप्त है। इसके संस्थापक श्री कैलाश चंद्र ...

शब्दकोश

अनुवाद
Free and no ads
no need to download or install

Pino - logical board game which is based on tactics and strategy. In general this is a remix of chess, checkers and corners. The game develops imagination, concentration, teaches how to solve tasks, plan their own actions and of course to think logically. It does not matter how much pieces you have, the main thing is how they are placement!

online intellectual game →